होम /न्यूज /बिहार /

विपक्षी एकजुटता को मिलेगी नई धार! 25 सितंबर को सोनिया गांधी से मिल सकते हैं लालू यादव और नीतीश कुमार

विपक्षी एकजुटता को मिलेगी नई धार! 25 सितंबर को सोनिया गांधी से मिल सकते हैं लालू यादव और नीतीश कुमार

नीतीश कुमार और लालू यादव आगामी 25 सितंबर को दिल्ली में सोनिया गांधी से मुलाकात कर सकते हैं.

नीतीश कुमार और लालू यादव आगामी 25 सितंबर को दिल्ली में सोनिया गांधी से मुलाकात कर सकते हैं.

Bihar Politics: लोकसभा चुनाव 2024 में विपक्षी एकजुटता दिखाने की कवायद हो रही है. इसी क्रम में हरियाणा के फतेहाबाद में 25 सितंबर को चौधरी देवीलाल की जयंती के मौके पर आयोजित रैली में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार शिरकत करेंगे. इसके बाद शाम को इसी दिन लालू यादव के साथ सोनिया गांधी से मुलाकात कर सकते हैं.

अधिक पढ़ें ...
  • News18Hindi
  • Last Updated :

हाइलाइट्स

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार विपक्षी दलों को एक मंच पर लाने की कवायद कर रहे हैं.
लालू यादव ने दावा किया है कि 2024 में भाजपा सरकार को केंद्र की सत्ता से बाहर कर देंगे.
सोनिया गांधी से नीतीश कुमार और लालू यादव की ये मीटिंग बहुत महत्वपूर्ण मानी जा रही है.

पटना. लोकसभा चुनाव 2024 के मद्देनजर 25 सितंबर को दिल्ली में नीतीश कुमार और लालू प्रसाद यादव की सोनिया गांधी से मुलाकात हो सकती है. बताया जा रहा है कि इसी दिन हरियाणा के फतेहाबाद में चौधरी देवीलाल की जयंती के मौके पर रैली में नीतीश कुमार शिरकत करेंगे. इसमें विपक्षी एकता को दिखाने की पूरी कोशिश की जाएगी. सूत्रों से खबर है कि इस रैली के बाद उसी दिन शाम को 6 बजे सोनिया गांधी के 10 जनपथ स्थित आवास पर नीतीश कुमार की उनसे मुलाकात होगी. इस दौरान राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव भी उनके साथ रहेंगे.

बता दें कि बुधवार को पटना में राजद राज्य परिषद की बैठक में लालू प्रसाद यादव ने भी कहा था कि वे 2024 में भाजपा नीत वाली केंद्र सरकार को सत्ता से बाहर कर देंगे. उन्होंने कहा था, “मैं नीतीश कुमार के साथ दिल्ली जाऊंगा और जल्द ही सोनिया गांधी से मिलूंगा और उनकी यात्रा (भारत जोड़ो यात्रा) से लौटने के बाद राहुल गांधी से भी मिलूंगा.”

बता दें कि बिहार में एनडीए छोड़ महागठबंधन के साथ सरकार बनाने वाले बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को विपक्षी दलों की एकजुटता की कवायद कर रहे हैं. इसी क्रम में वे हाल में ही कई नेताओं से दिल्ली में मिल भी चुके हैं. नीतीश कुमार यह कई बार कह चुके हैं कि बिना कांग्रेस के विपक्ष की एकता सियासी धरातल पर मजबूत नहीं होगी.

नीतीश कुमार और लालू यादव की सोनिया गांधी से संभावित मुलाकात के सियासी मायने हैं. विपक्षी एकता की कवायद में कांग्रेस अगर साथ आती है तो देश की राजनीति के लिहाज से बड़ी बात होगी. बहरहाल, विपक्षी एकता कितनी सफल होगी यह तो भविष्य में पता लगेगा. मगर इतना जरूर है कि नीतीश-लालू के सोनिया गांधी से मिलने के बाद देश की सियासत में हलचल जरूर होगी.

Tags: Lalu Prasad Yadav, Nitish kumar, Opposition unity, Sonia Gandhi

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर