बिहार में कब होंगे पंचायत चुनाव? CM नीतीश बोले- चुनाव आयोग को करना है निर्णय

वीडियो कॉन्फ्रेंस से बैठक करते हुए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार

वीडियो कॉन्फ्रेंस से बैठक करते हुए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने कहा कि अभी पंचायत चुनाव को लेकर सोचा नहीं गया है. चुनाव के बारे में आयोग को सोचना है, इस बारे में फिलहाल कुछ नहीं बता सकता. दरअसल पंचायत चुनाव में ईवीएम (EVM) को लेकर लंबे टकराव के बाद केंद्रीय और राज्य चुनाव आयोग के बीच सहमति बन गई. लेकिन अब मामला कोरोना के बढ़ते मामले को लेकर फंसता दिख रहा है

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 18, 2021, 9:05 PM IST
  • Share this:
पटना. बिहार में पंचायत चुनाव (Bihar Panchayat Election) कब होगा, इस सवाल का जवाब अभी तक स्पष्ट नहीं हो सका है. लेकिन इसी बीच कोरोना संक्रमण (Corona Virus) के बढ़ते मामले को देखते हुए नीतीश सरकार (Nitish Government) ने कई बड़े फैसले लिए हैं. इस दौरान जब पत्रकारों ने मुख्यमंत्री से पंचायत चुनाव को लेकर सवाल पूछा कि बिहार में क्या पंचायत चुनाव समय पर होगा? इस सवाल के जवाब में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने कहा कि अभी पंचायत चुनाव को लेकर सोचा नहीं गया है. चुनाव के बारे में आयोग को सोचना है, इस बारे में फिलहाल कुछ नहीं बता सकता.

जाहिर है, नीतीश कुमार का यह जवाब पंचायत चुनाव को लेकर संशय और बढ़ा सकता है, क्योंकि इसके पहले बिहार के पंचायती राज मंत्री सम्राट चौधरी से जब यह सवाल पूछा गया कि क्या पंचायत चुनाव समय पर होंगे. इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि हमारी सरकार तैयार है लेकिन चुनाव का निर्णय राज्य निर्वाचन आयोग को लेना है. चुनाव कब हो यह फैसला हम नहीं ले सकते है, लेकिन कोरोना संक्रमण का बढ़ता मामला चिंता बढ़ा रहा है.

कोरोना संक्रमण के चलते फंसता दिख रहा है मामला

दरअसल पंचायत चुनाव में ईवीएम (EVM) को लेकर लंबे टकराव के बाद केंद्रीय और राज्य चुनाव आयोग के बीच सहमति बन गई. लेकिन अब मामला कोरोना के बढ़ते मामले को लेकर फंसता दिख रहा है. ग्रामीण और राजस्व सेवा के अधिकारियों ने कोरोना के बढ़ते मामले को लेकर चिंता जताते हुए कहा है कि फिलहाल पंचायत चुनाव कराना ठीक नहीं होगा. संघ की ओर से मुख्य सचिव को पत्र लिख कर आग्रह किया गया है कि हालात सामान्य होने के बाद ही पंचायत चुनाव कराने पर विचार किया जाना चाहिए.
पंचायत चुनाव में निर्वाची पदाधिकारियों की जिम्मेवारी प्रखंड विकास पदाधिकारी, ग्रामीण विकास पदाधिकारी, अंचलाधिकरी और प्रखंड में तैनात दूसरे पदाधिकारियों की होती है, और इनकी चिंता इस बात को लेकर है कि चुनाव की पूरी प्रक्रिया में कोरोना से बचाव के लिए जो करना होगा वो फिलहाल संभव नहीं होगा. उम्मीदवार नामांकन के लिए भीड़ के साथ आ सकते हैं, मतदान और मतगणना में भी इसका पालन कराने में मुश्किल आ सकती है.

जाहिर है, कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए पंचायत चुनाव को लेकर राज्य निर्वाचन आयोग क्या निर्णय लेता है इस पर सबकी नजरें टिकी हुई हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज