होम /न्यूज /बिहार /

पशुपति कुमार पारस की RLJP में टूट की चर्चा, 3 सांसद पार्टी छोड़ कर JDU में होंगे शामिल?

पशुपति कुमार पारस की RLJP में टूट की चर्चा, 3 सांसद पार्टी छोड़ कर JDU में होंगे शामिल?

बिहार की राजनीति में चर्चा तेज है कि राष्ट्रीय लोक जनशक्ति पार्टी के 3 सांसद पाला बदल कर जेडीयू में शामिल हो सकते हैं (फाइल फोटो)

बिहार की राजनीति में चर्चा तेज है कि राष्ट्रीय लोक जनशक्ति पार्टी के 3 सांसद पाला बदल कर जेडीयू में शामिल हो सकते हैं (फाइल फोटो)

Bihar News: बिहार की राजनीति में यह चर्चा तेज है कि केंद्रीय मंत्री पशुपति कुमार पारस के आरएलजेपी के तीन सांसद पार्टी को छोड़ सकते हैं और जेडीयू का दामन थाम सकते हैं. शनिवार को जैसे ही यह खबर आई राज्य का सियासी पारा हाई हो गया. मौजूदा लोकसभा में आरएलजेपी के पांच सांसद हैं जिसमें से जिन तीन के पार्टी छोड़ने की चर्चा है, इनके नाम हैं- नवादा से सांसद चंदन सिंह, वैशाली से वीणा सिंह और खगड़िया से महबूब अली कैसर

अधिक पढ़ें ...

पटना. बिहार में सत्ता परिवर्तन के बाद राजनीतिक हलचल बेहद तेज है. यह चर्चा तेज है कि केंद्रीय मंत्री पशुपति कुमार पारस (Pashupati Kumar Paras) की पार्टी राष्ट्रीय लोक जनशक्ति पार्टी (आरएलजेपी) के तीन सांसद पार्टी को छोड़ सकते हैं और जनता दल युनाइटेड (जेडीयू) का दामन थाम सकते हैं. शनिवार को जैसे ही यह खबर आई राज्य का सियासी पारा हाई हो गया. मौजूदा लोकसभा में आरएलजेपी (RLJP) के पांच सांसद हैं जिसमें से जिन तीन के पार्टी छोड़ने की चर्चा है, इनके नाम हैं- नवादा से सांसद चंदन सिंह, वैशाली से वीणा सिंह और खगड़िया से महबूब अली कैसर.

न्यूज़ 18 ने वैशाली की सांसद वीणा देवी से इस बारे में बात की तो उन्होंने इसका खंडन किया और महागठबंधन के साथ जुड़ने के तमाम खबरों को बेबुनियाद बताया. उन्होंने कहा कि यह सोची-समझी अफवाह उड़ाई गई है, इस तरह की कोई बात नहीं है. वैशाली सांसद ने कहा कि पता नहीं यह बात कहां से उड़ी. मैं अपनी पार्टी की संसदीय बोर्ड की अध्यक्ष भी हूं. पशुपति कुमार पारस में मेरी पूरी निष्ठा है. साथ ही उन्होंने कहा कि पशुपति पारस गुट के जिन दो अन्य सांसदों के महागठबंधन में शामिल होने के कयास और चर्चा है, वो पूरी तरह गलत और भ्रामक है.

वहीं, नवादा से पार्टी के सांसद चंदन सिंह ने भी इस बात का खंडन करते हुए कहा कि वो आरएलजेपी में पूरी मजबूती से हैं. किसी के साथ जाने का कोई सवाल नहीं है. यह बात कहां से उठी, मुझे नहीं पता. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने विकास का कार्य किया है इससे इनकार नहीं, लेकिन अब जिनके साथ गए हैं उनके साथ विकास कर पाएंगे कि नहीं, पता नहीं है.

स्वास्थ्य खराब रहने के कारण पटना में अपने आवास पर आराम कर रहे खगड़िया से सांसद महबूब अली कैसर ने भी उनके पार्टी छोड़ कर जाने की ख़बरों का खंडन किया है. उन्होंने पशुपति कुमार पारस के प्रति अपनी निष्ठा का हवाला दिया.

वहीं, इस संबंध में जेडीयू से संपर्क करने की कोशिश की गई तो किसी नेता ने कुछ भी बोलने से इनकार किया.

बता दें कि, इसके पहले भी चिराग पासवान की एलजेपी को तोड़ दिया गया था, और छह में से पांच सांसदों ने उनका साथ छोड़ दिया था. इस बार पशुपति कुमार पारस की पार्टी आरएलजेपी पर टूट के बादल मंडरा रहे हैं. यह खतरा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू की तरफ से आई है.

Tags: Bihar News in hindi, Bihar politics, Mahagathbandhan, Pashupati Kumar Paras

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर