एक जून से पटना एयरपोर्ट से 18 जोड़ी विमानों का परिचालन होगा बंद, जानें इसकी वजह...

कोरोना काल में लॉकडाउन की वजह से पटना एयरपोर्ट से विमान सेवाओं पर खासा असर पड़ा है

कोरोना काल में लॉकडाउन की वजह से पटना एयरपोर्ट से विमान सेवाओं पर खासा असर पड़ा है

नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने पटना एयरपोर्ट (Patna Airport) की क्षमता पर लगी 80 प्रतिशत की अधिकतम सीमा (कैप) को बदल कर अब 50 प्रतिशत करने का निर्णय लिया है. इसके अनुसार अब पटना से 18 जोड़ी शेड्यूल विमानों का परिचालन (Flight Services) बंद हो जाएंगी. नया शेड्यूल एक-दाे दिन में जारी की जाएगी

  • Share this:

पटना. मंगलवार एक जून से पटना एयरपोर्ट से 18 जोड़ी विमानों का परिचालन बंद हो जाएगा. अभी पटना एयरपोर्ट (Patna Airport) से 48 जोड़ी विमान उड़ान भर रही हैं. लेकिन अब इसकी संख्या घटकर 30 जोड़ी रह जाएगी. दरअसल नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने पटना एयरपोर्ट की क्षमता पर लगी 80 प्रतिशत की अधिकतम सीमा (कैप) को बदल कर अब 50 प्रतिशत करने का निर्णय लिया है. इसके अनुसार अब पटना से 18 जोड़ी शेड्यूल विमानों का परिचालन (Flight Services) बंद हो जाएंगी. नया शेड्यूल एक-दाे दिन में जारी की जाएगी.

पटना एयरपाेर्ट की क्षमता 60 जाेड़ी विमान ऑपरेट करने का है. पिछले वर्ष लाॅकडाउन के बाद 25 मई से जब विमानाें का परिचालन दोबारा शुरू हुआ ताे 33 प्रतिशथ फ्लाइट्स ही शुरू हुए थे. उसके बाद जैसे-जैसे काेराेना संक्रमण में कमी आती गई विमानाें की संख्या बढ़ती चली गई. दिसंबर 2020 में यह 80 फीसदी तय किया गया, और इस वर्ष लोग इसके पूरी तरह हटने की उम्मीद कर रहे थे. लेकिन कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर ने स्थिति को फिर से खराब कर दिया.

नागरिक उड्डयन मंत्रालय के निर्णय का फिलहाल विमान परिचालन पर अधिक असर नहीं पड़ेगा क्योंकि कोरोना वायरस और लॉकडाउन के चलते यात्रियों की कमी से पिछले एक महीने से हर दिन 10 से 15 जोड़ी फ्लाइटें रद्द रहती हैं. कभी-कभी तो यह संख्या 20 से 25 जोड़ी या उससे भी अधिक हो जाती है. कोरोना की दूसरी लहर के धीमे पड़ने और उसके बाद परिचालन सामान्य होने के बाद जरूर इस कैपिंग का असर हवाई यात्रियों पर पड़ेगा और दिल्ली, मुंबई, काेलकाता, हैदराबाद, चेन्नई, बेंगलुरु, अहमदाबाद जैसे व्यस्त रूट में विमानों की संख्या घटने से टिकटों की कीमत बढ़ेंगे.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज