• Home
  • »
  • News
  • »
  • bihar
  • »
  • जातीय जनगणना पर CM नीतीश के बयान से बिहार में सियासत गर्माई, RJD-कांग्रेस ने बोला यह...

जातीय जनगणना पर CM नीतीश के बयान से बिहार में सियासत गर्माई, RJD-कांग्रेस ने बोला यह...

सीएम नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू के साथ-साथ आरजेडी समेत विपक्षी पार्टियां जातिगत जनगणना पर जोर दे रही हैं (फाइल फोटो)

सीएम नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू के साथ-साथ आरजेडी समेत विपक्षी पार्टियां जातिगत जनगणना पर जोर दे रही हैं (फाइल फोटो)

Bihar News: बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के जातीय जनगणना को लेकर दिल्ली में दिए बयान देने के बाद उनकी सहयोगी पार्टी बीजेपी जहां संभल कर बयान दे रही है. वहीं, राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) और कांग्रेस ने उन पर हमला बोल दिया है

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

पटना. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के जातीय जनगणना को लेकर दिल्ली में दिये गए बयान को लेकर बिहार में सियासत गर्मा गई है. नीतीश के इस मुद्दे पर बयान देने के बाद उनकी सहयोगी पार्टी बीजेपी जहां संभल कर बयान दे रही है. वहीं, राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) और कांग्रेस ने सीएम नीतीश कुमार (Nitish Kumar) पर हमला बोल दिया है. उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार ने जातिगत जनगणना (Caste Census) पर बीजेपी से अलग होने की अपील करते हुए महागठबंधन (Grand Alliance) को साथ आने का आह्वान किया है. दोनों विपक्षी पार्टियों ने जातीय जनगणना के मुद्दे पर मुखर होकर लड़ाई लड़ने की बात कही है.

दरअसल दिल्ली दौरे पर गए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने रविवार को इस संबंध में पत्रकारों द्वारा पूछे जाने पर कहा कि हम लोगों ने अपनी बात कही है. हम शुरू से कह रहे हैं जातीय जनगणना होनी चाहिए. जब जातीय जनगणना होगी तभी लोगों के बारे में सही जानकारी मिल पाएगी कि कौन पीछे है, उसे आगे करने के लिए हम लोग निर्णय बेहतर ले सकते हैं.

उन्होंने कहा कि 2011 में जातीय जनगणना नहीं हुई थी, वो सोशयो-इकोनॉमिक कास्ट सेंशस (Socio Economic Caste Census) थी. अभी लोग कह रहे हैं कि कई लाख जातियां हैं, तो इसके लिए पहले से तैयारी करनी चाहिए थी. हर जाति में उपजाति है. पूछने पर लोग उपजाति बोल देते हैं. तो जब जनगणना से पहले ट्रेनिंग होगी तो उपजाति को जाति के साथ जोड़ देंगे. सीएम नीतीश ने कहा कि ऐसी कोई जाति नहीं है जिसमें कोई उपजाति नहीं है. यह जरूरी है कि सब को ठीक से ट्रेनिंग देकर तब जनगणना कराई जाए.
इस मुद्दे पर हम सभी लोगों ने मिलकर अपना अनुरोध किया है. लेकिन जो कोर्ट का मामला है वो सोश्यो-इकोनॉमिक कास्ट सेंशस से जुड़ा है. इसका जातीय जनगणना से कोई लेना-देना नहीं है.

बिहार के मुख्यमंत्री ने कहा कि हम लोग फिर से मांग करते हैं कि इस पर पुनर्विचार किया जाए और जातीय जनगणना किया जाए. आने वाले दिनों में हम सभी पार्टी के लोगों के साथ बैठेंगे उसके बाद आगे का निर्णय करेंगे कि क्या करना है. हम लोगों के विचार को सभी लोग जानते हैं. यह देश के हित में है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज