लाइव टीवी

प्रवीण सोमानी अपहरणकांड: हाजीपुर से मिला था पुलिस को सुराग, यूपी से किए गए बरामद
Patna News in Hindi

Sanjay Kumar | News18 Bihar
Updated: January 23, 2020, 9:16 AM IST
प्रवीण सोमानी अपहरणकांड: हाजीपुर से मिला था पुलिस को सुराग, यूपी से किए गए बरामद
यूपी के अंबेडकर नगर से बरामद किए गए छत्तीसगढ़ के अपहृत व्यवसायी प्रवीण सोमानी (फाइल फोटो)

चंदन सोनार और उसके गिरोह की फितरत है कि वह बड़े कारोबारी को दूसरे राज्यों से अपहरण करने के बाद पटना, हाजीपुर व छपरा के आसपास लाकर रखता है. फिरौती के रूप में माेटी रकम वसूले बिना अपहर्ता को छोड़ता भी नहीं है.

  • Share this:
पटना. छत्तीसगढ़ के रायपुर से अपहृत बड़े व्यवसायी प्रवीण सोमानी (Praveen somani) को छत्तीसगढ़ व यूपी पुलिस ने बुधवार को बरामद कर लिया. दोनों राज्यों की पुलिस ने यूपी के अंबेडकर नगर से सोमानी को बरामद किया है. दो अपहरणकर्ताओं (Kidnappers) अनिल चौधरी व मुन्ना नायक को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया. इसमें अनिल हाजीपुर का है जबकि मुन्ना नायक ओडिशा के गंजाम का रहनेवाला  है. सोमानी को बरामद करने के बाद छत्तीसगढ़ पुलिस सोमानी व दोनों अपहर्ताओं को लेकर अंबेडकर नगर से लेकर रायपुर के लिए रवाना हो गई.

बता दें कि 8 जनवरी को रायपुर से सोमानी का अपहरण वैशाली के चंदन सोनार गिरोह से जुड़े पप्पू चौधरी ने  ही किया था. वह विदुपुर का रहने वाला है. सात साल पहले चंदन व उसके गिरोह गिरोह ने सूरत के कारोबारी सुहैल हिंगोरा का दमन से अपहरण किया और वहां से लाकर छपरा में एक माह तक रखा था. हिंगोरा के परिजनों से इन अपहर्ताओं ने 9 करोड़ की फिरौती वसूली थी. पप्पू  सुहेल हिंगोरा अपहरण कांड में भी  जेल गया था.

पप्पू चौधरी इस अपहरण का था मास्टरमाइंड 
बिहार एसटीएफ ने कुख्यात चंदन सोनार गैंग के 20 सदस्यों को उठाया था. पुलिस सुत्रों के अनुसार सोमानी को अपहरण करने के बाद उसे हाजीपुर के आसपास ही रखा गया था. वहीं से 10 करोड़ की फिरौती मांगी गई थी. रायपुर पुलिस को जब इस बात की जानकारी मिली कि सोमानी के अपहरण में बिहार के कुख्यात चंदन सोनार गिरोह शामिल है, तब  रायपुर के पुलिस अधिकारी पटना पहुंच गए.

हाजीपुर से यूपी शिफ्ट कर दिेए गए थे सोमानी
रायपुर पुलिस के पहुंचने की भनक लगते ही सोमानी को हाजीपुर से यूपी शिफ्ट कर दिया. हालांकि बिहार पुलिस मुख्यालय ने रायपुर पुलिस के साथ बिहार एसटीएफ को  बरामदगी में लगाया था. बिहार एसटीएफ व यूपी पुलिस दोनों ने करीब एक सप्ताह तक हाजीपुर, विदुपुर, पटना से लेकर चंदन व पप्पू के कई संदिग्ध अड्‌डों पर दबिश दी थी.

पुलिस ने चंदन सोनार गिरोह के 20 गुर्गों को उठायाइस दौरान एसटीएफ ने चंदन के करीब 20 गुर्गों को उठाया. इसमें कई सुहेल  हिंगोरा समेत दूसरे अपहरण कांड में जेल जा चुके थे. इन्हीं लोगों से सुराग मिलने के बाद रायपुर पुलिस बिहार से यूपी चली गई और अंबेडकर नगर से उन्हें बरामद कर लिया.

बिना फिरौती के ही छूट गए प्रवीण सोमानी?
सबसे बड़ा सवाल यही है कि क्या बिना फिरौती लिए छूट गए सोमानी? यह सवाल इसलिए है क्योंकि चंदन सोनार और  उसके गिरोह की फितरत है कि वह बड़े कारोबारी को दूसरे राज्यों से अपहरण करने के बाद पटना, हाजीपुर व छपरा के आसपास लाकर रखता है. फिरौती के रूप में माेटी रकम वसूले बिना अपहर्ता को छोड़ता  भी नहीं है.

इस गिरोह की खासियत यह है कि अपहर्ता की हत्या नहीं करते पर करोड़ में बिना फिरौती लिए वे छोड़ते भी नही है. शायद गिराफ्तारी का भय भी इस गिरोह को नही डरा पाती. बड़े ही प्रोफेशनल तरीके से यह गैंग काम करता है.

बिहार पुलिस का दावा 

बिहार पुलिस मुख्यालय के एक बड़े अधिकारी ने न्यूज़ 18 से बात करते हुए दावा किया है कि सोमानी बकयी बरामदगी में बिहार पुलिस ने महत्वपूर्ण योगदान दिया है. छतीसगढ़ पुलिस के अनुरोध पर बिहार एसटीएफ की टीम इस अपहरण कांड पर लगातार काम कर रही थी.

ये भी पढ़ें


मुश्किल में JDU प्रवक्ता पवन वर्मा, गिर सकती है गाज




बिहार में लोगों ने ली राहत की सांस, खत्म हुई 52 हजार दवा व्यापारियों की हड़ताल

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 23, 2020, 8:16 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर