लाइव टीवी

JDU से निकाले गए प्रशांत किशोर को अब विपक्ष का मिल रहा साथ, नीतीश को घेरने की तैयारी
Patna News in Hindi

Ravi Shankar | News18Hindi
Updated: January 29, 2020, 9:57 PM IST
JDU से निकाले गए प्रशांत किशोर को अब विपक्ष का मिल रहा साथ, नीतीश को घेरने की तैयारी
पीके के नीतीश कुमार को दिए गए जवाब के बाद अब आरजेडी और कांग्रेस ने भी उनका समर्थन करते हुए मुख्यमंत्री की घेराबंदी शुरू कर दी है. (फाइल फोटो)

नीतीश कुमार को दिए गए जवाब के बाद अब आरजेडी और कांग्रेस ने भी प्रशांत किशोर का समर्थन करते हुए मुख्यमंत्री की घेराबंदी शुरू कर दी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 29, 2020, 9:57 PM IST
  • Share this:
पटना. प्रशांत किशोर को जदयू (JDU) से निकाले जाने के बाद बिहार की राजनीति गरमा गई है. विपक्ष अब मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के बयान को ही उनके खिलाफ इस्तेमाल करने में लगा है. दरअसल नीतीश कुमार ने कहा था कि केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah) के कहने पर ही प्रशांत किशोर को जदयू में शामिल किया गया था. हालांकि प्रशांत किशोर ने इस बात को खारिज करते हुए ट्वीट किया कि अमित शाह की ओर से कहने के बाद मुझे शामिल करने की बात गलत है. पीके के इस बयान के बाद अब उन्हें विपक्ष का साथ मिलता दिख रहा है.

जदयू में बीजेपी के कहने पर लोगों को रखते हैं
पीके के नीतीश कुमार को दिए गए जवाब के बाद अब आरजेडी और कांग्रेस ने भी उनका समर्थन करते हुए मुख्यमंत्री की घेराबंदी शुरू कर दी है. कांग्रेस नेता प्रेमचंद्र मिश्रा ने कहा कि यदि प्रशांत किशोर को अमित शाह के कहने पर ही लाया गया था तो स्पष्ट है कि जदयू में लोगों को बीजेपी के कहने पर ही रखा जाता है. जदयू में अब बौद्धिक लोगों की कोई जगह नहीं. पार्टी में वही रह सकते हैं जो आरएसएस के विचार के हों. वहीं आरजेडी के वरिष्ठ नेता शिवानन्द तिवारी ने भी नीतीश पर हमलावर होते हुए कहा कि सीएम पहले पीके को बिहार का भविष्य बताते थे. अब नीतीश कुमार बिहार के भविष्य को क्यों खराब कर रहे हैं. अब जदयू का बीजेपीकरण हो गया है.

जदयू ने पीके पर उठाए सवाल

प्रशान्त किशोर के नीतीश कुमार पर उठाए सवाल के बाद जदयू ने पीके को आड़े हाथों लेते हुए हमला बोला है. जदयू प्रवक्ता राजीव रंजन ने कहा कि पहले भी नीतीश कुमार पीके के बारे में कह चुके है कि अमित शाह के कहने पर पार्टी में लाए, उस समय विरोध क्यों नहीं किया. पार्टी किसी भी व्यक्ति से बड़ी नहीं होती थी. अनुशासनहीनता की कोई जगह नहीं है.

पवन वर्मा और पीके को किया जिम्मेदारियों से मुक्त
इससे पहले बुधवार को ही जदयू से पवन वर्मा और प्रशांत किशोर को बाहर का रास्ता दिखा दिया गया था. कड़ी कार्रवाई करते हुए दोनों ही नेताओं को पार्टी से बर्खास्त कर दिया गया था. इसके साथ ही दोनों को पार्टी की सभी जिम्मेदारियों से भी मुक्त कर दिया गया था.

ये भी पढ़ेंः JDU ने की प्रशांत किशोर और पवन वर्मा पर बड़ी कार्रवाई, पार्टी से बाहर निकाला

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 29, 2020, 9:31 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर