लाइव टीवी

'मेरे साथ रहेंगे तो परफेक्ट पॉलिटिकल एक्टिविस्ट बन जाएंगे प्रशांत किशोर'

News18 Bihar
Updated: April 3, 2019, 10:45 PM IST
'मेरे साथ रहेंगे तो परफेक्ट पॉलिटिकल एक्टिविस्ट बन जाएंगे प्रशांत किशोर'
फाइल फोटो

मुख्यमंत्री ने कहा कि वे हमारे साथ पॉलिटिकल स्ट्रैटेजिस्ट के तौर पर नहीं जुड़े हैं वे पॉलिटिकल एक्टिविस्ट के तौर पर आए हैं. पॉलिटिकल वर्कर और एक्टिविस्ट के तौर पर उन्होंने शुरुआत की है.

  • Share this:
बिहार के सीएम नीतीश कुमार और जेडीयू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर के बीच रिश्तों पर उठ रहे सवालों का जवाब खुद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने ही दिया. उन्होंने Network18 के ग्रुप एडिटर राहुल जोशी को दिए एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में कहा, 'प्रशांत और हमारे बीच में अच्छे रिश्ते हैं. वो हमेशा मेरा सम्मान करते हैं. मेरे मन में भी उनके लिए काफी इज्जत है'

मुख्यमंत्री ने कहा कि वे हमारे साथ पॉलिटिकल स्ट्रैटेजिस्ट के तौर पर नहीं जुड़े हैं वे पॉलिटिकल एक्टिविस्ट के तौर पर आए हैं. पॉलिटिकल वर्कर और एक्टिविस्ट के तौर पर उन्होंने शुरुआत की है. वह
मेरे साथ रहेंगे तो धीरे-धीरे वह परफेक्ट पॉलिटिकल एक्टिविस्ट हो जाएंगे.

ये भी पढ़ें- इस बार राष्‍ट्रवाद के नाम पर लड़ा जाएगा चुनाव? जानें सीएम नीतीश कुमार का जवाब

प्रशांत किशोर के पार्टी पोजिशन को लेकर भी सीएम नीतीश ने स्थिति स्पष्ट की. उन्होंने कहा कि वे वाइस प्रेसिडेंट हैं. नंबर टू और थ्री तो सिर्फ विश्लेषण के लिए हैं. उनके प्रति हमारे मन में कोई संदेह नहीं है.

उन्होंने इस बात पर खुशी जाहिर की कि प्रशांत किशोर ने बिहार के लिए काम करने मन बनाया और बिहार के मिजाज को समझने वाली पार्टी से जुड़े. सीएम नीतीश ने कहा कि किसी को भी राजनीति के मिजाज को समझने में वक्त लगता है और एक पॉलिटिकल वर्कर के तौर पर प्रशांत किशोर की ये शुरुआत है.

सीएम नीतीश ने कहा कि वह हमारी पार्टी में हैं और बहुत अच्छी तरह अपनी जिम्मेदारी निभा रहे हैं. इतना जरूर है कि इतने लोगों से मिलते हैं, कौन क्या कह देगा, क्या बात करेगा ये कोई नहीं जानता. जो नए सिरे से पोलिटिकल एक्टिविटी में आएगा उसको ये बात समझने में थोड़ा सा वक्त लगेगा.
Loading...

ये भी पढ़ें- आरजेडी का साथ छोड़ बीजेपी से क्यों मिलाया था हाथ, सीएम नीतीश ने खुद खोले राज

बता दें, बीते दिनों प्रशांत किशोर ने महागठबंधन तोड़कर एनडीए में जाने के नीतीश कुमार के फैसले पर सवाल उठाए थे. उन्होंने कहा था कि अगर ऐसा करना ही था तो नीतीश कुमार को फ्रेश मैंडेट लेकर जाना चाहिए था. इसके बाद जेडीयू में प्रशांत किशोर का विरोध किया जाने लगा था. यही नहीं इस मामले में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने चुप्पी साध रखी थी.

ये भी पढ़ें- सीएम नीतीश कुमार का लालू यादव पर आरोप, बोले- जेल में फोन का करते हैं इस्तेमाल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 3, 2019, 9:41 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...