• Home
  • »
  • News
  • »
  • bihar
  • »
  • PATNA PEOPLE OF BIHAR ARE TAKING MASSIVE ROLE IN TRIAL OF CORONA VACCINE BRAMK

बिहार में Covid-19 के वैक्सीन ट्रायल में उमड़ रही भीड़, पटना AIIMS में अब तक 750 लोगों ने लिया हिस्सा

पटना एम्स

Corona Vaccine: पटना के एम्स (Patna AIIMS) में हो रहे कोरोना वैक्सीन ट्रायल में शामिल होने के लिए बिहार के अलग-अलग हिस्से से लोग पहुंच रहे हैं. बिहार में कोरोना के बढ़ते रफ्तार के बीच लोगों की जागरूकता से एम्स प्रबंधन भी खुश है.

  • Share this:
पटना. देश-दुनिया को प्रभावित करने वाले कोरोनावायरस (Coronavirus) से लड़ने के लिए वैक्सीन तैयार किया गया है और उसका ट्रायल पटना एम्स (Patna AIIMS) में लगातार जारी है. ट्रायल में शामिल होने के लिए पटना एम्स जहां लोगों को जागरूक कर रहा है, वहीं लोग भी अब पटना एम्स में पहुंचकर वैक्सीन दिलवा रहे हैं. वैक्सीन दिलाने वाले लोगों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है. एक दिन में लगभग 100 लोग तक वैक्सीन (COVID-19 Vaccine) ट्रायल का हिस्सा बन रहे हैं.

पटना एम्स के नेफ्रोलॉजी विभाग में इसलिए व्यवस्था की गई है, जहां पर डॉक्टरों की टीम मौजूद रहती है. एक-एक प्रोसेस से गुजरने के बाद लोगों को वैक्सीन दिया जाता है. सोमवार को पटना एम्स में बक्सर से 40, दानापुर डीपीएस से 35 लोग वैक्सीन ट्रायल में शामिल होने आए. ट्रायल में हिस्सा लेने वाले व्यक्ति ने बताया कि हम पटना एम्स में वैक्सीन के ट्रायल में योगदान देने आए हैं. हमारे साथ दानापुर डीपीएस के 35 लोग शामिल होने आए हैं.

डॉ सीएम सिंह, अधीक्षक पटना एम्स ने बताया कि पटना एम्स वैक्सीन ट्रायल में लगातार जागरूकता फैला रहा है और मीडिया का सहयोग भी मिल रहा है, जिससे लोग जागरूक हो रहे हैं. लोगों को हम लोग जा जाकर भी जागरूक कर रहे हैं तो बिहार के विभिन्न इलाकों से लोग यहां पहुंच रहे हैं और वैक्सीन ट्रायल में शामिल हो रहे हैं. अभी तक हमने हमने 750 लोगों को लगभग वैक्सीन ट्रायल में शामिल किया है.



पटना एम्स में प्लास्टिक सर्जरी विभाग की अध्यक्ष डॉ वीणा सिंह ने बताया कि वैक्सीन ट्रायल में हमने भी हिस्सा लिया है, ताकि लोगों में जो वैक्सीन के प्रति डर है हुआ समाप्त हो सके और ज्यादा से ज्यादा लोग वैक्सीन ट्रायल में शामिल हों. एम्स के नोडल पदाधिकारी कोविड डॉ. संजीव कुमार ने बताया कि हम लोगों ने 6 महीने तक लगातार कोविड-19 का इलाज किया है, जिससे यही लगता है कि वैक्सीन आने के बाद ही कोरोना पर पूर्णता कामयाबी हासिल हो सकती है. फिलहाल हम लोगों की जान बचाने का कार्य कर रहे हैं.