Covid-19: कोरोना इलाज के लिए सेंटर ऑफ एक्सिलेंस बना पटना AIIMS, अब डॉक्टरों को देगा ट्रेनिंग

patna AIIMS

Patna AIIMS: पटना के एम्स (Patna AIIMS) में लगातार कोरोना के मरीजों (Covid Patients) का इलाज हो रहा है और यहां के मरीजों की रिकवरी रेट भी काफी बेहतर है.

  • Share this:
पटना. बिहार में जारी कोरोना संकट के बीच दानापुर से अच्छी खबर है. कोविड -19 के लिए एम्स पटना (Patna AIIMS) के समर्पण, इलाज की व्यवस्था और सराहनीय कार्य को देखते हुए राज्य सरकार ने इसे " COE " ( सेंटर ऑफ एक्सिलेंस ) बनाने का निर्णय लिया है. स्वास्थ्य विभाग बिहार सरकार ने पटना एम्स को राज्य के लिए सेंटर ऑफ एक्सिलेंस घोषित किया है. राज्य स्वास्थ समिति के पहले केन्द्र सरकार ने एम्स दिल्ली को राष्ट्रीय सेंटर ऑफ एक्सिलेंस घोषित करते हुए सभी राज्य सर अपने अपने राजधानी में एक कोविड डेडिकेटेड अस्पताल ( DCH ) को COE बनाने को कहा था.

इसी के संदर्भ में राज्य सरकार ने एम्स निदेशक की सहमति के बाद इसे सेंटर ऑफ एक्सिलेंस घोषित किया. इसके तहत राज्य में कोविड के इलाज एवं इसके रोकथाम के उपायों की योजना एंव स्वास्थ्य कर्मियों का प्रशिक्षण का पर्यवेक्षण एम्स पटना करेगी. इसकी जानकारी देते हुए एम्स के निदेशक डाo प्रभात कुमार सिंह एंव नोडल पदाधिकारी कोविड -19 डॉ संजीव कुमार ने बताया कि राज्य के मेडिकल कॉलेजों एंव जिलों के स्वास्थ्यकर्मियों, चिकित्सकों को प्रशिक्षण देने की रूपरेखा तैयार कर ली गई है.

कोविड -19 के इलाज के लिए एम्स, पटना मॉडल के अनुसार कोविड के सभी अस्पतालों को तैयार किया जायेगा. एम्स पटना के अधीक्षक डॉ सीएम सिंह, शिशु विभागाध्यक्ष डॉ लोकेश तिवारी, उपाधीक्षक डॉ अनिल कुमार, एचओडी डॉ प्रेम कुमार, कैंसर रोग के विभागाध्यक्ष डॉ जगजीत पांडेय, चिकित्साकर्मियों, चिकित्सकों एवं नसों ने सरकार के इस कदम पर प्रशंसा जाहिर की है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.