Home /News /bihar /

prashant kishor remember jdu days say relation with nitish kumar just like father and son know more nodmk3

मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार को लेकर छलका प्रशांत किशोर का दर्द, बोले- पिता-पुत्र जैसा था हमारा संबंध

प्रशांत किशोर ने मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार के साथ रिश्‍तों को लेकर बड़ा बयान दिया है. (न्‍यूज 18 हिन्‍दी)

प्रशांत किशोर ने मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार के साथ रिश्‍तों को लेकर बड़ा बयान दिया है. (न्‍यूज 18 हिन्‍दी)

Prashant Kishor Latest Update: प्रशांत किशोर ने गुरुवार को बिहार में अपनी भावी योजनाओं के बारे में जानकारी दी. इस मौके पर उन्‍होंने मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार से अपने संबंधों और जेडीयू से बाहर किए जाने के मसले पर भी बड़ा बयान दिया है. प्रशांत किशोर बिहार में जन सुराज कैंपेन चलाने वाले हैं.

अधिक पढ़ें ...

पटना. चुनाव रणनीतिकार से सक्रिय राजनीति में कदम रखने के प्रयास में जुटे प्रशांत किशोर ने गुरुवार को कई मसलों पर अपना रुख स्‍पष्‍ट किया. राजनीतिक पार्टी का गठन करने से लेकर मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार के साथ रिश्‍तों और जनता दल यूनाइटेड (JDU) से बाहर किए जाने तक के मुद्दों पर उन्‍होंने अपनी राय रखी. उन्‍होंने कहा कि नीतीश कुमार से उनका संबंध पिता-पुत्र जैसा था. वह जितने दिन भी नीतीश कुमार के साथ रहे, उनका मुख्‍यमंत्री से इसी तरह का रिश्‍ता रहा. बता दें कि प्रशांत किशोर वर्ष 2015 के बिहार विधानसभा चुनाव में नीतीश कुमार और लालू यादव को एक मंच पर लाने में सफल रहे थे. उस चुनाव में महागठबंधन ने प्रचंड बहुमत के साथ सत्‍ता में वापसी की थी.

प्रशांत किशोर ने कहा, ‘जितने दिन नीतीश कुमार और मैं साथ में रहे, हमारा संबंध पिता-पुत्र जैसा रहा. इसका मतलब यह नहीं है कि मैं उनसे अलग विचारधारा और सोच नहीं रख सकता.’ JDU से हटाने के मुद्दे पर पीके ने कहा, ‘मुझे CAA और NRC के मुद्दे पर पार्टी (जदयू) से हटाया गया. नीतीश जी की पार्टी और उन्‍होंने मुझे निकाल दिया था.’ उन्‍होंने आगे कहा कि बिहार के लिए कुछ बड़ा करने के लिए जीरो से शुरुआत करने की कोशिश करना चाहता हूं. यह कठिन है…आसान नहीं. बता दें कि वर्ष 2015 के विधानसभा चुनाव में महागठबंधन को बड़ी जीत हासिल हुई थी. इसमें प्रशांत किशोर की बड़ी भूमिका मानी जाती है. इसके बाद पीके को जदयू में शामिल कर उन्‍हें पार्टी का राष्‍ट्रीय उपाध्‍यक्ष बनाया गया था. बाद में जेडीयू ने बीजेपी के साथ मिलकर सरकार बना ली और कुछ समय बाद प्रशांत क‍िशोर को पार्टी से निकाल दिया गया था.

प्रशांत किशोर ने राजनीतिक पार्टी बनाने के लिए तय की शर्त, पश्चिम चंपारण से निकालेंगे 3000 KM लंबी पदयात्रा 

लालू यादव पर तंज
प्रशांत किशोर ने लगे हाथ पूर्व मुख्‍यमंत्री लालू प्रसाद यादव और मौजूदा मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार पर तंज कसने से भी नहीं चूके. दरअसल, लालू यादव और नीतीश कुमार द्वारा तवज्‍जो न देने के सवाल पर उन्‍होंने कहा कि ये दोनों बिहार ही नहीं, बल्कि देश के बड़े नेता हैं. ऐसे में ये मुझे क्‍यों तवज्‍जों देंगे. इसके साथ ही प्रशांत किशोर ने कहा कि मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार को 7 निश्‍चय योजनाओं पर श्‍वेत पत्र लाना चाहिए. सात निश्‍चय क्‍यों पूरा नहीं हुआ, उन्‍हें लोगों को यह बताना चाहिए. प्रशांत किशोर ने कहा कि उन्‍होंने लागों से बात कर के सात निश्‍चय तय किया था. इसे लागू करने का काम सरकार का है.

प्रशांत किशोर करेंगे पदयात्रा
प्रशांत किशोर ने बिहार में जन सुराज अभियान चलाने की बात कही है. साथ उन्‍होंने कहा कि वह 2 अक्‍टूबर को पश्चिम चंपारण से 3000 किलोमीटर तक की पदयात्रा पर निकलेंगे. इस दौरान वह लोगों से मुलाकात कर उनकी राय जानेंगे. उन्‍होंने कहा कि यदि लोगों की इच्‍छा होगी कि राजनीतिक दल का गठन किया जाए तो पार्टी बनाई जाएगी, लेकिन यह पार्टी प्रशांत किशोर की नहीं, बल्कि सबलोगों की होगी. फिलहाल उन्‍होंने राजनीतिक दल के गठन की संभावना को नकार दिया है.

Tags: Chief Minister Nitish Kumar, Prashant Kishor

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर