पटना AIIMS का दावा- Corona को मात देने में बड़ों से आगे नवजात बच्चे, 3-4 दिन में होते हैं निगेटिव
Patna News in Hindi

पटना AIIMS का दावा- Corona को मात देने में बड़ों से आगे नवजात बच्चे, 3-4 दिन में होते हैं निगेटिव
पटना एम्स ने नवजात बच्चों में कोरोना के प्रभाव पर किया रिसर्च.

पटना एम्स (Patna AIIMS) के शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. विनय कुमार ने कहा कि ये शोध इसीलिए भी किया गया ताकि ये पता चल सके कि COVID-19 के दौरान अगर किसी बच्चे का जन्म हुआ है तो इस वायरस का उस पर किस हद तक कुप्रभाव पड़ता है

  • Share this:
पटना. कोरोना वायरस महामारी (COVID-19 Epidemic) ने पूरे विश्व में तबाही मचा कर रखी है. लोगों के अंदर इस वायरस को लेकर दहशत भी कम नहीं हो रहा है. ऐसे में पटना एम्स (Patna AIIMS) के रिसर्च में एक बड़ा खुलासा हुआ है. रिसर्च में डॉक्टरों की टीम ने खुलासा किया है कि कोरोना को सबसे तेजी से नवजात बच्चे (Newborn child) ही मात दे रहे हैं. बड़ों की अपेक्षा ये नवजात 10 दिन पहले ही निगेटिव हो जा रहे हैं और जल्दी स्वस्थ भी हो रहे हैं.

एम्स के डॉक्टरों के मुताबिक सामान्य या बड़े उम्र के संक्रमित मरीजों को स्वस्थ होने में जहां 7 से 14 दिनों का वक्त लग रहा है, वहीं नवजात बच्चे वायरस को हराकर तीन से चार दिन में ही पॉजिटिव से निगेटिव हो रहे हैं. वहीं रिसर्च में ये भी पता चला है और राहत की बात ये है कि अगर कोई मां संक्रमित है तो जन्म लेनेवाले बच्चे में वायरस का प्रकोप नहीं के बराबर होता है. पटना एम्स की रिसर्च टीम ने पटना में कोरोना काल में जन्म लेनेवाले लगभग 12 बच्चों पर शोध के बाद ये दावा किया है.

नवजात में नहीं थे कोरोना के लक्षण



एम्स में कोविड 19 के नोडल पदाधिकारी डॉ. संजीव कुमार ने जानकारी देते हुए कहा कि एम्स में पिछले एक सप्ताह में 12 कोरोना पॉजिटिव माताओं ने बच्चों को जन्म दिया है. जन्म लेते ही सभी बच्चों की कोरोना जांच की गई. जांच रिपोर्ट काफी चौंकानेवाला रहा. पता चला कि जन्म लेनेवाले 12 बच्चों में COVID-19 संक्रमण का कोई प्रभाव नहीं था. सिर्फ 3 बच्चों में संक्रमण का प्रभाव दिखा. इस दौरान सभी बच्चों को मां का दूध भी पिलाया गया, लेकिन स्तनपान कराते समय डॉक्टरों और नर्सों की निगरानी में विशेष सावधानी बरती गई. नोडल ऑडिसर डॉ. संजीव की माने तो जिन बच्चों में पॉजिटिव लक्षण मिले, वे तीनों नवजात भी तीन से चार दिन में ही कोरोना पॉजिटिव से निगेटिव हो गए. उन्होंने ये भी बताया कि इनमें से कई बच्चे सिजेरियन से भी हुए थे.
रिसर्च से मिली कई जानकारी

एम्स के शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. विनय कुमार ने कहा कि ये शोध इसीलिए भी किया गया ताकि ये पता चल सके कि कोरोना के दौरान अगर किसी बच्चे का जन्म हुआ है तो इस वायरस का उस पर किस हद तक कुप्रभाव पड़ता है. बच्चों में इम्युनिटी कितनी है, रिसर्च से यह भी जानकारी हासिल की जानी थी. डॉ. विनय ने खुशी जाहिर करते हुए जहां अपने रिसर्च टीम को बधाई दी. वहीं गर्भावस्था धारण कर चुकी माताओं से भी अपील की और कहा कि वायरस को लेकर सावधानी बरतें और डरें नहीं. उन्होंने कहा कि वायरस से लड़ें क्योंकि माता के दूध से या स्तनपान से बच्चों को यह वायरस प्रभावित नहीं करता है.

IMA ने दी बधाई

पटना AIIMS के इस रिसर्च को लेकर आईएमए (IMA) ने भी डॉक्टरों की टीम को बधाई दी है. आईएमए के वरीय उपाध्यक्ष डॉ. अजय कुमार ने कहा यह जानकारी देश हित के लिए काफी जरूरी थी, क्योंकि जानकारी नहीं होने के कारण ही जच्चा-बच्चा को खतरा था. माताएं इस वजह से डिप्रेशन का शिकार भी हो जाती थीं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज