पटना से सटे बाढ़ में गंगा में बड़ी संख्या में बहकर आए तरबूज, लोगों में लूटने की मची होड़

कई लोगों ने गंगा में बहकर आए तरबूज इतने लूट लिए हैं कि उन्होंने इसकी दुकान खोल ली है. जो लोग तरबूज नहीं लूट पा रहे हैं वो यहां दो से तीन रूपये में एक तरबूज खरीद रहे हैं

कई लोगों ने गंगा में बहकर आए तरबूज इतने लूट लिए हैं कि उन्होंने इसकी दुकान खोल ली है. जो लोग तरबूज नहीं लूट पा रहे हैं वो यहां दो से तीन रूपये में एक तरबूज खरीद रहे हैं

पटना से सटे बाढ़ (Barh) में गंगा नदी के उमानाथ घाट पर लोग बहती गंगा में तरबूज (Watermelon Loot) लूट रहे है, जिसको जितना मिल रहा है वो उसे ले कर घर रवाना हो रहे हैं. कोई दो, तो कोई चार या कोई इससे भी ज्यादा तरबूज बोरी में भर कर अपने घर ले कर जा रहा है

  • Share this:

बाढ़. अब तक आपने सड़क पर पलटी हुई गाड़ी से सामान लूट कर ले जाते हुए तस्वीर देखी होगी. मगर राजधानी पटना (Patna) से सटे बाढ़ इलाके में गंगा नदी (River Ganga) में लूट मची हुई है. हैरान न हों, गंगा में बहते तरबूजों को लूटने के लिए लोगों के बीच आपाधापी की स्थिति मच गई. बाढ़ के उमानाथ घाट पर लोग बहती गंगा में तरबूज (Watermelon Loot) लूट रहे है, जिसको जितना मिल रहा है वो उसे ले कर घर रवाना हो रहे हैं. कोई दो, तो कोई चार या कोई इससे भी ज्यादा तरबूज बोरी में भर कर अपने घर ले कर जा रहा है.

वहीं, कई लोगों ने इतना तरबूज लूट लिया कि उन्होंने इसकी दुकान ही खोल ली है. जो लोग तरबूज नहीं लूट पा रहे हैं वो यहां दो से तीन रूपये में एक तरबूज खरीद रहे हैं.

दरअसल गंगा किनारे लगभग सभी घाटों पर यही नजारा देखने को मिल रहा है. उमानाथ घाट हो, पोस्ट ऑफिस घाट या फिर कोई और... इनके आस-पास रहने वाले महिला और पुरुष, सभी मुफ्त तरबूज की चाहत में गंगा किनारे पहुंच रहे हैं, और अपने साथ पानी में बहकर आए तरबूज ले कर जा रहे हैं.

गंगा में इतनी संख्या में तरबूज कहां से आ रहा है, यह कोई नहीं जनता. उमानाथ निवासी राकेश राज की मानें तो समस्तीपुर या राघोपुर दियारा से बड़ी संख्या में तरबूज बहकर बाढ़ के घाटों पर पहुंच गये हैं.
मुफ्त तरबूज पाने के लिए लोगों की जुट रही भीड़ को देख प्रशासन हरकत में आ गया है. गंगा नदी में बढ़े पानी के कारण कोई अनहोनी ना हो इसको लेकर प्रशासन नजर बनाए हुए है. प्रशासन का भी मानना है याश चक्रवात के कारण हुई बारिश से भारी मात्रा में तरबूज दियारा से बहते हुए यहां आ रहे हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज