Assembly Banner 2021

पप्पू यादव बोले- हर जिले में पांच और अनुमंडल में शराब की एक दुकान खोले नीतीश सरकार

जाप के मुखिया पप्पू यादव ने बिहार सरकार से शरारबबंदी का रिव्यू करने की मांग की है (फाइल फोटो)

जाप के मुखिया पप्पू यादव ने बिहार सरकार से शरारबबंदी का रिव्यू करने की मांग की है (फाइल फोटो)

जन अधिकार पार्टी के संरक्षक पप्पू यादव ने बिहार सरकार पर बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि- विधानसभा, विधायकों के आवास, पुलिस हेडक्वार्टर के आस-पास शराब मिल रही है.

  • Share this:
पटना. जन अधिकार पार्टी के संरक्षक और पूर्व सांसद पप्पू यादव (Pappu Yadav) ने शराबबन्दी को लेकर बिहार सरकार (Nitish Government) पर जमकर निशाना साधा है. जाप अध्यक्ष ने कहा कि शराबबंदी से पहले राज्य को शराब से साढ़े पांच हज़ार करोड़ की आय होती थी, लेकिन अब पांच वर्षों में शराब तस्करी का व्यापर 50 हज़ार करोड़ रुपए का हो गया है. मुख्यमंत्री अड़े हुए हैं कि शराबबंदी को रिव्यू नहीं करेंगे, क्या ऐसा नहीं हो सकता कि शराब पर 100 फीसदी का टैक्स लगा दिया जाए और जिले में पांच एवं अनुमंडल पर एक शराब की दुकान खुले?

पप्पू यादव ने पटना में कहा कि बिहार के हर पंचायत में शराब बनाने की भट्टी चल रही है. हर रोज जहरीली शराब से मौत की खबरें सामने आ रही हैं. हमारी मांग है कि शराब तस्करों को 6 महीने में स्पीडी ट्रायल कर आजीवन कारावास या फांसी की सजा दी जाए.

पप्पू यादव ने कहा कि हमें मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नियत पर शक नहीं है लेकिन उनकी इच्छाशक्ति  को लेकर सवाल खड़े हो रहे हैं. उनका मंत्रिमंडल और प्रशासन उनके हाथ से निकल गया है. सभी नेताओं और पुलिस वालों का ब्लड टेस्ट होना चाहिए, इससे पता चल जाएगा कि थाना में पुलिस वाले रोज शराब पीते हैं या नहीं? मैं इसकी जांच चाहता हूं. उन्होंने कहा कि शराब किनके संरक्षण में बिक रहा है, इसका पता लगाने के लिए सत्ता पक्ष और विपक्ष के नेता खुद आगे आकर अपना टेस्ट कराएं.



जहरीली शराब से होनी वाली मौतों के लिए जिम्मेदारी तय करने की मांग करते हुए पप्पू यादव ने कहा कि उत्पाद मंत्री इसकी जिम्मेदारी कब लेंगे? कब एसपी, डीएसपी और दूसरे बड़े पदाधिकारियों को सस्पेंड किया जाएगा. विधानसभा, विधायकों के आवास, पुलिस हेडक्वार्टर के आस-पास शराब मिल रही है. क्या नीतीश कुमार कोई तारीख बताएंगे कि इस तारीख के बाद शराब की तस्करी बंद हो जाएगी?
पप्पू ने कहा हम एक डेडलाइन चाहते हैं और यदि डेडलाइन के बाद भी शराब मिलती है तो पूरा मंत्रिमंडल इस्तीफा दे. पप्पू यादव ने कहा कि दारू माफियाओं के कहने पर पुलिस निर्दोष लोगों को गिरफ्तार कर रही है. सरकार यह बताए कि अभी तक कितने शराब बेचने वालों को गिरफ्तार किया गया और संपत्ति जब्त की गई है.

पूर्व सांसद ने टीकाकरण पर भी सवाल उठाए और कहा कि जब तक 80 करोड़ लोगों को टीका नही मिल जाता है तब तक समाधान नहीं होगा. प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री के टीका लेने से क्या कोरोना कम हो जाएगा. (रिपोर्ट- धर्मेंद्र कुमार)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज