दलीय आधार पर नहीं होंगे पंचायत चुनाव, RJD बोली- जमीनी हकीकत से डर गई नीतीश सरकार

अमृत लाल मीणा ने कहा कि सरकार का पूरा ध्यान इस बात पर केंद्रित है कि पंचायती राज व्यवस्था के जरिए लोगों तक सरकार की योजनाओं का लाभ पहुंचे. इसलिए पंचायती राज विभाग की तरफ से चलाई जा रही विकास योजनाओं का ऑडिट कराने का भी फैसला लिया गया है.

News18 Bihar
Updated: August 14, 2019, 3:43 PM IST
दलीय आधार पर नहीं होंगे पंचायत चुनाव, RJD बोली- जमीनी हकीकत से डर गई नीतीश सरकार
बिहार सरकार ने ऐलान किया कि राज्य में दलीय आधार पर पंचायत चुनाव नहीं होंगे.
News18 Bihar
Updated: August 14, 2019, 3:43 PM IST
बिहार में पंचायत चुनाव दलीय आधार पर नहीं होंगे. नीतीश सरकार ने पंचायती राज सरकार को लेकर यह बड़ा फैसला किया है. पंचायती राज विभाग से जुड़ी योजनाओं और उपलब्धियों के बारे में जानकारी देते हुए विभागीय मंत्री कपिलदेव कामत और प्रधान सचिव अमृत लाल मीणा ने इस बात की जानकारी दी है. बिहार में त्रिस्तरीय पंचायती राज व्यवस्था का चुनाव दलीय आधार पर कराने का कोई विचार फिलहाल सरकार के पास नहीं है.

'योजनाओं को जनता तक पहुंचाने पर ध्यान'
अमृत लाल मीणा ने कहा कि सरकार का पूरा ध्यान इस बात पर केंद्रित है कि पंचायती राज व्यवस्था के जरिए लोगों तक सरकार की योजनाओं का लाभ पहुंचे. इसलिए पंचायती राज विभाग की तरफ से चलाई जा रही विकास योजनाओं का ऑडिट कराने का भी फैसला लिया गया है.

डिप्टी सीएम ने दिया था आश्वासन

बता दें कि कई वर्षों से पंचायत चुनाव दलीय आधार पर करवाने की मांग की जा रही है. वर्ष 2017 में उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने भी कहा था कि इसको लेकर सरकार कदम बढ़ाएगी और सरकार अन्य दलों से भी बात करेगी. हालांकि राज्य सरकार के फैसले के बाद विपक्ष हमलावर है.

RJD बोली-हकीकत से डरी सरकार
राष्ट्रीय जनता दल ने सरकार के इस फैसले को दुर्भाग्यपूर्ण करार देते हुए आलोचना की है और कहा कि पंचायत चुनाव दलीय आधार पर होना चाहिए. पार्टी के प्रवक्ता विजय प्रकाश ने कहा कि सरकार जमीन पर पकड़ होने का दंभ भरती है,अगर पकड़ है तो दलीय आधार पर चुनाव करा ले. सारी हकीकत जनता के सामने आ जाएगी.
Loading...

कांग्रेस ने कहा- सामने आ जाती सच्चाई
राजद के साथ कांग्रेस ने भी सरकार के फैसले का विरोध किया है. पार्टी के प्रवक्ता राजेश राठौर ने कहा कि सरकार पोल खुलने से डर रही है. उसे पता है हकीकत सामने आ जाएगी.  कई प्रदेशों में दलीय आधार पर पंचायत चुनाव हो रहे हैं तो बिहार में दलीय आधार पर चुनाव कराने से क्यों डर रहे? सबको पता चले किसका कितना जनाधार है. ,

इनपुट- कुलभूषण/रवि एस नारायण

ये भी पढ़ें-
First published: August 14, 2019, 3:42 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...