अपना शहर चुनें

States

'महागठबंधन में आएंगे नीतीश', राबड़ी ने फोड़ा 'सियासी बम' तो सुशील मोदी ने दिया यह जवाब

सुशील कुमार मोदी व राबड़ी देवी (फाइल फोटो)
सुशील कुमार मोदी व राबड़ी देवी (फाइल फोटो)

सुशील कुमार मोदी (Sushil Kumar Modi) ने राबड़ी देवी के बयान पर पलटवार करते हुए कहा कि राजद (RJD) का कोई न कोई शख्स एनडीए (NDA) के विधायक तोड़ने के नित नये बड़बोले दावे कर अपनी लॉयल्टी साबित कर रहे हैं. इनमें कोई राजनीतिक सच्चाई नहीं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 2, 2021, 10:40 AM IST
  • Share this:
पटना. बिहार की पूर्व मुख्‍यमंत्री राबड़ी देवी (Rabri Devi) ने मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) को लेकर कहा कि महागठबंधन ( Grand Alliance) में दोबारा एंट्री विचार किया जा रहा है. दरअसल आरजेडी (RJD) के कई नेता इस संबंध में बयान दे चुके हैं, लेकिन लालू परिवार (Lalu Family) की ओर से इसपर यह पहला बयान है. जाहिर है नये साल की शुरुआत में ही राबड़ी ने सियासी बम फोड़ दिया जिससे बिहार की सियासत में बवाल मच गया है. हालांकि जदयू को महागठबंधन में शामिल करने को लेकर आरजेडी नेताओं के हाल के बयानों को खुद नीतीश कुमार खारिज कर चुके हैं. बावजूद इसके स्वयं राबड़ी देवी का यह बयान मायने रखता है. ऐसे में भाजपा-जदयू  (BJP-JDU) की ओर से तीखी प्रतिक्रिया आई है.


भाजपा के वरिष्ठ नेता व राज्यसभा सांसद सुशील कुमार मोदी ने इस पर पलटवार करते हुए कहा है कि बिहार विधानसभा चुनाव से पहले लालू प्रसाद की पार्टी अपने दर्जनभर एमएलए-एमएलसी को जदयू में जाने से नहीं रोक पाई. उसका 10 लाख लोगों को एक झटके में सरकारी नौकरी देने का अव्यवहारिक वादा नकार दिया गया. गरीबों-मजदूरों, युवाओं-महिलाओं ने जिस पार्टी के अनुभवहीन वंशवादी नेतृत्व को विपक्ष में बैठने का जनादेश दिया, उसका कोई न कोई शख्स एनडीए के विधायक तोड़ने के नित नये बड़बोले दावे कर अपनी लॉयल्टी साबित कर रहे हैं. इनमें कोई राजनीतिक सच्चाई नहीं.






वहीं  बीजेपी नेता प्रेमरंजन पटेल ने कहा कि आरजेडी सत्ता के लिए तड़प रही है और उसे पाने के लिए कोई भी हथकंडा अपनाना चाहती है. लाख कोशिश कर ले नीतीश एनडीए के साथ ही रहेंगे.

राबड़ी देवी के बयान पर जेडीयू प्रवक्ता संजय सिंह ने भी कहा कि आरजेडी सत्ता के लिए तड़प रही है.
जनता ने विपक्ष में बैठने का जनादेश दिया है उन्हें विपक्ष में बैठने का मजा लेना चाहिए. लाख कोशिश कर ले सरकार हिलने वाली नहीं है.


गौरतलब है कि इससे पहले जदयू के वरिष्ठ नेता बशिष्ठ नारायण सिंह ने भी राबड़ी देवी के बयान को हास्यास्पद करार दिया था. उन्होंने कहा कि यह निरर्थक बयान है. फालतू और हास्यास्पद बातें कही गई हैं. राजद के लोग सपना देखते हैं, कल्पना में जीते हैं. परिणाम आए और सरकार बने एक माह से अधिक हो गए, लेकिन अब तक वे हार को पचा नहीं पा रहे हैं. उन्होंने राबड़ी देवी को निशाने पर लेते हुए कहा कि उनका बयान चर्चा में बने रहने के लिए हैं.


हालांकि नीतीश कुमार के इस बयान पर कि बिहार में कोई सियासी संकट नहीं है, पर  कांग्रेस नेता प्रेमचंद मिश्रा ने कहा कि  जिस गठबंधन में संकट होगा उसके नेता भला कैसे बोलेंगे कि संकट है? बिहार में भाजपा और जदयू के बीच लगातार अंतर्विरोध उभर रहा है. महागठबंधन के नेताओं को उन्हें फिलहाल ऑफर नहीं देना चाहिए. नीतीश के भाजपा से अलग होने पर ही महागठबंधन में शामिल होने का ऑफर देना चाहिए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज