Home /News /bihar /

nitish kumar said you will not forget us political meaning is being extracted regarding retirement nityanand rai lalan singh brvj

नीतीश कुमार ने कहा-आप हमें भूलियेगा तो नहीं? 'आउटगोइंग मोड' के निकाले जा रहे सियासी मायने

फतुहा पहुंचे सीएम नीतीश ने पुराने साथियों से की मुलाकात, कहा- मुझे भूलिएगा मत

फतुहा पहुंचे सीएम नीतीश ने पुराने साथियों से की मुलाकात, कहा- मुझे भूलिएगा मत

Bihar Politics: सोशल मीडिया के साथ राजनीतिक गलियारों में चर्चा है कि आने वाले दिनों में बिहार में बड़ा राजनीतिक परिवर्तन देखने को मिल सकता है. कयास लगाए जा रहे हैं कि होली के अवसर पर केंद्रीय गृह राज्यमंत्री व बिहार भाजपा के पूर्व अध्यक्ष नित्यानंद राय किसी विशेष उद्देश्य से सीएम नीतीश कुमार से मुलाकात करने आए थे. इसके बाद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के शपथ ग्रहण समारोह में 25 मार्च को लखनऊ में जिस अंदाज में सीएम नीतीश कुमार और पीएम नरेन्द्र मोदी की मुलाकात हुई, इससे चर्चाओं ने और जोर पकड़ लिया. अब जब नीतीश कुमार का फतुहा में 'विदाई बेला' वाला अंदाज सामने आया तो इसके भी सियासी मायने निकाले जाने लगे हैं.

अधिक पढ़ें ...

पटना. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) ने शनिवार को पटना जिले के फतुहा प्रखंड (Fatuha Block of Patna District) के विभिन्न पंचायतों का दौरा कर जदयू के पुराने और नए कार्यकर्ताओं से मुलाकात की. इस मौके पर मुख्यमंत्री ने ग्रामीणों से भी मुलाकात कर जहां उनकी विभिन्न समस्याएं सुनीं, वहीं समस्याओं के निराकरण को लेकर अधिकारियों को कई आवश्यक दिशा-निर्देश भी दिए. इस दौरान ग्रामीणों ने फतुहा को पूर्ण अनुमंडल बनाए जाने, टूटे हुए पुनपुन पुल का निर्माण, जेठुली श्मशान घाट का निर्माण और पटना और फतुहा के बीच नगर सेवा शुरू किए जाने के साथ ही अन्य मांगों के समर्थन में मुख्यमंत्री को ज्ञापन भी सौंपा. इस दौरान जदयू कार्यकर्ताओं ने विभिन्न जगहों पर मुख्यमंत्री का भव्य स्वागत भी किया.

ग्रामीणों से मुलाकात के दौरान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बताया कि पुराने बाढ़ लोकसभा क्षेत्र से लंबे समय तक प्रतिनिधित्व करने के कारण इस जगह से उन्हें विशेष लगाव रहा है. उन्होंने आम जनता के अपार समर्थन पर अपना आभार प्रकट करते हुए उनकी लगातार सेवा करने का संकल्प दोहराया. इस दौरान मुख्यमंत्री का कहना था कि वह पिछले 16 वर्षों से बिहार के विकास को लेकर तन मन धन से जुड़े हैं.

मुख्यमंत्री ने कहा कि व्यस्तता के कारण वह अपने पुराने मित्रों और समर्थकों से नहीं मिल पा रहे थे, ऐसे में उन्होंने व्यक्तिगत तौर पर उनसे मुलाकात करने का निर्णय लिया और इसी के तहत वह लोगों से मिल रहे हैं. मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि यहां आकर और आप सबसे मिलकर काफी खुशी हुई है. यहां हम आते-जाते रहे हैं. आप हमें भूलियेगा नहीं न? आप लोगों ने जो मुझे प्रेम और स्नेह दिया है, उसे हम कभी भी भूल नहीं सकते हैं. अपनी तरफ से जो कुछ भी संभव होगा, उसे हम करते रहेंगे. मैं यहां की जनता के समर्थन को आजीवन कभी भुला नहीं सकता.

मुख्यमंत्री ने इस दौरान नई पीढ़ी के युवाओं से पूरी तन्मयता के साथ पढ़ाई करने की अपील करते हुए आम लोगों से समाज में आपसी प्रेम और भाईचारा बरकरार रखने की भी अपील की. इस मौके पर बिहार सरकार के कई आला अधिकारी मौजूद थे. हालांकि इस दौरान मुख्यमंत्री ने राजनीतिक मुद्दों पर बात करने से सीधे तौर पर इंकार कर दिया. हालांकि, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के ‘आउटगोइंग मोड’ या विदाई की बेला वाले इस अंदाज के सियासी मायने भी निकाले जा रहे हैं.

दरअसल, सोशल मीडिया में चर्चा यही है कि आने वाले दिनों में बिहार में बड़ा राजनीतिक परिवर्तन देखने को मिल सकता है. अटकलें लगाई जा रही हैं कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार रिटायर होंगे और बिहार में भारतीय जनता पार्टी का सीएम बनेगा. हालांकि, न्यूज 18 भी इसे अभी सियासी कयासबाजी ही मान रहा है, मगर यह भी सच है कि इस बात की चर्चा तब से और जोर पकड़ चुकी है जब केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने होली के अवसर पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से पटना में मुलाकात की थी.

दोनों नेताओं की इस मुलाकात के बाद बिहार की राजनीति में चर्चाओं का बाजार गरम है. राजनीतिक गलियारों में चर्चा है है कि नित्यानंद राय किसी विशेष उद्देश्य से सीएम नीतीश कुमार से मुलाकात करने आए थे. इसके बाद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के दूसरे कार्यकाल के शपथ ग्रहण समारोह में 25 मार्च को लखनऊ में जिस अंदाज में सीएम नीतीश कुमार और पीएम नरेन्द्र मोदी की मुलाकात हुई, इससे चर्चाओं का बाजार और गर्म हो गया है.

Tags: Bihar politics, CM Nitish Kumar, Nityanand Rai, PM Modi

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर