रूपेश सिंह हत्याकाण्ड: मर्डर मिस्ट्री को सुलझाने के करीब पुलिस, दो बिल्डर सहित पांच संदिग्ध SIT के शिकंजे में

पटना एयरपोर्ट पर इंडिगो के स्टेशन मैनेजर रहे रूपेश कुमार सिंह की अपराधियों ने उसके अपार्टमेंट के गेट पर गोली मारकर हत्या कर दी थी (फाइल फोटो)

पटना एयरपोर्ट पर इंडिगो के स्टेशन मैनेजर रहे रूपेश कुमार सिंह की अपराधियों ने उसके अपार्टमेंट के गेट पर गोली मारकर हत्या कर दी थी (फाइल फोटो)

Indigo Manager Rupesh Singh Murder Case: पटना में 12 जनवरी को हुई इस घटना के बाद पुलिस फूंक-फूंक कर कदम रख रही है. यही कारण है कि इस केस को सुलझाने के लिए अभी तक 400 से अधिक लोगों से पूछताछ हो चुकी है.

  • Share this:

पटना. बिहार पुलिस पटना में इंडिगो के एयरपोर्ट मैनेजर रूपेश सिंह हत्याकांड (Rupesh Singh Murder Case) को सुलझाने के करीब पहुंच चुकी है. पुलिस की जांच में जुटी एसआइटी (SIT) के शिकंजे में दो बिल्डर, एक जमीन कारोबारी सहित पांच संदिग्ध हैं. इन सभी से छह पुलिस पदाधिकारियों सहित 15 सदस्यीय टीम लगातार पूछताछ कर रही है. एसआइटी के एक अधिकारी का कहना है कि कई बार ऐसा लगा कि हम केस को सुलझाने में काफी करीब है, लेकिन कड़ी नहीं जुड़ रही. पिछले तीन दिनों से जांच सही दिशा में चल रही है और काफी हद तक हत्याकांड की गुत्थी सलझती नजर आ रही है.

गिरफ्तारी के लिए ठोस साक्ष्य की जरूरत है और उसके लिए एसआइटी लगातार काम कर रही है. एक अपराधी और लाइनर की भूमिका निभाने वाले की पहचान कर उनकी तलाश में पटना और दूसरे जिलों में आधा दर्जन से अधिक इलाकों में लगातार छापेमारी चल रही है, हालांकि वरीय अधिकारी जब तक किसी की गिरफ्तारी नहीं होती है इस पर कुछ भी बोलने से बच रहे हैं. सूत्रों की मानें तो एसआइटी की जांच अब बिल्डर और जमीन से जुड़े एक कारोबारी पर टिकी है.

हिरासत में लिए गए पांच में तीन संदिग्ध पटना के हैं जबकि दो दूसरे जिले के रहने वाले हैं. पटना के तीनों संदिग्ध में एक बिल्डर और एक जमीन कारोबारी से भी रूपेश की जान पहचान थी लेकिन, वारदात के पूर्व से उनके बीच दूरी बनने की बात बताई जा रही है. पुलिस इस बिन्दु पर जांच कर रही है कि आखिर इसके पीछे वजह क्या थी? सूत्रों की मानें तो तकनीकी जांच में कुछ ऐसे साक्ष्य मिले हैं जिससे एसआइटी इन पर शिकंजा कसते जा रही है. इनके संपर्क में रहने वाले कई लोगों से पूछताछ की जा रही है.

मामले में पुलिस अब तक छपरा, गोपालगंज, वैशाली, बेगुसराय, गोवा, सीतामढ़ी से लेकर पटना में करीब चार सौ लोगों से पूछताछ कर चुकी है. एयरपोर्ट से लेकर पुनाईचक में हर उन लोगों से पुलिस पूछताछ कर चुकी है, जो रूपेश के संपर्क में थे. मामूली विवाद से लेकर टेंडर और एयरपोर्ट पार्किंग से लेकर उनके हर एक करीबी से लेकर एक एक कर्मी से पूछताछ हो चुकी है. एसआइटी ने सब जगह पूछताछ के बाद वापस शास्त्रीनगर और दानापुर के बीच जांच तेज कर दी है.
तीन दिनों से अपार्टमेंट के आसपास ही घूम रही पुलिस एसआइटी हत्याकांड का पर्दाफाश करने के लिए हर विधि अपना रही है. एसटीएफ, सीआइडी के अलावा तकनीकी सेल के एक्सपर्ट से लेकर फोरेंसिक जानकार भी पुलिस की मदद में जुटे है. मालूम हो कि 12 जनवरी की देर शाम बिहार की राजधानी पटना के शास्त्रीनगर थाना क्षेत्र के पुनाईचक स्थित अपार्टमेंट के सामने ही कार में रूपेश की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज