पटना: लॉकडाउन में निकले पिता-पुत्र पर टूटा डीएसपी का कहर, थाने में ‘थर्ड डिग्री टॉर्चर’

पटना में पुलिस की पिटाई से जख्मी शख्स

Brutal Face Of Bihar Police: पटना में प्रशिक्षु डीएसपी के हाथों बेरहमी से पिटाई की घटना के बाद पीड़ित परिवार ने पालीगंज डीएसपी, एसएसपी, मुख्यमंत्री समेत तमाम संबंधित पदाधिकारियों के पास लिखित आवेदन देकर जांच और कार्रवाई की मांग की है.

  • Share this:
पटना. बिहार में जारी लॉकडाउन के बीच पटना से सटे पालीगंज में पुलिस का क्रूर चेहरा सामने आया है. पालीगंज थाने (Paliganj Police station) में पदस्थ प्रशिक्षु डीएसपी (Trainee DSP) राजीव कुमार सिंह और उनकी टीम पर आरोप है कि इन लोगों ने बिना किसी वजह बाप-बेटे की बड़ी बेरहमी से पिटाई कर दी. पुलिस दोनों को घसीटते हुए थाने ले गई और घण्टों हवालात में बंद कर दिया.

पुलिस ने हवालात में ही दोनों की बड़ी बेरहमी से पिटाई की. इस पिटाई की हकीकत विकास वर्मा के शरीर पर लाठी डंडों की मार के निशान भी बयां कर रहे हैं. जख्मी पालीगंज बाबा बोरिंग रोड मोहल्ला निवासी भूषण वर्मा और उनके पुत्र विकास कुमार हैं, जो यूपीएससी की तैयारी के लिए संपूर्ण क्रांति ट्रेन से दिल्ली जाने वाले थे. इसके लिए कुछ जरूरी समान की खारीदारी के लिए सुबह एक दुकान पर बाइक लगाकर गए थे, इसी दौरान एक तेज गति से जा रही स्कॉर्पियो ने बाइक को टक्कर मार दी.

डीएसपी ने की गाली-गलौच, विऱोध करने पर भड़के
बाइक में धक्का लगने के बाद स्कॉर्पियो को रुकवाकर पिता-पुत्र उससे पूछताछ कर ही रहे थे कि पालीगंज थाने मे कुछ ही दिन पूर्व आए एक प्रशिक्षु डीएसपी राजीव कुमार सिंह और एसआई प्रदीप कुमार ने दलबल के साथ पहुंचकर युवक विकास कुमार और उसके पिता भूषण वर्मा को पकड़ लिया और गाली-गलौज करने लगे. इसका विरोध पिता-पुत्र ने किया तो भड़के हुए प्रशिक्षु डीएसपी ने युवक और उसके पिता की सरेआम बीच सड़क पर पिटाई कर दी.

लाठियों से पीटा, गुप्तांगों पर भी किए वार
इसके बाद पुलिस दोनों को थाने मे लेकर चली गई जहां युवक की लाठी से पिटाई करने के बाद उसके गुप्तांगों को भी निशाना बनाया गया. पीड़ित के मुताबिक बांड पेपर पर हस्ताक्षर कराने के बाद दोनों को छोड़ दिया गया. पुलिस की पिटाई के कारण विकास इतना दर्द था कि वो शाम की ट्रेन से दिल्ली नहीं जा सका. इसके बाद पीड़ित भूषण वर्मा ने इस घटना के विरोध में पालीगंज डीएसपी, एसएसपी, मुख्यमंत्री समेत तमाम संबंधित पदाधिकारियों के पास लिखित आवेदन देकर जांच और कार्रवाई की मांग की है. फोन पर हुई बात में पालीगंज डीएसपी तनवीर अहमद ने बताया कि मामले की जांच की जा रही है जांच के बाद दोषी पाये लोगों पर कार्रवाई की जाएगी.