होम /न्यूज /बिहार /

नीतीश-तेजस्‍वी की सरकार बनने से ब्‍यूरोक्रेसी में खलबली, बिहार में बदल सकता है अफसरशाही का चेहरा

नीतीश-तेजस्‍वी की सरकार बनने से ब्‍यूरोक्रेसी में खलबली, बिहार में बदल सकता है अफसरशाही का चेहरा

बिहार में नीतीश कुमार और तेजस्‍वी यादव के नेतृत्‍व में महागठबंधन की सरकार बनने के बाद अफसरशाही का चेहरा बदलने की संभावना काफी बढ़ गई है. (ANI)

बिहार में नीतीश कुमार और तेजस्‍वी यादव के नेतृत्‍व में महागठबंधन की सरकार बनने के बाद अफसरशाही का चेहरा बदलने की संभावना काफी बढ़ गई है. (ANI)

Bihar News: बिहार में बुधवार को एक बार फिर से महागठबंधन की सरकार बन गई है. नीतीश कुमार ने मुख्‍यमंत्री तो तेजस्‍वी यादव ने उपमुख्‍यमंत्री पद की शपथ ली. इसके साथ ही अब नौकरशाही का चेहरा बदलने की अटकलबाजी शुरू हो गई है. जिलों के कलेक्‍टर से लेकर एसपी तक का तबादला हो सकता है. फिलहाल सभी वेट एंड वॉच की स्थिति में हैं.

अधिक पढ़ें ...

पटना. बिहार में सियासी गहमा-गहमी और राजनीतिक उथल-पुथल का दौर अब थम चुका है. प्रदेश में  NDA सरकार का दौर समाप्‍त हो चुका है. नीतीश कुमार और तेजस्‍वी यादव के नेतृत्‍व में महागठबंधन ने बिहार की सत्‍ता में एक बार फिर से वापसी की है. नीतीश ने बुधवार को 8वीं बार मुख्‍यमंत्री पद की शपथ ली, वहीं तेजस्‍वी यादव दूसरी बार सूबे के उपमुख्‍यमंत्री बने. सरकार का स्‍वरूप बदलने के साथ ही अब प्रदेश के अफसरशाही में बदलाव की अटकलें तेज हो गई हैं. नौकरशाही में भी व्‍यापक पैमाने पर बदलाव की बात कही जा रही है. तीन साल से ज्‍यदा समय से एक ही जगह जमे अधिकारियों को बदला जा सकता है. तेजस्‍वी यादव अपने चहेते अधिकारियों की महत्‍वपूर्ण पदों पर तैनाती कर सकते हैं. फिलहाल सभी वेट एंड वॉच वाली कंडीशन में हैं.

किसी भी राज्य में सियासत और अफसरशाही का रिश्ता बड़ा ही प्रगाढ़ होता है. सेवा में रहने के दौरान नेताओं की आंख, कान और नाक अफसर ही होते हैं. बिहार में महागठबंधन की सरकार का गठन हो चुका है. बदले सियासी माहौल में अफसरशाही का भी चेहरा बदलना तय माना जा रहा है. प्रदेश में गठबंधन के बदलते ही अफसरशाही में भी खलबली मची हुई है. अटकलों का दौर शुरू हो चुका है. कई अफसरों का बदलना तय माना जा रहा है. दरअसल, राज्य सरकार के अधीन कई ऐसे विभाग हैं, जिनमें अधिकारी वर्षों से अपने पद पर बने हुए हैं. किसी-किसी विभाग में तो  अफसरों ने 3 साल की अधिकतम सीमा भी पार कर ली है, ऐसे में अब समाजवादी सरकार को चाहने वाले अफसरों को प्राथमिकता मिलेगी इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता है. भाजपा सरकार के चहेते अधिकारियों के दिन शायद अब ढल जाएं.

तेजस्वी बोले- CM नीतीश से हुई 10 लाख सरकारी नौकरियों पर बात, अगले महीने शुरू होगा काम 

प्रशासनिक ढांचे में बदलाव की संभावना
NDA की सरकार के बाद महागठबंधन सरकार में नीतीश कुमार के मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ लेते ही पुलिस और प्रशासनिक ढांचे में बदलाव की संभावना जताई जाने लगी है. उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव भी चाहेंगे कि उनकी पार्टी के खेमे में जो विभाग हैं, उनमें अफसरों की ऐसी टीम हो जो उनके मन मुताबिक हो. इतना ही नहीं कई जिलों में जिलाधिकारी से लेकर डीडीसी, एसडीओ सभी बदले जा सकते हैं. ऐसा ही हाल विभागों में डायरेक्टर से लेकर सचिव और प्रधान सचिव तक का हो सकता है. इसका आभास नौकरशाही को भी है और फिलहाल सभी वेट एंड वॉच की स्थिति में हैं. अफसरशाही में बदलाव को लेकर सियासी गलियारों में और सचिवालय में दिन-रात चर्चाओं का दौर जारी है.

कई अफसरों के बहुर सकते हैं दिन
शिक्षा विभाग से लेकर स्वास्थ्य विभाग, कृषि विभाग, जल संसाधन विभाग, सिंचाई विभाग और गृह विभाग से लेकर जिलों में एसपी के बदले जाने तक की चर्चा जोरों पर है. माना जा रहा है कि नई सरकार में उन अफसरों के दिन लौट आएंगे जो प्रशासन में महत्वपूर्ण पदों से फिलहाल दूर थे. कई अफसरों को अहम जिम्मेदारियां भी मिल सकती हैं. कई रिटायर्ड अफसर जो सेवानिवृत के बाद आए और महत्वपूर्ण पदों पर हैं उनका कार्यकाल खत्म किया जा सकता है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कई ऐसे लोगों को अहम जिम्मेवारी दी है जो सेवानिवृत्ति के बाद राज्य में विकास कार्य को आगे बढ़ाने और सुशासन स्थापित करने में योगदान दे रहे हैं.

Tags: Bihar News, Chief Minister Nitish Kumar, RJD leader Tejaswi Yadav

अगली ख़बर