बिहार में 24 घंटे में सामने आए 11259 करोना वायरस के नए केस, संक्रमण से 67 मरीजों की मौत

बिहार सरकार द्वारा राज्य में लगाए गए लॉकडाउन का असर अब कोरोना संक्रमण के मामलों में आंकड़ों में आई कमी से दिखने लगा है (फाइल फोटो)

बिहार सरकार द्वारा राज्य में लगाए गए लॉकडाउन का असर अब कोरोना संक्रमण के मामलों में आंकड़ों में आई कमी से दिखने लगा है (फाइल फोटो)

बिहार आईएमए (Bihar IMA) के कार्यकारी अध्यक्ष डॉ. अजय कुमार मानते हैं कि राज्य सरकार ने समय पर लॉकडाउन लगाया जिसका असर अब आंकड़ों में दिख रहा है और कोरोना संक्रमण (Corona Virus) का चेन ब्रेक हो रहा है. उन्होंने लोगों से 15 दिन और धैर्य रखकर सावधानी बरतने की अपील करते हुए कहा कि यदि ऐसा होता है तो बिहार की हालत सामान्य हो सकती है

  • Share this:

पटना. कोरोना संक्रमण की बढ़ती रफ्तार पर बिहार ने अब काबू पाना शुरू कर दिया है. राज्य सरकार द्वारा लागू किए गए लॉकडाउन (Lockdown) का असर अब साफ तौर से दिख रहा है. लगातार तीसरे दिन बिहार (Bihar) में संक्रमित मरीजों के आंकड़ों में कमी आई है. बीते 24 घंटे में राज्य में 11,259 लोगों में कोरोना वायरस (Corona Virus) की पुष्टि हुई है. वहीं, संक्रमण से मौत के आंकड़ों में भी कमी आई है. राज्य में इस दौरान 67 मरीजों की इससे मौत हुई है.

इसके अलावा, राज्य में एक्टिव केसेज में भी गिरावट आई है, सक्रिय मामले घटकर 1,10,804 पर पहुंच गया है. राजधानी पटना में रोजाना 2000 से ज्यादा पॉजिटिव मरीज मिल रहे थे लेकिन रविवार को यहां 1,646 नए मरीजों में संक्रमण की पुष्टि हुई है. अन्य जिलों की बात करें तो औरंगाबाद में 592, बेगूसराय में 565, पूर्वी चंपारण में 451, गया में 403, मुजफ्फरपुर में 348, समस्तीपुर में 574, सारण में 368, वैशाली में 323, सुपौल में 318, पश्चिमी चंपारण में 303, भागलपुर में 372, गोपालगंज में 365, पूर्णिया में 372, सीवान में 319 कोरोना संक्रमित मरीज मिले हैं.

सबसे अच्छी बात है कि 13,364 लोग 24 घंटे में कोरोना को मात देकर स्वस्थ हुए हैं. वहीं, रिकवरी रेट में भी काफी उछाल आया है और यह बढ़कर 80.71 प्रतिशत पहुंच गया है. इस दौरान राज्य में 10,190 सैंपल की जांच हुई है.

पटना में एक्टिव केस की संख्या की बात करें तो यहां 22,589 सक्रिय मरीज हैं. बिहार आईएमए के कार्यकारी अध्यक्ष डॉ. अजय कुमार मानते हैं कि कोरोना महामारी जिस तरह से विकराल रूप ले चुका है, बिहार सरकार ने समय पर आईएमए की पहल पर लॉकडाउन लगाया जिसका असर अब आंकड़ों में दिख रहा है और संक्रमण का चेन ब्रेक हो रहा है. उन्होंने लोगों से 15 दिन और धैर्य रखकर सावधानी बरतने की अपील करते हुए कहा कि यदि ऐसा होता है तो बिहार की हालत सामान्य हो सकती है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज