प्रेमिका जूली से दूर हुए 'लवगुरु' मटुकनाथ, अपने पैतृक गांव में खोलेंगे प्रेम की पाठशाला


लवगुरु के नाम से मशहूर मटुकनाथ ओशो के नाम पर अप्रैल में अपने गांव में विद्यालय खोलने जा रहे हैं

लवगुरु के नाम से मशहूर मटुकनाथ ओशो के नाम पर अप्रैल में अपने गांव में विद्यालय खोलने जा रहे हैं

मटुकनाथ (Matuknath) ने कहा कि विश्व में एक मात्र लवगुरु ओशो (Osho) हैं, उन्हीं से मैं भी प्रेम का ज्ञान प्राप्त करता हूं. मैं उनके सामने कुछ भी नही हूं लेकिन जब दुनिया मुझे भी लवगुरु कहती है तो कुछ तो आधार होगा. लेकिन मैं ओशो जैसा लवगुरु नहीं हो सकता हूं, शिष्य जरूर हो सकता हूं. इसलिए ओशो के नाम पर विद्यालय खोल रहा हूं

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 21, 2021, 5:47 PM IST
  • Share this:
पटना. अपनी प्रेमिका जूली से दूर हुए लवगुरु मटुकनाथ (Matuknath) अब भागलपुर (Bhagalpur) के अपने पैतृक गांव जयरामपुर में रहते हैं. जूली से बिछड़ने के बाद मटुकनाथ ओशो (Osho) के नाम पर गांव में विद्यालय खोलने वाले हैं. अप्रैल से शुरू होने वाले इस विद्यालय का नाम ओशो अंतरराष्ट्रीय विद्यालय होगा. यहां बिहार (Bihar) के साथ-साथ देश और विदेश के छात्र-छात्राएं प्रेम की पढ़ाई (Love School) कर सकेंगे. ओशो के नाम पर विद्यालय क्यों, इस सवाल पर मटुकनाथ हंसते हुए कहते हैं, विश्व में एक मात्र लवगुरु ओशो हैं, उन्हीं से मैं भी प्रेम का ज्ञान प्राप्त करता हूं. मैं उनके सामने कुछ भी नही हूं लेकिन जब दुनिया मुझे भी लवगुरु कहती है तो कुछ तो आधार होगा. लेकिन मैं ओशो जैसा लवगुरु नहीं हो सकता हूं, शिष्य जरूर हो सकता हूं. इसलिए ओशो के नाम पर विद्यालय खोल रहा हूं.

मटुकनाथ से जब यह सवाल किया गया कि क्या इस विद्यालय में जूली भी रहेंगी तो इस पर वो कहते हैं अब जूली की आने की संभावना नहीं के बराबर है. क्योंकि जूली अब उनका साथ छोड़ सात समुंदर पार त्रिनिदाद में बस गई हैं. एक आश्रम में सन्यासी की भांति रहती हैं. कभी कभार उनसे फोन पर बातचीत हो जाती है. पिछले साल उन्होंने मुझे बुलाया था लेकिन अब वो भारत आना नहीं चाहती. मटुकनाथ उदासी वाले भाव में बोलते हैं कि जूली की तबियत अब ठीक नहीं है, अब वो दुनिया से पूरी तरह से दूर हो गई हैं. खुद को अकेला कर एकाकी जीवन जी रही हैं. ऐसी हालत क्यों हो गई जूली की, यह पूछने पर वो कहते हैं, इसकी शुरुआत पटना से ही हो गई थी, जब वो तथाकथित रूप से अध्यात्म की ओर चली गईं थी और इसी सब के बीच वो भारत छोड़कर त्रिनिदाद चली गई.

पटना के बी.एन कॉलेज में हिंदी के प्रोफेसर रहे मटुकनाथ की उनकी स्टूडेंट जूली के साथ चली लव स्टोरी ने खूब सुर्खियां बटोरी थीं (फाइल फोटो)


मोबाइल पर आपस में संपर्क में रहते हैं जूली और मटुकनाथ
अब कभी मटुकनाथ और जूली एक साथ नहीं हो पाएंगे, इस सवाल पर वो कहते हैं, हां अब पहले वाली बात नहीं रही. हम एक साथ नहीं रह सकते हैं, लेकिन बावजूद इसके जूली से मोबाइल पर संपर्क जरूर रहता है. हम एक-दूसरे का हालचाल पूछते रहते हैं. क्या उन्हें पीड़ा होती है जूली से दूर होने पर, इस सवाल पर मटुकनाथ कहते हैं कोई पीड़ा नहीं होती है. मैंने खुद को समझा लिया है और अब विद्यालय में खुद को पूरी तरह से झोंक दिया है.

क्या दूसरी जूली की तलाश में हैं मटुकनाथ, इस सवाल पर वो कहते हैं कि अब मुझे एक से नहीं बल्कि कई से प्रेम करना है. लेकिन प्रेम का भाव क्या होगा, निश्चित तौर पर इसका स्वरूप जूली जैसा नहीं होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज