लाइव टीवी

PK के ट्वीट पर BJP बोली- अपनी TRP बढ़ा रहे, कांग्रेस बोली- सुशील मोदी का इस्तीफा लें CM नीतीश

RaviS Narayan | News18 Bihar
Updated: January 25, 2020, 2:26 PM IST
PK के ट्वीट पर BJP बोली- अपनी TRP बढ़ा रहे, कांग्रेस बोली- सुशील मोदी का इस्तीफा लें CM नीतीश
प्रशात किशोर के सुशील मोदी पर ट्वीट के बाद बिहार की सियासत गर्म हो गई है.

जेडीयू के सांसद ललन सिंह ने कहा कि प्रशांत किशोर राजनीति और व्यापार साथ करते हैं. दोनों को घालमेल करेंगे तो कैसे चलेगा. सुशील मोदी हमारे पुराने साथी हैं और प्रशांत किशोर तो अभी आये हैं.

  • Share this:
पटना. जेडीयू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर (Prashant Kishor) के ताजा ट्वीट ने बिहार की सियासत में हंगामा मचा दिया है. पीके ने बिहार के डिप्टी सीएम सुशील मोदी (Sushil Modi) पर  लोगों को कैरक्टर सर्टिफिकेट देने वाला बताते हुए क्रोनोलॉजी देखने की बात कही है. इसके तहत उन्होंने अपने ट्वीट में सुशील मोदी का पुराना वीडियो भी अपलोड किया है जिसमे सुशील मोदी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) के डीएनए पर सवाल उठा रहे हैं. ये वीडियो तब का है जब बीजेपी का जेडीयू से गठबंधन टूट गया था और वह विपक्ष में थी. पीके द्वारा इस ट्वीट के शेयर किए जाने के बाद से ही वे बीजेपी नेताओं के निशाने पर आ गए हैं.

बीजेपी अध्यक्ष से लेकर प्रवक्ता तक ने निकाली भड़ास
बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल ने प्रशांत किशोर को पैसे लेकर राजनीति करने वाला बताते हुए कहा,  कुछ नेताओं की बड़े नेताओ पर टिप्पणी कर अपनी टीआरपी बढ़ाने की आदत होती है. जो लोग पैसों को लेकर राजनीति करते हैं उनके बारे में हम राजनीतिक टिप्पणी नही करते. जो पैसा देगा उसके पीके लाउडस्पीकर बनेंगे, यही है बिज़नेस की पॉलिसी. हमारा स्टैंड क्लीयर है कि हमलोग उनलोगों की चिंता नहीं करते जो पैसा लेकर काम करते हैं.

निखिल आनंद में बताया भाड़े का टट्टू

प्रशांत किशोर के ट्वीट पर बीजेपी प्रवक्ता निखिल आनंद ने भड़ास निकलते हुए जमकर कोसा. निखिल ने प्रशांत किशोर को भाड़े का टट्टू बताते हुए पोलिटिकल एजेंट बताते हुए कहा वो सिर्फ पैसे के लिए काम करते हैं.पहले नीतीश कुमार की मर्सी पर काम करते थे अब लालू के पेरोल पर राजनीति कर रहे हैं.

जेडीयू सांसद ने पीके को कहा व्यापारी
वहीं जेडीयू के सांसद ललन सिंह ने कहा कि प्रशांत किशोर राजनीति और व्यापार साथ करते हैं. दोनों को घालमेल करेंगे तो कैसे चलेगा. सुशील मोदी हमारे पुराने साथी हैं और प्रशांत किशोर तो अभी आये हैं. CAA में किस बात का विरोध है ये तो कोई बताये. बिहार में क्या लागू होगा ये तय नीतीश कुमार करेंगें प्रशांत किशोर नहीं.प्रशांत किशोर को मिला कांग्रेस का साथ
प्रशांत किशोर के ट्वीट पर मचे घमासान के बीच कांग्रेस ने पीके के समर्थन में उतरते हुए सुशील मोदी के इस्तीफा मांगा है. कांग्रेस नेता प्रेमचन्द्र मिश्रा ने कहा कि इस ट्वीट के पास सुशील मोदी को एक मिनट भी पद पर बने रहने का अधिकार नहीं है. सुशील मोदी पूरी तरह एक्सपोज हो गए हैं. नीतीश कुमार को चाहिए कि मोदी को पद से तत्काल हटाये.

बता दें कि सुशील मोदी ने 22 जनवरी को एक ट्वीट किया था जिसमें उन्होंने लिखा था, 'नीतीश कुमार जी के साथ यह विडंबना अक्सर होती है कि अपनी उदारतावश वो जिनको फर्श से उठाकर अर्श पर बिठाते हैं, वो ही उनके लिए मुसीबत बनने लगते हैं. उन्होंने किसी को अपनी कुर्सी दी, कितनों को राज्यसभा का सदस्य बनवाया, किसी को गैर-राजनीतिक गलियों से उठाकर संगठन में ऊंचा ओहदा दे दिया, लेकिन इनमें से कुछ लोगों ने थैंकलेस होने से गुरेज नहीं किया. राजनीति में भी हमेशा सब जायज नहीं होता है.'

सुशील मोदी के इसी ट्वीट का जवाब देते हुए प्रशांत किशोर (PK) ने तंज भरे अंदाज में टिप्पणी की और एक वीडियो शेयर किया है. इसमें सुशील मोदी कहते दिख रहे हैं कि नीतीश कुमार अपने आप को बिहार का पर्याय समझने लगे हैं. लेकिन, नीतीश इज नॉट बिहार एंड बिहार इज नॉट नीतीश कुमार जो लोग इंदिरा गांधी की तर्ज पर इंदिरा इज इंडिया, इंडिया इज इंदिरा... वो जमाना चला गया.



सुशील मोदी इस वीडियो में आगे कहते हैं, नीतीश के डीएनए में विश्वासघात है, धोखाधड़ी है. उन्होंने जिस तरह से जीतन राम मांझी को धोखा दिया. जिस तरह से 17 साल की दोस्ती के बाद बीजेपी को धोखा दिया. जिस प्रकार से बिहार की जनता के जनादेश के साथ विश्वासघात किया. जिस व्यक्ति ने शिवानंद तिवारी से लेकर जॉर्ज फर्नांडीस तक के साथ विश्वासघात किया. लालू यादव के साथ धोखा दिया. ये विश्वासघात या धोखाधड़ी, यह नीतीश कुमार का डीएनए है न कि बिहार के लोगों का डीएनए है.

ये भी पढ़ें

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 25, 2020, 2:25 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर