नीतीश कुमार बोले- आरक्षण की सीमा 50 प्रतिशत तक ही रहे जरूरी नहीं

नीतीश कुमार की फाइल फोटो

नीतीश ने कहा कि केंद्र में भी अतिपिछड़ा आरक्षण बिहार की तर्ज पर लागू किया जाए. अतिपिछड़ा में दो लोगों को आरक्षण मिलता है केंद्र में भी EBC और OBC प्रणाली लागू हो.

  • Share this:
    बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने जातिगत जनगणना की समर्थन किया है. पटना में कर्पूरी ठाकुर की जयंती के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में नीतीश ने कहा कि जातिगत जनगणना से कई समस्याएं दूर हो जाएगी. उन्होंने कहा कि आरक्षण की सीमा 50 प्रतिशत ही रहे जरूरी नहीं है. आखिर कब तक ये नियम 50 प्रतिशत तक ही बना रहेगा.

    नीतीश कुमार ने कहा कि जातिगत जनगणना के बाद बदलाव होगा और मेरा मानना है कि आरक्षण 50 प्रतिशत से बढ़ सकता है. उन्होंने कहा कि केंद्र में भी अतिपिछड़ा आरक्षण बिहार की तर्ज पर लागू किया जाए. अतिपिछड़ा में दो लोगों को आरक्षण मिलता है केंद्र में भी EBC और OBC प्रणाली लागू हो. नीतीश ने सवर्ण आरक्षण पर लोगों को सचेत किया और कहा कि कुछ लोग सवर्ण आरक्षण पर भ्रम फैला रहे हैं.

     ये भी पढ़ें- Loksabha Election 2019: बिहार में बाहुबलियों के भरोसे कांग्रेस या कांग्रेस के भरोसे बाहुबली ?

    उन्होंने कहा कि किसी को भ्रम में रहने की जरूरत नहीं है. नीतीश ने ये भी कहा कि सवर्ण आरक्षण मिलने से पहले के आरक्षण पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा. कार्यक्रम के दौरान उन्होंने अतिपिछड़ों के लिए सरकार की योजनाओं को गिनाया. नीतीश ने कहा कि आज गरीबी के कारण कई लोग पढ़ाई छोड़ देते हैं इसका ख्याल रखते हुए हमने नई योजना की शुरुआत की. नई योजना के तहत UPSC का पीटी पास होने पर 1 लाख रुपये मिलेगा वहीं वाहन खरीदने के लिए सरकार 1 लाख रुपये छूट दे रही है.

    नीतीश ने इस दौरान अपने विरोधियों पर भी निशाना साधा और कहा कि आज लोग वोट के लिए घृणा पैदा कर रहे हैं. समाज के अंदर तनाव फैला रहे हैं लेकिन लोग ये जान लें कि नीतीश कुमार को वोट की चिंता नहीं है. हम सिर्फ अपना काम करना जानते हैं.

    इनपुट- रवि एस नारायण

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.