लाइव टीवी

प्रशांत किशोर ने नीतीश के विकास मॉडल को किया खारिज, पहले पिता जैसा बताया फिर चुन-चुनकर निकाली खामियां
Patna News in Hindi

News18 Bihar
Updated: February 18, 2020, 12:28 PM IST
प्रशांत किशोर ने नीतीश के विकास मॉडल को किया खारिज, पहले पिता जैसा बताया फिर चुन-चुनकर निकाली खामियां
प्रशांत किशोर ने बिहार में विकास के सीएम नीतीश कुमार के दावे को गलत कहा. (फाइल फोटो)

पीके (Prashant Kishor) ने कहा, नीतीश कुमार (Nitish Kumar) बिहार (Bihar) को विकसित राज्य नहीं बना पाए. मैं बिहार में लंबे समय तक रहूंगा और 2020 से नया कार्यक्रम शुरू करुंगा. 'बात बिहार की' नाम से युवाओं को जोड़ूंगा जो बिहार के विकास के लिए काम कर सके

  • News18 Bihar
  • Last Updated: February 18, 2020, 12:28 PM IST
  • Share this:
पटना. चुनावी रणनीतिकार के तौर पर पहचान बना चुके प्रशांत किशोर (Prashant Kishor) क्या अब बिहार (Bihar) में नई भूमिका की तलाश में हैं? दरअसल ये सवाल इसलिए क्योंकि बीते 29 जनवरी को जेडीयू (JDU) से निष्कासित किए जाने के बाद मंगलवार को जब वो पटना पहुंचे तो उन्होंने सीएम नीतीश कुमार (Nitish Kumar) की दुखती रग पर हाथ रख दी और कहा कि बिहार में 2005 के बाद से अब तक कोई विकास नहीं हुआ है. जाहिर है पीके का निशाना सीधे तौर पर नीतीश कुमार (Nitish Kumar) रहे क्योंकि बिहार के मुख्यमंत्री अपने किए कार्यों का हवाला देकर ही अक्सर राज्य के विकास के दावे करते रहे हैं, लेकिन पीके ने उनके दावे को एक झटके में खारिज कर दिया.

पीके ने कहा, नीतीश कुमार बिहार को विकसित राज्य नहीं बना पाए. मैं बिहार में लंबे समय तक रहूंगा और 2020 से नया कार्यक्रम शुरू करुंगा. 'बात बिहार की' नाम से युवाओं को जोड़ूंगा जो बिहार के विकास के लिए काम कर सके. उन्होंने कहा कि बिहार देश के सबसे गरीब राज्यों में से है. वर्ष 2005 से लेकर 2015 का डेटा देखने पर पता चलता है कि राज्य अभी भी वहीं खड़ा है. बिहार में पिछले 15 वर्षों में विकास हुआ है, लेकिन विकास के अधिकतर मानकों पर बिहार अभी भी पिछड़ा है.

'बिहार में वैसा विकास नहीं हुआ, जैसा होना चाहिए'

प्रशांत किशोर ने कहा कि बिहार में नीतीश कुमार ने छात्रों को साइकल बंटवाई, स्कूल बनवाए लेकिन शिक्षा व्यवस्था अच्छी नहीं हुई. कई तरह के समझौते करने के बाद भी बिहार में वैसा विकास नहीं हुआ, जैसा होना चाहिए था. पटना यूनिवर्सिटी को केंद्रीय विश्वविद्यालय का दर्जा देने के लिए नीतीश जी ने मांग की थी, इस पर केंद्र की तरफ से कोई जवाब नहीं आया. मैं बिहार को आगे लेकर जाने के लिए जो भी जरूरत होगी करूंगा, इसमें कितना भी वक्त लगे, मैं दूंगा.



पीके ने कहा कि मैं अगले दो दिन में 'बात बिहार की' के माध्यम से पूरे राज्य से युवाओं को जोड़ूंगा. दो लाख 93 हजार लड़के हमारे साथ जुड़ चुके हैं. 10 लाख लड़कों को जोड़ने की योजना है. अगले 10 साल में बिहार को आगे लेकर जाने के लिए एक सशक्त नेतृत्व की जरूरत है.

प्रशांत किशोर ने पटना में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के बीजेपी के साथ बने रहने पर सवाल उठाए


उन्होंने सीएम नीतीश पर निशाना साधते हुए कहा कि 2014 के नीतीश के लिए मेरे मन में ज्यादा सम्मान है. वो बिहार के 10 करोड़ लोगों के नेता हैं, उन्हें किसी बाहरी शख्स का पिछलग्गू नहीं बनना चाहिए. नीतीश जी के साथ मेरी चर्चा गांधीजी के विचारों को लेकर होती रही है. हम दोनों के बीच मतभेद रहा है कि गांधी और गोडसे साथ नहीं चल सकते.

'नीतीश कुमार पिता समान, मुझे बेटे की तरह रखा'

नीतीश कुमार मेरे पिता के समान हैं. उन्होंने हमेशा मुझे अपने बेटे की तरह रखा. उनके लिए मेरे मन में आदर है. पार्टी में नहीं रखना उनका निजी फैसला है. उन्होंने कहा कि किसी राजनीतिक पार्टी या गठबंधन को बनाने में मेरी दिलचस्पी नहीं है. प्रशांत किशोर ने कहा कि उनके नीतीश कुमार से दो बातों पर खास मतभेद रहे हैं. सीएम नीतीश, गांधी, लोहिया और जेपी (जय प्रकाश) की बातों को मानने की बातें करते रहे हैं. जब वो ऐसी बातें करते हैं तो वो गोडसे की विचारधारा के साथ कैसे खड़े हैं. दोनों बात नहीं होनी चाहिए इस बात को लेकर मेरे और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार में विचार-विमर्श होते रहे हैं.

उन्होंने कहा कि दूसरा मतभेद जेडीयू और बीजेपी के साथ संबंधों की पोजिशनिंग को लेकर रही है. पहले भी साथ रहे हैं बीजेपी के साथ, लेकिन आज की स्थिति में पहले से काफी अंतर है. प्रशांत किशोर को कोई दूसरी पार्टी का नेता कैसे डिप्युट कर सकता है. बिहार के नेता नीतीश कुमार कोई मैनेजर नहीं हैं. उन्होंने सवाल उठाया कि आखिर कोई दूसरी पार्टी का नेता मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के लिए कैसे ये बात कह सकता है कि वो नीतीश के नेतृत्व में ही चुनाव लड़ेंगे

ये भी पढ़ें-


प्रशांत किशोर का CM नीतीश पर प्रहार, कहा- पिछलग्गू नेतृत्व से नहीं बदलेगा बिहार का भविष्य




राज्यसभा जाने को लालू दरबार में महारथी टेक रहे मत्था! ये हैं 5 'खास' दावेदार     

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 18, 2020, 12:07 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर