• Home
  • »
  • News
  • »
  • bihar
  • »
  • EXPLAINED: 'नीतीश पीएम मैटेरियल' का जोर-शोर से प्रचार, आखिर क्या है JDU का हिडन एजेंडा?

EXPLAINED: 'नीतीश पीएम मैटेरियल' का जोर-शोर से प्रचार, आखिर क्या है JDU का हिडन एजेंडा?

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पीएम मैटेरियल मानने का प्रस्ताव जेडीयू के राष्ट्रीय परिषद में पारित हुआ है.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पीएम मैटेरियल मानने का प्रस्ताव जेडीयू के राष्ट्रीय परिषद में पारित हुआ है.

Bihar Politics: राजनीति के जानकार बताते हैं कि भले ही सीएम नीतीश यह कहते हों कि उनकी इसमें कोई रुचि नहीं है और न ही कोई ऐसी आकांक्षा ही है, लेकिन उनकी सहमति का सबसे बड़ा संकेत तो यही है कि 29 अगस्त को JDU की राष्ट्रीय परिषद की बैठक में नीतीश कुमार को PM मैटेरियल बताया गया. साथ ही प्रस्ताव पास किया गया कि नीतीश कुमार में PM बनने के सारे गुण हैं.

  • Share this:

पटना. बिहार एनडीए (Bihar NDA) में कुछ सांकेतिक सवाल उठने शुरू हो गए हैं कि क्या बिहार में चल रही इस गठबंधन की सरकार के अंदरखाने सब ठीक है? सवाल इसलिए कि हाल में ही सीएम नीतीश कुमार ( CM Nitish Kumar) को लेकर उनके पीएम मैटेरियल होने की बात काफी जोर-शोर से प्रचारित की जाने लगी है. खास तौर पर जदयू की ओर से इस पर सबसे अधिक कद्दावर नेताओं के बयान सामने आ रहे हैं. इनमें पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह (Lalan Singh), जेडीयू संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha) और पार्टी के सीनियर लीडर केसी त्यागी (KC Tyagi) के नाम प्रमुख हैं. इस बात ने तब और जोर पकड़ लिया जब नालंदा के सांसद कौशलेंद्र कुमार (Nalanda MP Kaushlendra Kumar) ने कहा कि अगर सीएम नीतीश उनके संसदीय क्षेत्र से चुनाव लड़ना चाहें तो वह सांसद पद से इस्तीफा देने को तैयार हैं. सीएम नीतीश कुमार को पीएम बनाने के लिए वह यह त्याग करने का दावा कर रहे हैं. हालांकि इन सबके बीच सीएम नीतीश ने ऐसी किसी संभावना को खारिज किया है. लेकिन, राजनीति के जानकारों की नजर में मीडिया के सामने उनकी मंद मुस्कान और उनके हाल-फिलहाल के एक्शन से ऐसा ही लग रहा है कि उनके मन में प्रधानमंत्री बनने की महत्वाकांक्षा अभी पूरी तरह से खत्म नहीं हुई है.

राजनीति के जानकार बताते हैं कि भले ही सीएम नीतीश यह कहते हों कि उनकी इसमें कोई रुचि नहीं है और न ही कोई ऐसी आकांक्षा ही है, लेकिन उनकी सहमति का सबसे बड़ा संकेत तो यही है कि 29 अगस्त को JDU की राष्ट्रीय परिषद की बैठक में नीतीश कुमार को PM मैटेरियल बताया गया. साथ ही, प्रस्ताव पास किया गया कि नीतीश कुमार में PM बनने के सारे गुण हैं. वह प्रधानमंत्री बनने की योग्यता रखते हैं. हालांकि, इसके तुरंत बाद जेडीयू के केसी त्यागी ने यह भी कहा कि एनडीए में फिलहाल पीएम पद के लिए कोई वैकेंसी नहीं है. सीएम नीतीश ने भी कुछ इसी अंदाज में मीडिया के सामने इनकार किया, लेकिन सियासी बम फोड़ दिया हाल-फिलहाल अपनी पार्टी रालोसपा के साथ जेडीयू में आए उपेंद्र कुशवाहा ने.

कुशवाहा की दो टूक-कोई चिढ़ता है तो चिढ़े
उपेंद्र कुशवाहा ने सोमवार को साफ कहा- मैंने पहले ही कहा था कि नीतीश कुमार PM मैटेरियल हैं. अभी फिलहाल NDA के साथ हैं. NDA के प्रधानमंत्री के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी हैं तो नीतीश कुमार की कोई दावेदारी नहीं है, लेकिन भविष्य के बारे में कोई कुछ नहीं जानता. कुछ भी हो सकता है. कुशवाहा से जब पूछा गया कि ललन सिंह ने रविवार को बयान दिया था कि कई ऐसी पार्टियां हैं, जो नीतीश कुमार के चेहरे को पसंद नहीं करती हैं, तो उन्होंने कहा- कुछ बातें ऐसी होती हैं जो बिना कहे समझी जाती हैं और यह बात सही है. इसके साथ कुशवाहा ने कहा कि भविष्य में नीतीश कुमार देश के लिए बेहतर प्रधानमंत्री हो सकते हैं. हम तो सच्चाई बता रहे हैं कि वह पीएम मैटेरियल हैं. अगर कोई इस बात को लेकर चिढ़ता है तो चिढ़ता रहे. हमें कोई फर्क नहीं पड़ता.

सियासत संभावनाओं का खेल, नीतीश कुमार पारखी नेता

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज