लालू-राबड़ी का 'जंगलराज' Vs नीतीश की 'सुशासन' सरकार! बिहार में चालू है पोस्टरवार
Patna News in Hindi

लालू-राबड़ी का 'जंगलराज' Vs नीतीश की 'सुशासन' सरकार! बिहार में चालू है पोस्टरवार
बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू यादव और मौजूदा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार.

पोस्टर में कविता के अंदाज में लिखा है- 'सौदागरों को लज्जा भला क्यों उनके लिए व्यापार था सरकार. जनता कहे पुकार के, जब भी जी करता था, कुछ करूं, क्या करता, डर लगता था, कैसे उतारुं, सुख की ये गठरी, कहां धरुं, डर लगता था.'

  • Share this:
पटना. बिहार की राजधानी पटना के कई इलाकों में लगे राजनीतिक पोस्टर (Political poster) लोगों के आकर्षण का केंद्र बन गए हैं. आरजेडी (RJD) की ओर से पोस्टरवार के आगाज के साथ ही जेडीयू (JDU) ने भी पलटवार का सिलसिला तेज कर दिया है. इस बार एक नया पोस्टर जारी करते हुए इसमें कविता के जरिए लालू परिवार पर निशाना साधा गया है.  पोस्टर में बड़े बड़े शब्दों में हेडर लिखा है, पति पत्नी की सरकार. इसमें लालू-राबड़ी के साथ  पोस्टर में बाहुबली शहाबुद्दीन और नाबालिग लड़की से बलात्कार (Minor Girl Rape) के दोषी साबित होने के बाद जेल में सजा काट रहे राजवल्लभ यादव की भी तस्वीर लगी है.

पोस्टर में एक कविता भी लिखी गई है जिसका शीर्षक दिया गया है, 'जनता कहे पुकार के'. इसके बाद इसमें कविता के अंदाज में लिखा है-  'सौदागरों को लज्जा भला क्यों उनके लिए व्यापार था सरकार. जनता कहे पुकार के, जब भी जी करता था, कुछ करूं, क्या करता, डर लगता था, कैसे उतारुं, सुख की ये गठरी, कहां धरुं, डर लगता था.'

पोस्टर में 'भ्रष्टाचार' शब्द को हाइलाइट किया गया है और इसमें फिल्मी की रील जैसी तस्वीर बनाई गई है. इसमें हर खाने में लालू-राबड़ी के शासनकाल को दर्शाने के लिए-अपहरण, बलात्कार, रंगदारी, घोटाला और गुंडागर्दी जैसे शब्द लिखे गए हैं. इसके साथ ही पोस्टर के नीचे यह भी लिखा है कि व्यवस्था खराब नहीं थी, बल्कि व्यवस्था ही नहीं थी.



राजधानी पटना में कई जगह लगाए गए पोस्टर

पोस्टर पर जब बिहार सरकार के मंत्री नीरज कुमार से पूछा गया तो उन्होंने कहा, पोस्टर किसने लगाया ये मुझे पता नहीं. भला किसे याद नहीं होगा जिसने लालू-राबड़ी राज देखा होगा. कैसे लोग घरों से बाहर निकलने में डरते थे. दिन हो या रात लोग हर पल सहमे रहते थे. जिसने भी पोस्टर लगाया है और कविता बनायी है, उसने भी लालू-राबड़ी राज में कष्ट भोगा होगा, इसलिए इस तरह की कविता वाला पोस्टर लगाया होगा.

वहीं लालू-राबड़ी पर हमला वाले पोस्टर पर राजद प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी कहते हैं कि विरोधी चाहे कुछ भी कहे, कोई भी बैनर-पोस्टर लगाकर कुछ भी लिखते रहे, लेकिन आज का जो शासन है उसमें जनता का हाल क्या है. कोरोना के दौरान लोगों ने देख लिया है कैसे ग़रीब मजदूरों को बेसहारा छोड़ दिया गया. लालू राबड़ी राज गरीबों का राज था. उस शासन को आज भी लोग ग़रीबों का शासन कहते है, लेकिन आज पूंजीपतियों की सरकार है.

दरअसल हाल के दिनों में पटना में कई पोस्टर लगे हैं जिसमें कभी नीतीश कुमार पर हमला बोला जाता है तो कभी पोस्टर के माध्यम से लालू-राबड़ी शासन काल पर. ये भी उसी कड़ी का हिस्सा है. अब देखना दिलचस्प होगा की इस पोस्टर के जवाब में राजद के तरफ़ से कैसा पोस्टर लगाता है. हालांकि इस पोस्टर से साफ हो गया कि बिहार में चुनाव लालू के जंगलराज बनाम नीतीश सरकार की पृष्ठभूमि तैयार की जा रही है.

ये भी पढ़ें


'विधायक के पास रात में भेजा जाता था मुझे', जानें क्या है आरा सेक्सकांड




रेप केस में फरार RJD विधायक अरूण यादव पर कसा शिकंजा, आरा के बाद अब पटना की जमीन भी होगी जब्त

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज