अपना शहर चुनें

States

बिहार के मेडिकल कॉलेजों में 1717 असिस्टेंट प्रोफेसर्स की नियुक्ति का रास्ता साफ

चीफ़ जस्टिस एपी शाही की खंडपीठ ने इस मामले में दायर याचिकाओं पर सुनवाई पूरी कर फैसला सुरक्षित रखा था जिसे मंगलवार को सुनाया गया
(पटना हाईकोर्ट की फाइल फोटो)
चीफ़ जस्टिस एपी शाही की खंडपीठ ने इस मामले में दायर याचिकाओं पर सुनवाई पूरी कर फैसला सुरक्षित रखा था जिसे मंगलवार को सुनाया गया (पटना हाईकोर्ट की फाइल फोटो)

सरकारी मेडिकल कॉलेजों में असिस्टेंट प्रोफेसर के 1717 पद रिक्त पदों पर बहाली के लिए बीपीएससी ने आवेदन आमंत्रित किया था.

  • Share this:
बिहार के सरकारी मेडिकल कॉलेजों में असिस्टेंट प्रोफेसरों की बहाली का रास्ता साफ हो गया है. पटना हाईकोर्ट ने इस मामले में अपना रूख ससाफ करते हुए दायर सभी याचिकाओं को खारिज कर दिया है. चीफ़ जस्टिस एपी शाही की खंडपीठ ने इस मामले में दायर याचिकाओं पर सुनवाई पूरी कर फैसला सुरक्षित रखा था, जिसे मंगलवार को सुनाया गया.

इन याचिकाओं में असिस्टेंट प्रोफ़ेसर के पद के लिए उम्र सीमा को चुनौती दी गयी थी. हाईकोर्ट ने अपने आदेश में स्पष्ट किया है कि इस मामले में कोई राहत नहीं दी जा सकती है. इन सरकारी मेडिकल कॉलेजों में असिस्टेंट प्रोफ़ेसर के 1717 पद रिक्त पदों पर बहाली के लिए बीपीएससी ने आवेदन आमंत्रित किया था, साथ ही टेस्ट लेकर परीक्षा का रिजल्ट तैयार कर लिया गया था.

इस मामले को पटना हाईकोर्ट में चुनौती दी गयी थी, जिसके बाद हाईकोर्ट ने रिजल्ट के प्रकाशन पर रोक लगा दी थी. हाईकोर्ट के आज के निर्णय के बाद बीपीएससी असिस्टेंट प्रोफ़ेसर के बहाली के लिए परीक्षा का परिणाम निकाल सकेगा. उसके बाद इन पदों पर बहाली हो सकेगी.



रिपोर्ट- आनंद वर्मा
ये भी पढ़ें- AES पर बोले मंगल पांडेय- कम हुई है बच्चों की मृत्यु दर

ये भी पढ़ें- 'बच्चों की मौत पर जब PM बोल सकते हैं तो CM क्यों चुप हैं?'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज