रविवार को अपने विधायकों-नेताओं के साथ लालू यादव करेंगे वर्चुअल बैठक, रहेगी सबकी नज़र

चारा घोटाला के कई मामलों में सजायाफ्ता लालू यादव को साढ़े तीन साल बाद पिछले महीने अदालत से जमानत मिली है (फाइल फोटो)

चारा घोटाला के कई मामलों में सजायाफ्ता लालू यादव को साढ़े तीन साल बाद पिछले महीने अदालत से जमानत मिली है (फाइल फोटो)

आरजेडी अध्यक्ष लालू यादव (Lalu Yadav) लंबे अरसे के बाद रविवार को अपनी पार्टी के विधायकों और नेताओं से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए जुड़ेंगे तो आरजेडी नेताओं के लिए वो, बड़ा पल होने के साथ-साथ भावुक भी होगा. वो दिल्ली में रहकर इस वर्चुअल बैठक में हिस्सा लेंगे

  • Share this:

पटना. झारखंड हाईकोर्ट से जमानत मिलने और दिल्ली के एम्स (AIIMS) अस्पताल से डिस्चार्ज होने के बाद राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के सुप्रीमो लालू यादव (Lalu Yadav) एक बार फिर सक्रिय हो गए हैं. लंबे अरसे के बाद लालू यादव को सार्वजनिक जीवन मेंहोते देखा जा रहा है. इसकी शुरुआत वो रविवार को दोपहर में पार्टी के सभी विधायकों, विधान पार्षदों और वरीय नेताओं के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग (Video Conferencing) के माध्यम से रूबरू होकर करेंगे.

लालू को बेल मिलने के बाद से बिहार की सियासत में हलचल तेज हो गई है. आरजेडी के कई नेताओं के हाल-फिलहाल यह बयान देने कि बहुत जल्द बिहार में भी 'खेला होबे', से सूबे की सियासत गरमाने के आसार हैं. लालू यादव लंबे अरसे के बाद रविवार को अपनी पार्टी के विधायकों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए जुड़ेंगे तो आरजेडी नेताओं के लिए वो, बड़ा पल होने के साथ-साथ भावुक भी होगा.

'बिहार में भी 'खेला होबे', चिंता मत कीजिए, बस इंतजार कीजिए'

आरजेडी के वरिष्ठ नेता और विधायक भाई वीरेंद्र ने कहा, लालू यादव सिर्फ आरजेडी के नेता और अभिभावक ही नहीं हैं, बल्कि वो बिहार की जनता के सच्चे शुभचिंतक हैं. कोरोना काल में लालू यादव अपने सेहत की चिंता किए बिना पार्टी के नेताओं से बातचीत कर बिहार के हर जिले का हाल लेंगे, ताकि जनता को इस संकट की घड़ी में कैसे मदद पहुंचाई जा सके इसपर विचार हो. जो लोग लालू यादव के बाहर आने और उनकी बुलाई बैठक पर निशाना साध रहे हैं, वो आखिर क्यों बेचैन हैं. कोरोना वायरस खत्म होने दीजिए, बिहार में भी 'खेला होबे', चिंता मत कीजिए, बस इंतजार कीजिए.
वहीं, पार्टी के ही एक अन्य नेता और पूर्व विधायक शक्ति यादव ने कहा कि देश और बिहार को आज लालू यादव की विचारधारा की सख्त जरूरत है. लालू यादव अपने विधायकों और नेताओं से बातचीत कर बिहार की जनता को संकट की इस घड़ी में मदद दिलाने का जो निर्देश देंगे उसका हम पूरी मजबूती से पालन करेंगे.

आरजेडी के लगाए आरोपों पर जनता दल युनाइटेड (JDU) के प्रवक्ता निखिल मंडल ने पलटवार करते हुए कहा, लालू यादव को जो करना है करें, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है. लेकिन लालू यादव को जमानत हाईकोर्ट से राजनीति करने के लिए नहीं मिला है. उन्होंने कहा कि बिहार की जनता ट्वीट और सोशल मीडिया के माध्यम से राजनीति करने वाले नेताओं को तवज्जो नहीं देती है, बिहार में आकर जनता के बीच सेवा करने वाले नेता को पूछती है.

लालू यादव की वर्चुअल बैठक की खबर से बिहार में सियासत गर्म



दरअसल लालू यादव के वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए अपनी पार्टी के विधायकों से बात करने की खबर से बिहार की सियासत गर्मा गई है. ऐसे में देखना दिलचस्प होगा कि इस बैठक में आरजेडी अध्यक्ष अपने नेताओं को क्या टिप देते हैं और उसका बिहार की सियासत पर क्या और कितना असर पड़ता है.

बता दें कि पिछले महीने कोर्ट से बेल मिलने और एम्स अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद लालू यादव इन दिनों अपनी सांसद बेटी मीसा भारती के दिल्ली स्थित आवास पर रहकर स्वास्थ्य लाभ ले रहे हैं. उनके छोटे बेटे और बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव भी यहां मौजूद हैं और अपने पिता की देखभाल कर रहे हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज