लाइव टीवी

जलजमाव पर सियासत! डिप्टी CM बोले- नहीं बनी कोई जांच कमेटी, विपक्ष का पलटवार

News18 Bihar
Updated: October 11, 2019, 3:00 PM IST
जलजमाव पर सियासत! डिप्टी CM बोले- नहीं बनी कोई जांच कमेटी, विपक्ष का पलटवार
बिहार के डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी ने जलजमाव पर कोई कमेटी बनने की बात को खारिज कर दिया है. (फाइल फोटो)

गुरुवार को नगर विकास मंन्त्री ने तीन सदस्यीय कमिटी बनाने की बात कहते हुए दोषियों पर कार्रवाई करने की भी बात कही थी. कहा जा रहा है कि इसके लिए उनके कार्यालय से एक आदेश पत्र भी जारी हो गया था.

  • Share this:
पटना. बिहार की राजधानी पटना में जलजमाव (Water logging in Patna) की समस्या लगभग खत्म हो गई है, लेकिन इसको लेकर सियासत (Politics) का दौर थम नहीं रहा है. गुरुवार को खबर आई कि जलभराव की जांच के लिए तीन सदस्यीय कमेटी गठित कर दी गई है और 15 दिन के भीतर इसे जांच पूरी करने को कहा गया है. लेकिन इस पर विवाद तब बढ़ गया जब यह बात सामने आई कि कमेटी में वो ही अधिकारी शामिल हैं जिनको इस समस्या के लिए जिम्मेदार ठहराया जा रहा है. हालांकि खबर सुर्खियों में आने के बाद शुक्रवार को डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी (Sushil Kumar Modi) ने कोई कमेटी बनने की बात से इनकार किया है. उन्होंने इस संबंध में जांच कमेटी बनाए जाने की बात को अफवाह करार दिया.

बता दें कि गुरुवार को  नगर विकास मंत्री ने तीन सदस्यीय कमिटी बनाने की बात कहते हुए दोषियों पर कार्रवाई करने की बात कही थी. इसके लिए उनके कार्यालय से एक आदेश पत्र भी जारी हुआ था. इसमें तीन सदस्यीय समिति में समिति का अध्यक्ष विभाग के विशेष सचिव संजय कुमार को बनाया गया था. जबकि सदस्य के रूप में बुडको के एमडी अमरेंद्र कुमार सिंह और पटना नगर निगम के आयुक्त अमित पांडे को जांच की जिम्मेदारी दी गई.

नगर विकास मंत्री द्वारा पटना शहर में जलजमाव की जांच समिति गठित करने की चिट्ठी


जांच को लेकर जारी किए गए आदेश से मुकर गए नगर विकास मंत्री

हालांकि डिप्टी सीएम सुशील मोदी के बाद नगर विकास मंत्री भी अपने द्वारा जारी किए गए आदेश से मुकर गए. उन्होंने किसी भी तरह की जांच कमेटी बनाए जाने की बात को खारिज करते हुए कहा कि जलजमाव की जांच के लिए कोई कमेटी नहीं बनाई गई है. इसको लेकर आगामी 14 अक्टूबर को सीएम हाउस में उच्चस्तरीय बैठक होगी और इसके बाद जांच कमेटी बनाई जाएगी. उन्होंने यह भी कहा कि जांच में वैसे लोग नही होंगे शामिल जिनके जिम्मे जल निकसी का जिम्मा था.

बहरहाल डिप्टी सीएम और नगर विकास मंत्री के किसी भी जांच कमेटी के बनाए जाने से इनकार करने के बाद विपक्ष हमलावर हो गया है. कांग्रेस के प्रवक्ता प्रेमचंद मिश्रा ने चीफ सेक्रेटरी की अगुआई में जांच कमेटी गठित करने की मांग करते हुए कहा कि यह जांच कमेटी पूरी तरह आई वॉश है और चोर को चौकीदारी देने की बात है. उन्होंने सवाल पूछा कि डिप्टी सीएम किसे बचाना चाहते हैं? करोड़ों रूपये की हेराफेरी को दबाने का प्रयास है.

जांच के लिए कमेटी बनाने फिर इनकार करने पर विपक्ष ने सरकार को घेरा
Loading...

वहीं, आरजेडी नेता शिवानंद तिवारी ने डिप्टी सीएम सुशील मोदी को अपने निशाने पर लेते हुए कहा कि आखिर उन्होंने किस हैसियत से कमिटी को नकार दिया जबकि डिप्टी सीएम का कोई संवैधानिक पद नहीं है. उन्होंने नीतीश सरकार के कामकाज के तरीके को हास्यास्पद करार देते हुए कहा कि सरकार पर लोग आज हंस रहे हैं. सरकार दोषियों को बचाने का प्रयास कर रही है.

राजद नेता शिवानंद तिवारी.


पूर्व सीएम जीतन राम मांझी ने मामले की सीबीआई जांच की मांग करते हुए सुशील मोदी पर हमला बोला है. उन्होंने कहा कि वो मंंत्री को और मंत्री अधिकारियों को बचा रहे हैं. जांच कमिटी बनाकर मंत्री भी तुरंत बदल गए. जलजमाव के दोषियों के नाम सामने आने चाहिए क्योंकि इस मामले में बड़ा भ्रष्टाचार हुआ है.

(इनपुट- रवि एस नारायण)

ये भी पढ़ें- 

'शर्मनाक, इंसानियत, मानवता जैसे शब्द CM नीतीश ने डिलीट कर दिए'

बिहार उपचुनाव: क्या चुनावी मंच पर दिखेगी BJP-JDU की एकजुटता?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 11, 2019, 2:20 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...