अपना शहर चुनें

States

क्या नीतीश कुमार की परमिशन से ममता के लिए काम करने पर राज़ी हुए प्रशांत किशोर?

नीतीश कुमार और प्रशांत किशोर (फाइल फोटो)
नीतीश कुमार और प्रशांत किशोर (फाइल फोटो)

कुछ दिन पहले ही प्रशांत किशोर ने पटना और दिल्ली में नीतीश कुमार से मुलाकात की थी.

  • Share this:
जेडीयू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर अब ममता बनर्जी की पार्टी टीएमसी के लिए काम करेंगे और पश्चिम बंगाल में बीजेपी के खिलाफ चुनावी रणनीति बनाएंगे. सीएनएन न्यूज 18 के मुताबिक, प्रशांत किशोर ने टीएमसी के साथ अगले विधानसभा चुनाव में काम करने का समझौता कर लिया है. प्रशांत किशोर ने बाकायदा टीएमसी के साथ कांट्रैक्ट भी साइन किया है और आने वाले पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनावों में वह बतौर रणनीतिकार ममता के लिए काम करेंगे. जाहिर है प्रशांत किशोर के इस फैसले के बाद एक अहम सवाल भी खड़ा हो रहा है.

सवाल ये कि क्या इसके लिए नीतीश कुमार ने भी उनको सहमति दे दी है? दरअसल, ये सवाल इसलिए खड़ा हो रहा है क्योंकि कुछ दिन पहले ही प्रशांत किशोर ने पटना और दिल्ली में नीतीश कुमार से मुलाकात की थी. इसके बाद ही उनके ममता बनर्जी के लिए काम करने की खबरें सामने आईं हैं.

ये भी पढ़ें- ममता बनर्जी के साथ प्रशांत किशोर! JDU बोली- बिना नीतीश कुमार की इजाजत के संभव नहीं



गुरुवार को जेडीयू प्रवक्ता अजय आलोक ने न्यूज 18 से बात करते हुए कहा कि प्रशांत किशोर पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हैं. ऐसे में इस तरह की कोई भी बात बिना राष्ट्रीय अध्यक्ष की इजाजत के संभव नहीं है.
जाहिर है जेडीयू में वही होगा जो नीतीश कुमार चाहेंगे. ऐसे में यह सवाल उठना लाजिमी है कि क्या नीतीश कुमार ने ही प्रशांत किशोर को ऐसा करने के लिए कहा है.

ये भी पढ़ें- नीतीश को 'नो फैक्टर' कहने वाली RJD क्यों गिड़गिड़ा रही है?

मोदी मंत्रिपरिषद में जेडीयू के शामिल नहीं होने के बाद जिस तरह से जेडीयू और बीजेपी के बीच तल्खी बढ़ी है. इससे भी कयास लगाए जा रहे हैं कि हाल में प्रशांत किशोर की नीतीश कुमार से दो बार मुलाकात के बाद कहीं उन्‍होंने (नीतीश) ही इस पर सहमति दे दी है क्या?

बता दें कि प्रशांत किशोर पीएम मोदी, जेडीयू, यूपी विधानसभा चुनाव में एसपी और कांग्रेस, पंजाब कांग्रेस और वाईएसआर कांग्रेस के लिए भी रणनीति बनाने का काम कर चुके हैं.

गौरतलब है कि हाल में ही प्रशांत किशोर और उनकी टीम ने आंध्र प्रदेश में वाईएसआर कांग्रेस के लिए रणनीति बनाई थी. इसमें उन्हें जबरदस्त सफलता भी हासिल हुई. आंध्र में जहां जगन मोहन रेड्डी अपार बहुमत के साथ मुख्यमंत्री बने. वहीं, उनकी पार्टी 25 लोकसभा सीटों में 22 पर जीतने में कामयाब रही है.

ये भी पढ़ें-
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज