Bihar Election: पप्पू यादव ने पेश की चुनावी वादों की फेहरिस्त, CM नीतीश कुमार को दिया ये चैलेंज
Patna News in Hindi

Bihar Election: पप्पू यादव ने पेश की चुनावी वादों की फेहरिस्त, CM नीतीश कुमार को दिया ये चैलेंज
पप्पू यादव ने बड़ा वादे किए हैं.

Bihar Assembly Election 2020 Update: पप्पू यादव ने वादा किया है शहर में गरीबों को 1 बीएचते फ्लैट देंगे. महिलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित (Woman Safety) करेंगे.

  • News18 Bihar
  • Last Updated: September 11, 2020, 11:24 PM IST
  • Share this:
पटना. जाप  (जन अधिकार पार्टी (लो.)) के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व सांसद पप्पू यादव (Pappu Yadav) ने शुक्रवार को चुनावी घोषणा की. पप्पू यादव ने वादा किया है कि अगर हम सत्ता में आए तो भूमिहीनों को जमीन देंगे, शहर में गरीबों को 1 बीएचके का फ्लैट (Flat) और कानून का राज स्थापित कर महिलाओं के लिए सुरक्षा सुनिश्चित करेंगे. राज्य में जितने भी बांध टूटे हैं उन सबकी जांच 2 महीने के अन्दर करवाएंगे और भ्रष्टाचार में संलिप्त सभी नेताओं और अधिकारीयों के खिलाफ कार्रवाई करेंगे. पप्पू यादव ने मनरेगा और जल-जीवन-हरियाली में हो रहे भ्रष्टाचार की भी जांच कराने की बात कही है.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर हमला बोलते हुए पप्पू यादव ने कहा कि पिछले 15 वर्षों में नीतीश कुमार ने भूमि सुधार और रोजगार के लिए कोई काम नहीं किया है. राज्य की 76% फीसदी आबादी कृषि पर आधारित है जिसमें 57 फीसदी कृषक आज भी भूमिहीन है. युवाओं को रोजगार के लिए कोई बड़े कारखाने नहीं लगे. देश भर में 75 लाख प्रवासी मजदूर बिहारी हैं जिन्हें अपने राज्य में काम नहीं मिलने के कारण बाहर जाना पड़ता है. लॉकडाउन के दौरान 32 लाख प्रवासी मजदूर राज्य वापस आए, लेकिन अब प्लेन का टिकट और 6 महीने का पैसा देकर दूसरे राज्यों के व्यापारी उन्हें वापस ले जा रहे है.

ये भी पढ़ें: Bihar: 47 वारदातों का आरोपी MCC जोनल कमांडर ने सुरक्षाबल के सामने डाले हथियार



मुख्यमंत्री से की ये मांग
पप्पू यादव का कहना है कि कोसी, सीमांचल, मिथिलांचल में कोई औधोगिक इकाई नहीं है. आज स्नातक से ऊपर के 60 फीसदी युवा बेरोजगार हैं, लेकिन फिर भी रोजगार मुख्य मुद्दा नहीं है. रोजगार, बाढ़, सुखाड़, शिक्षा और स्वास्थ्य पर चर्चा क्यों नहीं?  दलित समुदाय से आने वाले व्यक्ति को मुख्यमंत्री बनाने की सिफारिश की करते हुए जाप अध्यक्ष ने कहा कि सरकार अब दलित की मौत पर उनके परिवार के किसी सदस्य को नौकरी देगी. यदि नीतीश कुमार को दलितों की इतनी चिंता है तो किसी दलित को मुख्यमंत्री बनाने की घोषणा करें. लेकिन उन्होंने तो रमई राम से लेकर कई दलित नेताओं की बेज्जती कर पार्टी से निकाल दिया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज