Lockdown 3.0: मुंबई में फंसे थे पिता, 12 साल की मासूम के लिए पुलिस अंकल लेकर आए केक

लॉकडाउन में  पुलिस इंस्‍पेक्‍टर लेकर पहुंचे बर्थडे केक

लॉकडाउन में पुलिस इंस्‍पेक्‍टर लेकर पहुंचे बर्थडे केक

सासाराम नगर थानाध्यक्ष बिना किसी को बताए बर्थडे केक की व्यवस्था कर 12 वर्षीय छात्रा साक्षी के घर पहुंच गए. घर पर पुलिस को देख लोग थोड़ा अचकचा गए, लेकिन जैसे ही थानाध्यक्ष ने 'हैप्पी बर्थडे टु यू' कहा तो साक्षी का चेहरा खिल गया. साक्षी ने कहा कि उसका 12वां जन्मदिन यादगार हो गया. जब सारा बाजार बंद है. वह सोच भी नहीं सकती थी कि जन्मदिन पर बर्थडे केक पुलिस अंकल लेकर आएंगे.

  • Share this:

सासाराम. लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान बिहार पुलिस (bihar Police) की छवि बहुत हद तक सुधरी है. ऐसी ही एक पहल सासाराम (Sasaram) में भी देखने को मिली, जब नगर थानाध्यक्ष कामाख्या नारायण सिंह को अपने व्हाट्सएप पर एक मेसेज मिला कि उनके ही नगर थाना क्षेत्र के तकिया मोहल्ले में 12 साल की एक बच्ची इस बार अपना जन्मदिन इसलिए नहीं मना पा रही है कि उसके पापा लॉकडाउन में मुंबई (Mumbai) में फंसे हुए हैं. घर पर वह अपनी मम्मी के साथ अकेली है. यही नहीं, घर में कोई ऐसा पुरुष सदस्य भी नहीं है, जो बाहर जाकर बर्थडे केक आदि की व्यवस्था कर सके. अपना बर्थडे नहीं मनता देख साक्षी मायूस हो गई.

नगर थानाध्यक्ष ने पहुंचाया केके

सासाराम नगर थानाध्यक्ष को जब इस बात की सूचना मिली, तो वह बिना किसी को बताए बर्थडे केक की व्यवस्था कर 12 वर्षीय छात्रा साक्षी के घर पहुंच गए. घर पर पुलिस को देख लोग थोड़ा अचकचा गए, लेकिन जैसे ही थानाध्यक्ष ने 'हैप्पी बर्थडे टु यू' कहा तो साक्षी का चेहरा खिल गया. साथ ही उसने कहा कि मैं पुलिस वाले अंकल के कारण इस लॉकडॉउन में भी अपना जन्मदिन मना रही हूं. हालांकि इस दौरान साक्षी की मां ने केक के पैसे देने की पेशकश की, लेकिन थानाध्यक्ष ने कहा कि यह उनकी ओर से गिफ्ट है. साक्षी ने कहा कि उसका 12वां जन्मदिन यादगार हो गया. जब सारा बाजार बंद है. वह सोच भी नहीं सकती थी कि जन्मदिन पर बर्थडे केक पुलिस अंकल लेकर आएंगे.

थानेदार हुए भावुक
नगर थानाध्यक्ष कामाख्या नारायण सिंह केक पहुंचा कर खुद भावुक हो गए. उन्होंने कहा कि साक्षी को केक देकर उन्हें ऐसा महसूस हुआ कि वह अपनी बेटी से खुशियां बांट रहे हैं. इस भागदौड़ की जिंदगी में जहां लॉकडाउन के कारण काफी व्यस्तता बढ़ गई है, लेकिन इन व्यवस्थाओं के बीच इस तरह के सरोकार वाले काम से संतुष्टि मिलती हैं. उन्हें ऐसा महसूस हुआ कि पूरा थाना क्षेत्र उनके परिवार जैसा है.



लॉकडाउन में पुलिस की बदली छवि

लॉकडॉउन में पुलिस की बदली छवि ने सभी को प्रभावित किया है. हालांकि कहीं-कहीं से पुलिस द्वारा सख्ती बरतने के खबरें भी आई हैं, लेकिन इसे भी लोगों ने जायज ठहराया. बता दें कि रोहतास एसपी सत्यवीर सिंह के नेतृत्व में जिला में पुलिसकर्मियों द्वारा एक विशेष कोष का गठन किया गया है जो लगातार गरीबों और असहाय लोगों की मदद कर रहा है.

ये भी पढ़ें

कोटा से गया पहुंचे 994 बच्चे, बोले- लॉकडाउन में मैगी खाकर गुजार रहे थे जिंदगी

मधुबनी और प.चंपारण में कोरोना के छह नए केस, बिहार में 523 हुई मरीजों की संख्या

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज