जेपी नड्डा से मुलाकात में नीतीश ने चिराग को लेकर जताई नाराजगी, सीट बंटवारे पर भी चर्चा
Patna News in Hindi

जेपी नड्डा से मुलाकात में नीतीश ने चिराग को लेकर जताई नाराजगी, सीट बंटवारे पर भी चर्चा
बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा और नीतीश कुमार के बीच सीट बंटवारे को लेकर चर्चा हुई.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) और बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा (JP Nadda) के बीच थोड़ी देर की मुलाकात हुई. जिसमें सीट बंटवारे और चिराग पासवान (Chirag Paswan) के मुद्दे पर चर्चा हुई.

  • News18 Bihar
  • Last Updated: September 12, 2020, 7:27 PM IST
  • Share this:
पटना. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) और बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा (JP Nadda) के बीच सीट बंटवारे को लेकर चर्चा हुई. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक दोनों के बीच 5 मिनट की मुलाकात हुई. इस दौरान नीतीश कुमार ने चिराग पासवान (Chirag Paswan) को लेकर अपनी नाराजगी बीजेपी अध्यक्ष के सामने रखी. इसके अलावा इस बात पर सहमति बनी कि जल्द से जल्द सीटों का ऐलान हो जाए, ताकि लोगों के बीच संदेश चला जाए. बता दें कि जेडीयू बिहार में ज्यादा सीटों पर चुनाव लड़ना चाहती है.

बिहार दौरे पर हैं नड्डा

बता दें कि भारतीय जनता पार्टी (BJP) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा बिहार दौरे पर हैं. वे यहां प्रदेश भाजपा कार्यालय पटना से 'आत्मनिर्भर बिहार' अभियान की शुरुआत करेंगे. इस अभियान के तहत जेपी नड्डा सबसे पहले दरभंगा और मुजफ्फरपुर का दौरा करेंगे. उनके साथ महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और भूपेंद्र यादव भी होंगे. दरभंगा में मखाना उत्पादन करने वाले किसानों के साथ बैठक करने के साथ भाजपा के अन्य बैठकों को भी संबोधित करने का उनका कार्यक्रम है.




दरभंगा के बाद जेपी नड्डा मुजफ्फरपुर पहुंचेंगे, जहां वे बीजेपी के कार्यक्रम को संबोधित करने के साथ, किसान चाची राजकुमारी देवी और लीची उत्पादन करने वाले किसानों से मुलाकात करेंगे.  वहीं, खबरों के मुताबिक, नड्डा राज्य के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी के आवास पर आयोजित कोर कमेटी की बैठक में शामिल हो सकते हैं.

बीजेपी के सर्वे में नीतीश को लेकर चौंकाने वाली रिपोर्ट 

दरअसल सूत्रों से खबर है कि बीजेपी ने बिहार विधानसभा चुनाव  के लिए पार्टी के जनरल सेक्रेटरी, एमएलसी और प्रदेश उपाध्यक्षों के 90 लोगों की टीम ने  एक इंटरनल सर्वे किया है. सर्वे के आधार पर जो रिपोर्ट बीजेपी के पास आई है वो चौंकाने वाली है. दरअसल, इसमें यह बात सामने आई है कि बिहार में 15 साल से सत्ता के शीर्ष पर बैठे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के खिलाफ इस बार एंटी इनकम्बेंसी फैक्टर काफी अधिक है.

पीएम के नाम-काम पर वोट मांगेगी बीजेपी 

सूत्र बताते हैं कि सर्वे में यह बात सामने आई है कि सीएम नीतीश कुमार के वर्तमान कार्यकाल के कामकाज से लोग खुश नहीं हैं. यही वजह है कि भाजपा ने इस चुनाव में यह तय किया है कि वो ज़्यादा जोर पीएम नरेंद्र मोदी के नाम और काम पर ही देगी. भाजपा का इस बार का चुनावी नारा भी प्रधानमंत्री के आत्मनिर्भर भारत की तर्ज़ पर आत्मनिर्भर बिहार है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज