• Home
  • »
  • News
  • »
  • bihar
  • »
  • शराबबंदी को लेकर फिर से सख्त हुए नीतीश कुमार, अधिकारियों को कहा- कोई भी माफिया बचने न पाये

शराबबंदी को लेकर फिर से सख्त हुए नीतीश कुमार, अधिकारियों को कहा- कोई भी माफिया बचने न पाये

पटना में शराबबंदी की समीक्षा के लिए अधिकारियों के साथ बैठक करते सीएम

पटना में शराबबंदी की समीक्षा के लिए अधिकारियों के साथ बैठक करते सीएम

Bihar Liquor Ban: बिहार में हाल के दिनों में शराब की तस्करी में काफी तेजी आई है. यही कारण है कि रोजाना प्रदेश के किसी न किसी जिले से भारी मात्रा में शराब की रिकवरी हो रही है.

  • Share this:
पटना. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) ने शराब को लेकर अपने अधिकारियों को सख्त निर्देश दिया है. सीएम ने शराब पीने वालों के साथ-साथ शराब के धंधे में शामिल लोगों पर भी नकेल कसने का निर्देश दिया साथ ही अधिकारियों को शराब के सेवन से होने वाले नुकसान के बारे में लोगों को सोशल मीडिया (Social Media) और दूसरे प्रचार तंत्रों के माध्यम से सचेत और जागरूक करने पर भी जोर दिया.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में मद्य निषेध, उत्पाद एवं निबंधन विभाग की समीक्षा बैठक हुई. बैठक में पुलिस महानिदेशक एस0के0 सिंघल ने बताया कि सभी जिलों से शराब की बड़े पैमाने पर रिकवरी की जा रही है. डीजीपी ने कहा कि शहरी क्षेत्रों के साथ-साथ ग्रामीण क्षेत्रों में भी इसको लेकर विशेष अभियान चलाया जा रहा है और बड़े-बड़े शराब के गोदाम भी पकड़े जा रहे हैं. शराब के धंधे से जुड़े लोगों के साथ-साथ राज्य के बाहर के भी बड़े शराब कारोबारियों, जो यहां शराब की सप्लाई करते हैं उन्हें भी गिरफ्तार कर कार्रवाई की जा रही है.

बैठक के दौरान मुख्यमंत्री ने निर्देश देते हुये कहा कि शराब पीने वालों के साथ-साथ शराब के धंधेबाजों पर भी पूरी तरह से नकेल कसें. शराब के धंधे में लिप्त कोई भी व्यक्ति बच नहीं पाए. जो भी शराब माफिया कार्रवाई के बाद जेल जाते हैं, उनके फिर जेल से बाहर आने के बाद उनकी हर गतिविधि पर नजर बनाए रखने का भी निर्देश नीतीश कुमार ने दिया.

सीएम ने साफ शब्दों मे कहा कि शराब पीना बुरी चीज है और इस बारे में लोगों को जागरूक करने की भी जरूरत है. मुख्यमंत्री ने कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा वर्ष 2018 में रिपोर्ट प्रकाशित हुई थी, जिसमें विश्व भर में शराब पीने से होने वाले नुकसान के संबंध में विस्तृत जानकारी दी गई थी, इसमें बताया गया था कि शराब पीने के कारण दुर्घटनाएं, आत्महत्याएं एवं कई दूसरे प्रकार की बीमारियां होती हैं.

लोगों को शराब के सेवन से होने वाली क्षति के बारे में सोशल मीडिया और अन्य प्रचार तंत्रों के माध्यम से सचेत और जागरुक करने की भी जरूरत पर सीएम ने बल दिया. सोशल मीडिया के माध्यम से शराब माफियाओं की गिरफ्तारी एवं उन पर की जा रही कार्रवाई के संबंध में भी लोगों को जानकारी देंने का निर्देश सीएम द्वारा दिया गया. उन्होंने निर्देश देते हुये कहा कि नीचे से लेकर ऊपर तक के सभी पदाधिकारियों को तत्पर रहकर काम करने की जरुरत है.

सीएम ने कहा कि मुख्यालय स्तर से लगातार इसकी समीक्षा करते रहें. प्रतिदिन जमीनी स्तर पर की जा रही कार्रवाई की रिपोर्ट लें. देशी शराब के धंधेबाजों के खिलाफ भी छापेमारी कर कार्रवाई करें. मुख्यमंत्री ने कहा कि शराब के धंधे और शराब पीने वाले लोगों की जानकारी मिलने पर तत्काल सूचना देने के लिए बिजली के खंभों पर फोन नंबर अंकित किए गए हैं, उस नंबर पर सूचना देने वालों का नाम गोपनीय रखा जाता है और शिकायत मिलने पर तत्काल कार्रवाई की जाती है. उन्होंने निर्देश दिया कि कॉल सेंटर को ठीक ढंग से फंक्शनल रखें और शिकायत मिलने पर सख्त और त्वरित कार्रवाई करें, इसमें किसी भी प्रकार की कोताही बर्दाश्त नहीं होगी.

नीतीश कुमार ने कहा कि बड़े शहरों के शराब माफियाओं को पकड़ने के लिये विशेष अभियान चलायें. जिला स्तर पर चिन्ह्ति बड़े-बड़े आरोपियों पर पुलिस अधीक्षक विशेष नजर रखें और तेजी से कार्रवाई करें. बैठक में पुलिस महानिदेशक श्री एसके सिंघल, अपर मुख्य सचिव, गृह-सह-मद्य निषेध, उत्पाद एवं निबंधन चैतन्य प्रसाद, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव दीपक कुमार, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव चंचल कुमार सहित अन्य वरीय पदाधिकारी उपस्थित थे.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज