CM नीतीश का बड़ा बयान, बोले- जनता ने हमें दिया जनादेश, बिहार के विकास का काम जारी रहेगा

नीतीश कुमार ने मंत्रिमंडल में विभागों का बंटवारा कर दिया है.
नीतीश कुमार ने मंत्रिमंडल में विभागों का बंटवारा कर दिया है.

बिहार (Bihar) के मुख्‍यमंत्री की 7वीं बार शपथ लेने के बाद नीतीश कुमार (Nitish Kumar) मंगलवार को जेडीयू कार्यालय में पार्टी के नवगठित मंत्रियों, विधायकों और कार्यकर्ताओं से मिले. इस दौरान उन्‍होंने कहा कि जनता में हमें जनादेश दिया है और हम उसका सम्मान करते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 17, 2020, 10:20 PM IST
  • Share this:
पटना. बिहार विधानसभा चुनाव में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) ने 125 सीट हासिल करने के बाद जेडीयू (JDU) के राष्‍ट्रीय अध्यक्ष और बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) को नेता चुना है. राजभवन में सोमवार को हुए शपथ ग्रहण समारोह में नीतीश की एक बार फिर बिहार के मुख्यमंत्री (Chief Minister) के तौर पर ताजपोशी हो गई है. उन्‍होंने 7वीं बार मुख्‍यमंत्री पद की शपथ ली. वहीं, मंगलवार को नवगठित मंत्रिमंडल में विभागों का बंटवारा कर दिया गया है. विभागों के बंटवारे के बाद जेडीयू के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष नीतीश कुमार ने पार्टी के नवगठित मंत्रियों, विधायकों और कार्यकर्ताओं से मिले. इस दौरान उन्‍होंने कहा कि जनता में हमें जनादेश दिया है और हम उसका सम्मान करते हैं. बिहार को और आगे ले जाने के लिए प्रयास करते रहेंगे.

कुछ इस अंदाज में मिले नीतीश
जेडीयू कार्यालय में मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार पार्टी के विधायकों, सांसदों और कार्यकर्ताओं से पूरी गर्मजोशी से मिले. यही नहीं, सीएम सभी के साथ सेल्‍फी भी खिंचा रहे थे. इस दौरान उन्‍होंने कहा कि कार्यकर्ताओं से मिलना मेरा काम है. किसी को निराश नहीं होना चाहिए यही प्रयास है. जेडीयू कार्यालय में बिहार विधानसभा चुनाव 2020 में पराजित होने वाले उम्‍मीदवारों ने भी नीतीश कुमार से मुलाकात की.

बिहार मंत्रिमंडल में विभागों का बंटवारा
बहरहाल, बिहार में नवगठित मंत्रिमंडल में विभागों का बंटवारा कर दिया गया जिसमें मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपने पास गृह, सामान्य प्रशासन, मंत्रिमंडल सचिवालय, निगरानी और निर्वाचन विभाग के साथ साथ वे सभी विभाग रखे हैं जो किसी को आवंटित नहीं किये गए हैं. राज्य सचिवालय के बयान के अनुसार, राज्यपाल फागू चौहान ने भारत के संविधान द्वारा प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की सलाह से विभागों का कार्य आवंटित कर दिया है.



बयान के अनुसार, उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद को वित्त, वाणिज्य कर, पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन तथा आपदा प्रबंधन, सूचना प्रौद्योगिकी तथा नगर विकास की जिम्मेवारी दी गई है. वहीं, उपमुख्यमंत्री रेणु देवी को पंचायती राज, पिछड़ा एवं अत्यंत पिछड़ा कल्याण तथा उद्योग विभाग सौंपा गया है. इसके अलावा विजय कुमार चौधरी को ग्रामीण कार्य, ग्रामीण विकास, जल संसाधन, सूचना-जनसंपर्क तथा संसदीय कार्य मंत्री बनाया गया है. जबकि अशोक चौधरी को भवन निर्माण, समाज कल्याण, अल्पसंख्यक एवं विज्ञान प्रौद्योगिकी विभाग का प्रभार सौंपा गया है.

ऊर्जा, मद्य निषेध, योजना और खाद्य तथा उपभोक्ता मामलों के विभाग का जिम्मा विजेंद्र यादव को सौंपा गया है, तो मेवालाल लाल चौधरी को शिक्षा विभाग की जिम्मेदारी दी गई है. जबकि शीला कुमारी को परिवहन मंत्रालय का प्रभार दिया गया है. वहीं, हम पार्टी के नेता जीतन राम मांझी के पुत्र संतोष कुमार सुमन को लघु जल संसाधन, अनुसूचित जाति / जनजाति कल्याण मंत्रालय दिया गया है. वीआईपी पार्टी के नेता मुकेश सहनी को पशु एवं मत्स्य संसाधन मंत्रालय दिया गया है.



मंगल पांडे को मिली ये जिम्‍मेदारी
स्वास्थ्य, कला एवं संस्कृति तथा पथ निर्माण विभाग मंगल पांडे को दिया गया है. जबकि अमरेंद्र प्रताप सिंह को कृषि, सहकारिता और गन्ना विभाग का मंत्री बनाया गया है. विभागों के बंटवारे में रामप्रीत पासवान को लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण विभाग की जिम्मेवारी दी गई है. रामसूरत राय को राजस्व एवं विधि विभाग का मंत्री बनाया गया है. जीवेश कुमार पर्यटन, श्रम और खनन मंत्री बनाए गए हैं.

गौरतलब है कि सोमवार को नीतीश कुमार के नेतृत्व में 15 सदस्यीय मंत्रिमंडल ने पद और गोपनीयता की शपथ ली थी.नई सरकार में नीतीश कुमार के अलावा भाजपा से सात मंत्रियों, जदयू से पांच तथा हम पार्टी से एक और वीआईपी पार्टी से एक मंत्री ने शपथ ली है. भाजपा विधानमंडल दल के नेता तारकिशोर प्रसाद और उपनेता रेणु देवी को उपमुख्यमंत्री बनाया गया है. समारोह में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे पी नड्डा, महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस समेत तमाम नेताओं ने हिस्सा लिया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज