• Home
  • »
  • News
  • »
  • bihar
  • »
  • Bihar: JDU में ललन सिंह और उपेन्द्र कुशवाहा की दोस्ती सब पर 'भारी'! क्या है इसके मायने?

Bihar: JDU में ललन सिंह और उपेन्द्र कुशवाहा की दोस्ती सब पर 'भारी'! क्या है इसके मायने?

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने ललन सिंह औऱ उपेन्द्र कुशवाहा को जेडीयू को 2005 की स्थिति में लाने की जिम्मेदारी सौंपी है (फाइल फोटो)

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने ललन सिंह औऱ उपेन्द्र कुशवाहा को जेडीयू को 2005 की स्थिति में लाने की जिम्मेदारी सौंपी है (फाइल फोटो)

Bihar News: जबसे आर.सी.पी सिंह केंद्र में मंत्री बने हैं तब से ललन सिंह और उपेन्द्र कुशवाहा की दोस्ती और मजबूत होती जा रही है. लेकिन इसके पीछे की बड़ी वजह है कि सबसे पहले जेडीयू में इन दोनों नेताओं ने अपनी पकड़ मजबूत हो, और संगठन में धीरे-धीरे आर.सी.पी सिंह के समर्थकों को किनारे लगा दिया. आर.सीपी सिंह के मंत्री बनकर केंद्र में चले जाने से पार्टी में परिस्थितियां बदल गई हैं

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

पटना. जनता दल युनाइटेड (JDU) में अब यह धीरे-धीरे साफ होता जा रहा है कि ललन सिंह (Lalan Singh) और उपेन्द्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha) की जोड़ी सब पर भारी पड़ रही है. हाल के दिनों में संगठन में जो फेरबदल हुए हैं, साथ ही कुछ नए लोगों को पार्टी में महत्वपूर्ण जिम्मेदारी दी गई है उसके बाद से तस्वीर बिल्कुल स्पष्ट है कि अब पार्टी में इन्हीं दो नेताओ की चलेगी. यह सब हो रहा है मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) की मर्जी से, जिन्होंने जेडीयू को 2005 के दौर में लाने की जिम्मेदारी इन दोनों नेताओं के ऊपर डाल दिया है.

जबसे आर.सी.पी सिंह केंद्र में मंत्री बने हैं तब से इनकी दोस्ती (ललन सिंह और उपेन्द्र कुशवाहा) और मजबूत होती जा रही है. लेकिन इसके पीछे की बड़ी वजह है कि सबसे पहले जेडीयू में इन दोनों नेताओं ने अपनी पकड़ मजबूत हो, और  संगठन में धीरे-धीरे आर.सी.पी सिंह के समर्थकों को किनारे लगा दिया. आर.सीपी सिंह के मंत्री बनकर केंद्र में चले जाने से पार्टी में परिस्थितियां बदल गई हैं.

JDU में ललन सिंह और उपेन्द्र कुशवाहा के बीच बेहतर तालमेल

जेडीयू को लव-कुश और सामाजिक न्याय वाली पार्टी मानी जाती है. ऐसे में ललन सिंह को यह भी मैसेज देना था कि उनके सवर्ण होने से नीतीश कुमार के सामाजिक न्याय वाली पार्टी पर कोई असर नहीं पड़ने वाला है, और वो उपेन्द्र कुशवाहा के साथ बेहतर तालमेल बना कर चल रहे हैं, और कई बार उन्होंने ऐसा मैसेज भी दिया है. एक समय ऐसा भी आया था जब आर.सी.पी सिंह के स्वागत के समय लगाए गए पोस्टरों से ललन सिंह की तस्वीर नदारद थी. इसको लेकर पार्टी में माहौल गर्मा गया था. पोस्टर लगाने वाले नेता अभय कुशवाहा पर अनुशासनहीनता का मामला उठा लेकिन पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह ने कार्रवाई नहीं की. ताकि पार्टी में यह मैसेज नहीं जाए कि ललन सिंह ने पोस्टर नहीं लगाने वाले पिछड़े जाति के नेता पर कार्रवाई की.

वहीं, दूसरी तरफ उपेन्द्र कुशवाहा भी जब से पार्टी में शामिल हुए हैं तब से जेडीयू के कुशवाहा नेता परेशान हैं. लेकिन नीतीश कुमार के वजह से कोई भी उपेन्द्र कुशवाहा के खिलाफ कुछ नहीं बोल रहा. एक बार ऐसा भी हुआ जब जेडीयू पोस्टर विवाद से चर्चा में आए अभय कुशवाहा ने कहा था कि वो उपेन्द्र कुशवाहा को नेता नहीं मानते हैं, इस पर पार्टी की राजनीति गर्मा गई थी. जेडीयू के कुशवाहा नेताओं की बेचैनी इससे भी समझी जा सकती है कि पटना के एक होटल में जेडीयू के तमाम बड़े नेताओं की बैठक होती है. लेकिन इसमें न तो उपेन्द्र कुशवाहा और न ही उनके समर्थकों को बुलाया गया. जबकि बैठक में पार्टी के कुशवाहा सांसद, विधायक, मंत्री और पार्टी के पदधारक कुशवाहा लीडर मौजूद थे. उपेन्द्र कुशवाहा के बैठक में शामिल नहीं होने को लेकर प्रदेश अध्यक्ष उमेश कुशवाहा से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि इसमें राजनीति न खोजें, यह पुराने लोगों की बैठक थी. अगली बैठक में उपेन्द्र कुशवाहा को बुलाया जाएगा.

इसमें राजनीति न खोजें, JDU के अंदर लोकतंत्र है 

वहीं, जब उपेन्द्र कुशवाहा से जेडीयू के कुशवाहा नेताओं की बैठक के बारे में और उनके इसमें शामिल नहीं होने के बारे में पूछा गया तो उन्होंने भी कहा कि इसमें कोई राजनीति नहीं खोजें. जेडीयू के अंदर लोकतंत्र है, कोई भी पार्टी को मजबूत बनाने के लिए एक साथ बैठ सकता है.

यह बात उपेन्द्र कुशवाहा को भी पता है कि उनके जेडीयू में शामिल होने से पार्टी के कई बड़े नेता परेशान हैं. इसकी बानगी भी तब दिखी थी जब आर.सी.पी सिंह उपेन्द्र कुशवाहा के शामिल होने के वक्त मौजूद नहीं थे. लेकिन कुशवाहा इन सब से इतर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के निर्देश पर बिहार का दौरा कर जेडीयू को मजबूत बनाने के साथ-साथ अपनी पकड़ को जेडीयू पर मजबूत बनाने में लगे हुए हैं. इसमें उन्हें ललन सिंह की पूरी मदद मिल रही है जिनके पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष होने से जेडीयू के अंदर से लेकर बाहर तक उनके खिलाफ कोई मोर्चा नहीं खोल पा रहा है. दूसरी ओर ललन सिंह भी उपेन्द्र कुशवाहा को अपने साथ लेकर चल रहे हैं ताकि लव-कुश समीकरण वाली पार्टी में उन्हें कोई समस्या ना हो.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज