पटना को डूबने से बचाने की कवायद जारी, ​7 सदस्यीय टीम करेगी तैयारियों की जांच
Patna News in Hindi

पटना को डूबने से बचाने की कवायद जारी, ​7 सदस्यीय टीम करेगी तैयारियों की जांच
पटना में पिछले साल आई बाढ़ की भयावह स्थिति

दरअसल मानसून की पहली बारिश के कारण ही पटना के कुछ हिस्सों में जलजमाव हो गया है जिसके बाद से लोगों को पिछले साल पटना में पैदा हुई बाढ़ की भयावह स्थिति का डर एक बार फिर से सताने लगा है.

  • Share this:
पटना. इस साल के मानसून और बरसात में पटना को डूबने से बचाने की कवायद लगातार जारी है. इस कड़ी में सोमवार को पटना के डीएम ने वरीय अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की जिसमें सभी अधिकारियों की जिम्मेवारी तय की गई साथ ही लापरवाही बरतने पर कड़े फैसले लिए जाने के भी संकेत दिए गए. दरअसल मानसून की पहली बारिश के कारण ही पटना के कुछ हिस्सों में जलजमाव हो गया है जिसके बाद से लोगों को पिछले साल पटना में पैदा हुई बाढ़ की भयावह स्थिति का डर एक बार फिर से सताने लगा है.

सभी की तय की गई जवाबदेही

पटना में नाला से जल का निर्बाध प्रवाह सुनिश्चित करने और जलजमाव की समस्या से निजात दिलाने के लिए जिलाधिकारी कुमार रवि ने जांच टीम का गठन किया. जांच टीम के पदाधिकारियों को नगर निगम और बुडको द्वारा किए गए काम की सही स्थिति की जांच करने का निर्देश दिया. हर टीम के लिए क्षेत्र निर्धारण हुआ और तय की गई जवाबदेही.



अलग-अलग इलाकों के लिए बनाई गई टीम
जिलाधिकारी कुमार रवि ने जलजमाव की समस्या को दूर करने के लिए अलग-अलग क्षेत्रों के लिए गठित सात जांच टीमों के अधिकारियों के साथ बैठक की. डीएम ने नाला से जल का निर्बाध प्रवाह सुनिश्चित करने तथा जलजमाव की समस्या से निजात दिलाने की तैयारियों के बारे में पूछा. जिलाधिकारी ने संप हाउस , नाला अतिक्रमण और नाला उड़ाही के संबंध में दिशानिर्देश देते हुए उनकी भौतिक स्थिति की जांच कर रिपोर्ट उपलब्ध कराने का निर्देश दिया.

संप हाउसों की गहनता से हो जांच

संप हाउस की चर्चा करते हुए डीएम ने सभी अधिकारियों को संप हाउस के इनलेट आउटलेट की स्थिति, पंप की मरम्मती, विद्युत कनेक्टिविटी, स्टाफ्स की ड्यूटी चार्ट,आउटलेट की स्थिति बिंदुओं पर गहनता से जांच करने का निर्देश दिया गया है ताकि वास्तविक स्थिति की जानकारी प्राप्त हो सके तथा आवश्यक सुधार किया जा सके. पटना के 39 संप हाउस में 145 पंप कार्यरत अवस्था में है जिसमें 102 पंप बिजली चालित तथा 43 पंप डीजल चालित हैं. जिलाधिकारी ने सभी कार्यों के तकनीकी पहलू एवं भौतिक स्थिति की गहनता से जांच करने का निर्देश दिया है

मेनहोल को भी साफ करने का निर्देश

डीएम ने विशेष इलाको में छोटे-छोटे नाले एवं मेनहोल की सफाई के संबंध में भी निर्देश देते हुए रिपोर्ट मांगा ताकि यह स्थिति स्पष्ट हो सके की नाला के जल के निर्बाध प्रवाह में कोई अवरोध नहीं है. डीएम ने बनाई गई इन जांच टीमों को क्षेत्र निर्धारित करते हुए उस क्षेत्र विशेष में पड़ने वाले सभी संप हाउस, सभी नाले तथा अन्य जलजमाव वाले जगह का स्थलीय भ्रमण कर स्थिति का आकलन करने का निर्देश दिया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज