होम /न्यूज /बिहार /

आरसीपी सिंह ने बहुत गड़बड़ की, मैंने अपना पद दिया था, मगर वे केंद्र में खुद से मंत्री बन गए- नीतीश कुमार 

आरसीपी सिंह ने बहुत गड़बड़ की, मैंने अपना पद दिया था, मगर वे केंद्र में खुद से मंत्री बन गए- नीतीश कुमार 

पटना के राजधानी वाटिका में मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए नीतीश कुमार.

पटना के राजधानी वाटिका में मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए नीतीश कुमार.

Bihar News: जदयू के पूर्व अध्यक्ष आरसीपी सिंह के पार्टी से इस्तीफा देने के बाद सीएम नीतीश कुमार ने पहली बार उनपर खुलकर बात की. मीडिया से बातचीत में उन्होंने आरसीपी सिंह पर गड़बड़ी करने का आरोप लगाया. सीएम ने यह भी कहा कि उन्होंने आरसीपी सिंह को बहुत सम्मान दिया, लेकिन उन्होंने इसका ख्याल नहीं रखा.

अधिक पढ़ें ...

हाइलाइट्स

आरसीपी सिंह पर पहली बार खुल कर बोले बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार
नीतीश ने कहा- मंत्री बनने के बाद पार्टी नेताओं से नहीं मिलते थे आरसीपी सिंह
सीएम नीतीश बोले- अपने दल को सुरक्षित रखने के लिए छोड़ा भाजपा का साथ

पटना. आरसीपी सिंह के जनता दल यूनाइटेड से इस्तीफा देने के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पहली बार खुलकर बोले. उन्होंने साफ-साफ आरोप लगाते हुए कहा कि आरसीपी सिंह ने बहुत गड़बड़ी की है. आरसीपी सिंह को मैंने अपना पद दिया था; और बिना मेरी मर्जी के वह जाकर मंत्री बन गए. आरसीपी दल के हित में काम नहीं कर रहे थे. उनकी सारी रिपोर्ट आ रही थी. नीतीश कुमार ने आगे कहा, आरसीपी सिंह को मैंने कहां से कहां तक बनाया और अब मेरे बारे में बोलता है कि बुद्धि खत्म हो गई. जिस आदमी को इतना अधिक हमने सम्मान दिया, आज वह इस तरह की बात बोलता है. इस बात से हमारे दल से जुड़े लोगों को काफी दुख हुआ है.

इस सवाल के जवाब में कि क्या आरसीपी सिंह भाजपा का साथ दे रहे थे? सीएम नीतीश कुमार ने कहा, अब किसी के मन में कुछ रहता है तो क्या किया जा सकता है; जहां रहना है रहो. मैंने पहले ही कहा था मंत्रिमंडल में मुझे एक पद नहीं चाहिए. मैंने केंद्रीय मंत्रिमंडल में कम से कम 4 सीटें मांगी थीं. मैंने आरसीपी सिंह को कुछ नहीं कहा और आगे भी कुछ नहीं कहूंगा. वह मंत्री बनने के बाद दूसरे राज्यों में भी जाते थे तो पार्टी के नेताओं से मुलाकात नहीं करते थे.

जदयू में इज्जत दी, लेकिन…
नीतीश कुमार ने आगे कहा, यह सभी को मालूम है कि मैंने कितना सम्मान दिया. मैं केंद्र में था; उस वक्त मैंने उसे अपने साथ रखा. उसके बाद राज्यसभा का सदस्य बनाया. पटना में आरसीपी सिंह को फ्लैट दिलवाया, किसी एमपी को पटना में घर नहीं मिलता है. आरसीपी सिंह को यहां काफी इज्जत और सम्मान दिया गया. 6 महीने वह मेरी जगह पर राष्ट्रीय अध्यक्ष रहे, बाद में जा करके खुद से केंद्रीय मंत्री बन गए. तब मैंने कहा कि अब ललन सिंह को राष्ट्रीय अध्यक्ष बनना है, आप छोड़ दीजिए.

बीजेपी के कारण चुनाव हारे…
नीतीश कुमार ने कहा, चुनाव के दौरान भी टिकट बंटवारे और उम्मीदवार के चयन के लिए मैंने उन्हें फ्री छोड़ा था. मैं पिछले डेढ़ 2 महीने से किसी से बात नहीं कर रहा था. मैंने राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति के चुनाव में बीजेपी को सपोर्ट किया. हमारे दल के अंदर लोगों की इच्छा थी और पहले से भी चुनाव के बाद भी हमारे लोगों ने हमसे कहा था; बीजेपी के कारण हम चुनाव हारे हैं. मुझे लगा कि हमें अपने दल को सुरक्षित रखना है. इसके बाद हमलोगों ने काफी सोच समझकर यह निर्णय लिया.

Tags: Bihar NDA, Bihar politics, CM Nitish Kumar, Lalan Singh, RCP Singh

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर