लाइव टीवी

बिहार में महागठबंधन की मदद नहीं करेंगे प्रशांत किशोर, मांझी-कुशवाहा की बैठक में भी नहीं बनी बात
Patna News in Hindi

News18Hindi
Updated: February 21, 2020, 12:36 PM IST
बिहार में महागठबंधन की मदद नहीं करेंगे प्रशांत किशोर, मांझी-कुशवाहा की बैठक में भी नहीं बनी बात
गुरुवार को प्रशांत किशोर ने महागठबंधन के नेताओं के साथ बैठक की थी. (फाइल फोटो)

महागठबंधन (Mahagathbandhan) के नेताओं के साथ बैठक कर प्रशांत किशोर (Prashant Kishor) ने घटक दलों के नेता उपेन्द्र कुशवाहा, जीतन राम मांझी और मुकेश साहनी को किसी भी तरह की मदद से इनकार किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 21, 2020, 12:36 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. बिहार में इस साल विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election 2020) हैं, जिसके मद्देनजर सियासी सरगर्मियां बढ़ी हुई हैं. चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर (Prashant Kishor) की आमद से इसमें और गर्माहट महसूस की जा रही है. नीतीश कुमार (Nitish Kumar) से अलग होने के बाद पीके के महागठबंधन (Mahagathbandhan) के साथ जाने की बातें सियासी गलियारों में खूब उठी थीं, लेकिन गुरुवार को नई दिल्ली में हुई बैठक से इन चर्चाओं को विराम लग गया. प्रशांत किशोर के साथ हुई इस बैठक में महागठबंधन की ओर से रालोसपा नेता उपेंद्र कुशवाहा, हम के प्रमुख जीतनराम मांझी और वीआईपी नेता मुकेश सहनी मौजूद थे. सूत्रों का दावा है कि किशोर ने इस बैठक में साफ कर दिया कि वे महागठबंधन के नेताओं की कोई मदद नहीं करेंगे. आपको बता दें कि प्रशांत किशोर ने 'बात बिहार की' नाम से अभियान शुरू किया है, जिसके बाद उनके महागठबंधन के साथ जुड़ने की चर्चाएं थीं.

महागठबंधन के नेताओं को ही जुड़ने का न्योता
गुरुवार की शाम दिल्ली में महागठबंधन के घटक दलों की जो बैठक हुई, उसमें आरएलएसपी, हम और वीआईपी के नेताओं की मौजूदगी रही. इस बैठक की जो तस्वीर सामने आई, उसमें आरएलएसपी अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा के साथ उनकी पार्टी के प्रधानसचिव माधव आनंद, बिहार के पूर्व सीएम और हम पार्टी सुप्रीमो जीतनराम मांझी, वीआईपी के अध्यक्ष मुकेश सहनी मौजूद थे. इसी दौरान जानकारी मिली कि बैठक में प्रशांत किशोर भी पहुंच गए हैं. बताया गया कि बैठक में बिहार की सियासत पर चर्चा हुई है. बैठक में प्रशांत किशोर ने इन नेताओं से कहा कि अगर वे लोग उनसे जुड़ना चाहते हैं, तो जुड़ सकते हैं. पीके ने तीनों नेताओं से यह भी कहा कि वे बिहार की बेहतरी के लिए काम करेंगे और फिलहाल कोई पार्टी बनाने नहीं जा रहे हैं.

सीएम के उम्मीदवार पर हो रहा था मंथन



बैठक में बिहार में सीएम उम्मीदवार की चर्चा होने की जानकारी मिल रही थी. इसके अलावा इन घटक दलों के नेताओं की दिल्ली में कांग्रेस के बड़े नेताओं से भी बिहार की वर्तमान राजनीति पर चर्चा करने की के लिए मुलाकात की योजना थी. बैठक में प्रशांत किशोर के महागठबंधन से जुड़ने और बाद में मदद न करने की बातें तो सामने आ गई, लेकिन सहयोगी दलों के बीच में आपस में क्या बातें हुईं, इसका पता नहीं चला है. बहरहाल, नीतीश कुमार से अलग होकर प्रशांत किशोर किस दल या नेता के साथ चुनावी रणनीति बनाएंगे, यह आने वाला समय ही बताएगा.



बिहार में शुरू किया 'बात बिहार की' कार्यक्रम
चुनावी रणनीतिकार और जेडीयू के पुर्व राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर ने बिहार में 'बात बिहार की' कार्यक्रम (Prashant Kishore) उर्फ पीके के कार्यक्रम 'बात बिहार की' कार्यक्रम की शुरूआत की है. इसकी शुरूआत के बाद से ही उन्हें काफी सकारात्मक सपोर्ट मिल रहा है. इसकी शुरूआत 20 फरवरी को हुई थी. बताया जा रहा है कि कार्यक्रम से जुड़ने वालों की संख्या 3 लाख 32 हजार को पार कर गई थी.

ये भी पढ़ें: 

प्रशांत किशोर की 'बात बिहार की' जबरदस्त हिट! जानें किन जिलों में मिल रहा...

दिल्ली में महागठबंधन के दलों की बैठक, प्रशांत किशोर भी पहुंचे

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 21, 2020, 12:02 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading