Patna News: प्रोफेसर बिटिया ने सात समंदर पार से क्‍यों मांगा CM नीतीश से इंसाफ? जानें पूरा मामला

संजय झा ने कहा है कि उनके संज्ञान में यह मामला आया है और उन्होंने मधुबनी के डीएम से इस पूरे मसले पर बातचीत भी की है.

संजय झा ने कहा है कि उनके संज्ञान में यह मामला आया है और उन्होंने मधुबनी के डीएम से इस पूरे मसले पर बातचीत भी की है.

Bihar News: स्वाति के ट्वीट का जवाब बिहार सरकार के जल संसाधन और सूचना जनसंपर्क मंत्री संजय कुमार झा (Sanjay Kumar Jha) ने दिया है.

  • Share this:
पटना. बिहार के मधुबनी में जन्मे स्वीडन के गोथेनबर्ग यूनिवर्सिटी (Gothenburg University) में प्रोफेसर स्वाति पाराशर (Swati Parashar) ने बिहार सरकार से इंसाफ की गुहार लगाई है. स्कूल ऑफ ग्लोबल स्टडीज में शांति और विकास विषय पर अध्यापन करने वालीं स्वाति पराशर ने ट्विटर के जरिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Chief Minister Nitish Kumar) से शिकायत की है कि उनकी जमीन पर लाल झंडे की आड़ में कुछ लोगों ने जबरन अतिक्रमण किया है. स्वाति ने लिखा है कि पुलिस जब हटाने के लिए पहुंची तब लोगों ने पुलिस पर हमला करते हुए पत्थर और लाठी से प्रहार कर दिया.

दरअसल, स्वाति के पिता अरविंद झा ने 40 वर्षों तक प्रशासनिक सेवा में योगदान देने के बाद हाल ही में मधुबनी स्थित अपने पैतृक गांव में ऑर्गेनिक फार्मिंग और मखाने का कारोबार करने का प्लान बनाया. उनके साथ उनके बेटे और स्वाति के भाई (जो दिल्ली की एक मल्टीनेशनल कंपनी में कार्यरत थे) ने भी नौकरी छोड़कर पिता का साथ देना बेहतर समझा. बाप-बेटे गांव में अपनी जमीन पर कारोबार करने के मकसद से पहुंचे जरूर, लेकिन उनकी जमीन पर लाल झंडा लिए कुछ लोगों ने कब्जा कर लिया. इसी के बाद स्वाति ने सीएम नीतीश कुमार से ट्विटर के माध्यम से गुहार लगाई है.

बिहार के मंत्री ने दिया जवाब

स्वाति के ट्वीट का जवाब बिहार सरकार के जल संसाधन और सूचना जनसंपर्क मंत्री संजय कुमार झा ने दिया है. संजय झा ने कहा है कि उनके संज्ञान में यह मामला आया है और उन्होंने मधुबनी के डीएम से इस पूरे मसले पर बातचीत भी की है. संजय झा ने कहा है कि उन्होंने इस मामले में कार्रवाई का आदेश दिया है. संजय झा के जवाब पर स्वाति ने भी ट्वीट करते हुए कहा है कि जनप्रतिनिधियों को आम लोगों को आश्वस्त करना चाहिए कि उन्हें सुना जा रहा है और आपके इस पहल से निश्चित तौर पर थोड़ी राहत महसूस हुई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज