'दही-चूड़ा भोज' के बहाने पांच साल बाद जेडीयू-बीजेपी ने की एक दूसरे की 'मेजबानी'

चारा घोटाले में सजा काट रहे लालू के जेल में रहने और उनकी बहन की मौत के बाद उनके आवास 10 सर्कुलर रोड पर चर्चित 'दही-चूड़ा भोज' का आयोजन इस साल नहीं हो रहा तो दूसरी तरफ जद (यू) के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह अपने पुराने अंदाज में दही-चूड़ा भोज का आयोजन कर रहे हैं.

Amrendra Kumar | News18Hindi
Updated: January 14, 2018, 2:04 PM IST
'दही-चूड़ा भोज' के बहाने पांच साल बाद जेडीयू-बीजेपी ने की एक दूसरे की 'मेजबानी'
दही-चुड़ा भोज में शामिल होते नीतीश
Amrendra Kumar | News18Hindi
Updated: January 14, 2018, 2:04 PM IST
पूरे देश समेत बिहार में भी आज मकर संक्रांति पर्व की धूम है. यूं तो मकर संक्रांति के अवसर पर दही-चूड़ा, तिलकुट, गजक और खिचड़ी समेत अन्य व्यंजनों की धूम रहती है लेकिन बिहार की राजनीति में मकर संक्रांति के भोज का खासा महत्व है.

बिहार की सियासत में 'दही-चूड़ा भोज' की कितनी महत्ता रही है इसकी बानगी हर साल देखने को मिली है. ऐसा ही नजारा रविवार को भी देखने को मिला. एक साल पहले लालू के हाथों से दही का तिलक लगवाने वाले नीतीश आज पहले अपनी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष द्वारा आयोजित भोज में शामिल होने के बाद लोजपा सुप्रीमो रामविलास पासवान और फिर भाजपा के नेताओं द्वारा आयोजित भोज में भी शामिल हुए.

नीतीश ने तीनों जगहों पर गर्मजोशी से लोगों को बधाई दी और दही-चुड़ा के भोज का आनंद लिया. लोजपा सुप्रीमो रामविलास पासवान ने खुद सीएम को अपने हाथों से तिलकुट खिलाया और मकर संक्रांति की बधाई दी.

बिहार में दही-चूड़ा भोज के जरिये राजनीति अपनी महत्ता को बताती रही है. पिछले साल महागठबंधन में रहने के दौरान राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद द्वारा आयोजित भोज में लालू-नीतीश कुमार की करीबियां दिखी थीं. तब लालू ने नीतीश को दही का टीका (तिलक) लगाया गया था. लालू-नीतीश साथ थे और दही का तिलक लगाती ये तस्वीर पूरे देश की मीडिया के लिये सुर्खियां बनी थीं, लेकिन इस बार तस्वीर बिल्कुल उलट है. नीतीश तो सियासत के साथ-साथ भोज का आनंद ले रहे हैं लेकिन लालू फिलहाल जेल में हैं.

भोज की तैयारी


चारा घोटाले में सजा काट रहे लालू के जेल में रहने और उनकी बहन की मौत के बाद उनके आवास 10 सर्कुलर रोड पर चर्चित 'दही-चूड़ा भोज' का आयोजन इस साल नहीं हो रहा तो दूसरी तरफ जद (यू) के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह अपने पुराने अंदाज में दही-चूड़ा भोज का आयोजन किया.

वशिष्ठ नारायण सिंह की ओर से ये भोज पटना के 36, हार्डिग रोड स्थित आवास में हो रहा है. इस भोज में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार समेत पार्टी के सभी वरीय नेता, सांसद, मंत्री, विधायक, विधान पार्षद, पार्टी के पदाधिकारी और कार्यकर्ता के अलावा एनडीए के नेता भी शामिल हुए

वशिष्ठ नारायण सिंह द्वारा दिये जाने वाले इस भोज में भागलपुर का कतरनी चूड़ा, पश्चिमी चंपारण के मर्चा धान का चूड़ा समेत गया का तिलकुट परोसा गया. इसके साथ-साथ भूरा-चीनी के अलावा आलू, गोभी, मटर, टमाटर की मिक्स सब्जी का भी नेता व कार्यकर्ताओं ने आनंद लिया. भोज के लिये दही दियारा समेत ग्रामीण क्षेत्रों से मंगाई गई थी साथ ही सुधा डेयरी से भी दही मंगाया गया था.

जेडीयू के भोज में इस बार प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह ने इस भोज में भाजपा के प्रदेश के नेताओं समेत मंत्रियों के अलावा केंद्रीय मंत्रियों को भी आमंत्रित किया था. सियासी जानकारों की मानें तो भाजपा के नेताओं को पांच साल बाद जद (यू) के दही चूड़ा भोज में शामिल होने का मौका मिला था. इससे पहले जब राष्ट्रीय जनतांत्रिक सरकार (राजग) की सरकार थी तो 2013 के भोज में सभी एक साथ शामिल हुए थे.

बीजेपी के सीनियर लीडर और डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी समेत अन्य कई मंत्री भी भोज में दही-चुड़ा का आनंद लेते दिखे. लालू के जेल में रहने के बावजूद उनके चाहने वाले रांची तक दही-चूड़ा लेकर पहुंचे हुए हैं, ये बात अलग है कि न तो उनके सरकारी आवास और न ही पार्टी कार्यालय में किसी तरह के भोज का आयोजन किया जा रहा है.

इनपुट सहयोग- आनंद अमृतराज
News18 Hindi पर Jharkhand Board Result और Rajasthan Board Result की ताज़ा खबरे पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें .
IBN Khabar, IBN7 और ETV News अब है News18 Hindi. सबसे सटीक और सबसे तेज़ Hindi News अपडेट्स. Bihar News in Hindi यहां देखें.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर