Assembly Banner 2021

Bihar News: मंत्री मदन सहनी के बयान से भड़का विपक्ष, कहा- मंत्री माफी मांगें तभी सदन चलेगा, जानें पूरा मामला

 मदन सहनी से साफ कर दिया है कि मैं माफी नहीं मांगूंगा.

मदन सहनी से साफ कर दिया है कि मैं माफी नहीं मांगूंगा.

Bihar News: समाज कल्याण मंत्री मदन सहनी (Madan Sahni) के वृद्धावस्था पेंशन पर दिए एक बयान से विपक्ष भड़क गया है. इसके बाद विपक्ष ने साफ कर दिया है कि जब तक मंत्री माफी नहीं मांगते, तब तक सदन नहीं चलेगा. वहीं, मंत्री ने कहा कि वो माफी नहीं मांगेंगे.

  • News18 Bihar
  • Last Updated: February 24, 2021, 11:50 PM IST
  • Share this:
पटना. बिहार विधानसभा के बजट सत्र (Bihar Budget) में समाज कल्याण मंत्री मदन सहनी (Madan Sahni) के वृद्धावस्था पेंशन पर दिए एक बयान से विपक्ष भड़क गया है. इसके बाद विपक्ष ने साफ कर दिया है कि जब तक सदन में मंत्री माफी नहीं मांगते, तब तक सदन नहीं चलेगा. वहीं, मंत्री ने भी साफ कर दिया है कि चाहे कुछ भी हो जाए, मैं माफी नहीं मांगूंगा. दरअसल बिहार सरकार के मंत्री मदन सहनी विधानसभा में चर्चा के दौरान वृद्धावस्था पेंशन को लेकर विपक्ष के सवालों का जवाब दे रहे थे, जिसमें विपक्ष ने आरोप लगाया कि वृद्धावस्था पेंशन में गड़बड़ी हो रही है.

इसी पर विरोधियों खासकर राजद पर समाज कल्याण मंत्री मदन सहनी ने यह कह कर चुटकी ली कि राजद के लोग वृद्धावस्था पेंशन सहित कई योजनाओं में लाभुको के अकाउंट में डायरेक्ट पैसा जाने की वजह से कमीशन नहीं ले पाते हैं. पहले उनके राज में यही होता था. इसी बात पर सदन में जोरदार हंगामा हो गया और सदन की कार्रवाई को स्थगित करना पड़ा. इसी दौरान सदन में मंत्री चोर है के खूब नारे लगे.

संसदीय कार्य मंत्री विजय चौधरी ने कही यह बात
सदन स्थगित होने के पहले भी पूर्व विधानसभा अध्यक्ष और संसदीय कार्य मंत्री विजय चौधरी ने विरोधियों से कहा कि मैं इस मामले पर खेद प्रकट करता हूं, लेकिन विपक्ष मदन सहनी के माफी मांगने पर अड़ा रहा. विधानसभा अध्यक्ष विजय सिन्हा ने भी सदन में तमाम विरोधी पार्टियों को समझाने की कोशिश की कि सदन की कार्रवाई चलने दें, लेकिन कोई असर नहीं पड़ा. सदन में मामला तब और गर्मा गया जब सत्ता पक्ष के लोगों ने भी विपक्ष पर यह कह कर हमला बोला कि अति पिछड़ा समाज के मंत्री होने की वजह से विपक्ष जानबूझकर मदन सहनी को टारगेट कर रहा है. इसके पहले मुकेश सहनी को भी तेजस्वी यादव ने पीठ में छुरा मारने का काम किया था, जब आश्वासन देकर भी कम सीट देने की कोशिश की थी. माफी तो विपक्ष के लोगों को मांगनी चाहिए.
खेत खाए गदहा और मार खाए जोलहा...


इसी पर राजद विधायक भाई वीरेंद्र ने चुटीले अन्दाज में एक कहावत कही कि खेत खाए गदहा और मार खाए जोलहा. यह कहावत मंत्री मदन सहनी को नागवार गुजरी. उन्होंने कहा कि सदन में गदहा नहीं बोल सकते है. इसी बात पर सदन में सत्ता पक्ष और विपक्ष में जमकर हंगामा हुआ और सदन को गुरुवार 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया है. यही नहीं, अब विपक्ष अड़ गया है कि या तो मंत्री इस्तीफा दे या सदन में माफी मांगे, तभी सदन चल सकेगा. जबकि मंत्री साफ कर दिया है कि वह मांफी नहीं मांगेंगे. यानी सत्ताधारी दल के रुख को भी देख कर लगता है कि वो भी झुकने वाले नहीं हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज