Bihar Politics: तेजप्रताप यादव-जगदानंद सिंह में कोल्ड वार, 'जेपी' के बहाने लालू की ब्रांडिंग

आरजेडी कर रही लालू की छवी को भुनाने की कोशिश.

आरजेडी कर रही लालू की छवी को भुनाने की कोशिश.

Tej Pratap Yadav v/s Jagadanand Singh: जयप्रकाश नारायण (Jai Prakash Narayan) की याद में पटना के आरजेडी दफ्तर एक कायक्रम रखा गया. अचानक प्रदेश अध्यक्ष जगदानन्द सिंह बाहर निकल गए. तेजप्रताप यादव को इस बात की भनक तक नहीं लगी.

  • Share this:
पटना. बिहार की राजधानी पटना (Patna) में गुरुवार को आरजेडी (RJD) दफ्तर में हर तरफ लालू ही लालू दिखे . जिस तरफ नजर गई पोस्टरों पर लालू की ही तस्वीर दिखी. साथ में दिखे लालू के गुरु जेपी यानी जयप्रकाश नारायण की फोटो. मौका था जेपी को भुनाने का. आज मौका था लालू यादव के महिमामंडन करने का. दरअसल छात्र आंदोलन की याद दिलाकर आरजेडी राजनीतिक गलियारों में यह संदेश देने की कोशिश में रही है कि जेपी के असली अनुयायी केवल लालू (Lalu Prasad Yadav) यादव ही थे, जिन्होंने न सिर्फ छात्र आंदोलन की नींव रखी बल्कि युवाओं के आवाज भी बनें.

आरजेडी के इस कार्यक्रम में पार्टी के बड़े नेताओं के साथ छात्र आंदोलन के पुराने साथी भी मौजूद रहे, जिन्होंने 1974 आंदोलन की यादें सबके सामने रखीं. सभी ने जेपी की वाहवाही की, लेकिन लालू का भी खूब गुणगान हुआ तो विपक्ष ने भी खूब चुटकी ली.

तेजप्रताप इन जगदानन्द आउट

आज सुबह से ही आरजेडी दफ्तर में रौनक थी. हर तरफ नेता, कार्यकर्ता खासकर युवाओं की खूब भीड़ थी. लेकिन तभी एक ऐसा वाकया हुआ कि हर तरफ अफरा-तफरी मच गई. नजदीक से जाकर देखा तो प्रदेश अध्यक्ष जगदानन्द सिंह अचानक आरजेडी दफ्तर से बाहर निकल गए. हमने पार्टी के नेताओं पूछा गया कि अध्यक्ष कहां गए तो जवाब था उनकी तबियत अचानक बिगड़ गई है. सिर में दर्द है इसलिए वो घर चले गए.
ये भी पढ़ें: बिहार दिवस पर फिर कोरोना का खतरा, 22 मार्च को सारे कार्यक्रम होंगे वर्चुअल, जानें सरकार की गाइडलाइंस

हो सकता है यह जानकारी सही हो लेकिन तभी दूसरी खबर आई कि तेजप्रताप यादव पार्टी दफ्तर पहुंचने वाले हैं. अब माजरा समझ में आने लगा. जब तेजप्रताप से पूछा गया कि अध्यक्ष कहां चले गए आपके आने से पहले  तो जवाब आता है, 'अरे नहीं वो तो यहीं हैं कहां गए हैं'. एकतरफ कार्यक्रम चलता रहा. बाबा शिवानंद तिवारी, अब्दुल बारी सिद्दकी और श्याम रजक जैसे नेता 1974 आंदोलन की गाथा सुनाते रहे. वहीं दूसरी तरफ कोल्ड वार भी जारी रहा. ये हम नहीं कह रहे, बल्कि न्यूज18 के कैमरे में जो तस्वीरें कैद हुई हैं सच्चाई वो खुद बयां कर रही हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज