लाइव टीवी

CM नीतीश ने की 'जल-जीवन-हरियाली' अभियान की शुरुआत, बोले- पर्यावरण असंतुलन का शिकार हो रहा बिहार

News18 Bihar
Updated: October 26, 2019, 1:31 PM IST
CM नीतीश ने की 'जल-जीवन-हरियाली' अभियान की शुरुआत, बोले- पर्यावरण असंतुलन का शिकार हो रहा बिहार
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जलजीवन हरियाली मिशन की शुरुआत की.

पटना के ज्ञान भवन (Gyan Bhavan) में आयोजित इस कार्यक्रम में सीएम नीतीश ने कहा किबिहार ने पर्यावरण को नुक़सान पहुंचने का कोई ऐसा काम नही किया है बावजूद इसके बिहार भी पर्यावरण का असंतुलन का शिकार हो रहा है.

  • Share this:
पटना. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने जल-जीवन-हरियाली मिशन (Jal-Jeevan-Hariyali-Mission) की शुरुआत की. इसके साथ ही प्रदेश के सभी जिलों, प्रखंडों और पंचायत स्तर पर कम से एक योजना का आगाज भी हो गया है. इस मौके पर मुख्यमंत्री ने जल जीवन हरियाली अभियान पर पुस्तक का विमोचन भी किया. सीएम ने इसी के साथ 2391 योजनाओं का उद्घाटन और  32781 योजनाओं का शिलान्यास किया.


'बिहार पर भी जलवायु परिवर्तन का प्रभाव'

पटना के ज्ञान भवन (Gyan Bhavan) में आयोजित इस कार्यक्रम में सीएम नीतीश ने कहा कि पर्यावरण में असंतुलन की समस्या देश और दुनिया की समस्या है. बिहार ने पर्यावरण को नुक़सान पहुंचने का कोई ऐसा काम नही किया है बावजूद इसके बिहार भी पर्यावरण का असंतुलन का शिकार हो रहा है.



'24 करोड़ पेड़ लगाने का लक्ष्य'

उन्होंने कहा कि बिहार में जब सूखा और बाढ़ से त्रासदी की समस्या बढ़ने लगी तो हमने जल जीवन हरियाली कार्यक्रम की शुरुआत की. उ बिहार में हरित आवरण को बढ़ाने का निश्चय किया गया और प्रदेश में 24 करोड़ पेड़ लगाने का लक्ष्य तय किया गया. इनमें से 19 करोड़ पेड़ लगाए जा चुके हैं.

Loading...


'जल्ला क्षेत्र में अतिक्रमण से जलजमाव'

सीएम नीतीश ने जल्ला के इलाक़े (जहां पानी जमा होता हो) में घर बनाने को लेकर चिंता जताई  और कहा कि पटना में भी अतिक्रमण की वजह से जलजमाव हुआ, ये किसी से छिपा हुआ नहीं है. उन्होंने लोगों से अपील की कि न सिर्फ़ पेड़ लगाएं बल्कि जल का संचय भी करें, तभी जल जीवन हरियाली कार्यक्रम सफल होगा.




पटना के ज्ञान भवन में सीएम नीतीश कुमार ने जल जीवन हरियाली अभियान से संबंधित 24 हजार करोड़ रुपये की योजनाओं का शिलान्यास व उद्घाटन किया.



'तीन वर्षों में 7 करोड़ 70 लाख पेड़ लगाए जाएंगे'

इस मौके पर डिप्टी सीएम ने कहा कि जल जीवन हरियाली कार्यक्रम पर्यावरण को बचाने के लिए मील का पत्थर साबित होगा. इस साल अभी तक 1 करोड़ 12 लाख पौधे लगाए गाए हैं. अगले साल 2 करोड़ 51 लाख पौधे लगाए जाएंगे. जबकि तीनों साल मिलाकर करीब 7 करोड़ 70 लाख पौधे लगाए जाएंगे.


'सड़क किनारे के पेड़ नहीं काटे जाएंगे' 

वहीं, पथ निर्माण मंत्री नंद किशोर यादव ने कहा कि जल जीवन हरियाली अभियान आज के लिए नही है बल्कि आने वाले भविष्य के लिए है. उन्होंने यह भरोसा दिलाया कि अब सड़क बनाने में जो पेड़ बाधक बनेंगे उन्हें काटा नहीं जाएगा बल्कि उसे तकनीक के सहारे दूसरी जगह शिफ़्ट कर दिया जाएगा.


'योजनाओं पर खर्च होंगे 24 हजार करोड़' 

मुख्य सचिव दीपक कुमार ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि जल जीवन हरियाली कार्यक्रम मिशन मोड में किया जा रहा है. इसके तहत  तीन वर्षों में लगभग 24 हज़ार करोड़ रुपया की योजना का काम पूरा किया जाना है.


बता दें कि कार्यक्रम में कई विभागों के अधिकारियों के साथ डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी, जल संसाधन मंत्री संजय झा और मंत्री श्रवण कुमार के साथ सांसद रामकृपाल यादव भी है मौजूद रहे.



नौ क्षेत्रों में किए जाएंगे कार्य

बता दें कि योजना के मुताबिक जल-जीवन-हरियाली मिशन में नौ क्षेत्रों में काम होंगे. सरकार के 12 विभागों को तीन साल में योजना पूरा करना होगा. गौरतलब है कि तीन साल के दौरान नौ क्षेत्रों में निर्धारित लक्ष्य को पूरा करने को 24 हजार 524 करोड़ रुपये के खर्च का प्रस्ताव तैयार किया गया है.


छोटी नदियों का होगा जीर्णोद्धार

इस योजना के तहत 65 हजार 697 छोटी नदियों, नाले के अलावा पहाड़ी क्षेत्रों में जल संग्रह के लिए चेकडैम और अन्य संरचनाओं का निर्माण किया जाना है. वहीं,  81 हजार 201 सार्वजनिक कुओं का भी जीर्णोद्धार किया जाना है.
कुएं, चापाकल और नलकूप किए जाएंगे रीचार्ज

इसके साथ ही 3 लाख 14 हजार 960 कुआं, चापाकल, नलकूप के किनारे सोख्ता या जल रीचार्ज का निर्माण किया जाना है. वहीं 62 हजार 412 तालाब, आहर, पइन, पोखर का जीर्णोद्धार भी किया जाएगा.

इनपुट- आनंद अमृतराज


ये भी पढ़ें- 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 26, 2019, 1:27 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...