लाइव टीवी

प्रशांत किशोर बोले- नीतीशजी कहते हैं राजनीति में समझौते करने पड़ते हैं
Patna News in Hindi

News18 Bihar
Updated: February 18, 2020, 1:56 PM IST
प्रशांत किशोर बोले- नीतीशजी कहते हैं राजनीति में समझौते करने पड़ते हैं
चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर को सीएम नीतीश कुमार पहले ही पार्टी से निकाल चुके हैं. (फाइल फोटो)

चुनावी रणनीतिकार के तौर पर पहचाने जाने वाले प्रशांत किशोर (Prashant Kishor) ने मंगलवार को कहा कि, 'नीतीश कुमार (Nitish Kumar) जी कहते हैं कि राजनीति में समझौते करने पड़ते हैं'. नीतीश कहते हैं, अगर बिहार का विकास हो रहा है तो झुकने में कोई हर्ज नहीं है,

  • Share this:
पटना. चुनावी रणनीतिकार के तौर पर पहचाने जाने वाले प्रशांत किशोर (Prashant Kishor) ने मंगलवार को कहा कि, 'नीतीश कुमार (Nitish Kumar) जी कहते हैं कि राजनीति में समझौते करने पड़ते हैं'. नीतीश कहते हैं, अगर बिहार का विकास हो रहा है तो झुकने में कोई हर्ज नहीं है, लेकिन क्या बिहार में विकास हो गया है?

प्रशांत किशोर ने सवाल उठाया कि क्या बिहार को विशेष राज्य का दर्जा मिल गया? पटना यूनिवर्सिटी को केंद्रीय विश्वविद्यालय का दर्जा तक नहीं मिला. बिहार का विकास हुआ है यह मानता हूं, लेकिन विकास की गति और आयाम ऐसा नहीं है जिससे लगे कि बिहार में आमूल-चूल परिवर्तन हुआ हो.

अधिकतर मानकों पर बिहार अभी भी पिछड़ा राज्य है
इसके साथ ही तल्ख तेवर में प्रशांत ने कहा कि, नीतीश कुमार, बिहार को विकसित राज्य नहीं बना पाए. मैं बिहार में लंबे समय तक रहूंगा और 2020 से 'बात बिहार की' नाम से नया कार्यक्रम शुरू करुंगा. युवाओं को जोड़ूंगा, जो बिहार के विकास के लिए काम कर सकें. उन्होंने कहा कि बिहार देश के सबसे गरीब राज्यों में से है. वर्ष 2005 से लेकर 2015 का डेटा देखने पर पता चलता है कि राज्य अभी भी वहीं खड़ा है. बिहार में पिछले 15 वर्षों में विकास हुआ है, लेकिन विकास के अधिकतर मानकों पर बिहार अभी भी पिछड़ा है.



'बिहार में वैसा विकास नहीं हुआ, जैसा होना चाहिए था'
प्रशांत किशोर ने कहा कि, 'बिहार में नीतीश कुमार ने छात्रों को साइकिल बंटवाई, स्कूल बनवाए लेकिन शिक्षा व्यवस्था अच्छी नहीं हुई. कई तरह के समझौते करने के बाद भी बिहार में वैसा विकास नहीं हुआ, जैसा होना चाहिए था. नीतीश जी ने पटना यूनिवर्सिटी को केंद्रीय विश्वविद्यालय का दर्जा देने के लिए मांग की थी, इस पर केंद्र की तरफ से कोई जवाब नहीं आया. मैं बिहार को आगे लेकर जाने के लिए जो भी जरूरत होगी करूंगा, इसमें कितना भी वक्त लगे, मैं दूंगा.'

राज्य से 10 लाख युवाओं को जोड़ेंगे प्रशांत 
उन्होंने कहा कि, वे अगले दो दिन में 'बात बिहार की' के माध्यम से पूरे राज्य से युवाओं को जोड़ेंगे. दो लाख 93 हजार युवा हमारे साथ जुड़ चुके हैं. 10 लाख युवाओं को जोड़ने की योजना है. अगले 10 साल में बिहार को आगे लेकर जाने के लिए एक सशक्त नेतृत्व की जरूरत है.

ये भी पढ़ें - 

RJD ने लगाए पोस्टर, लिखा- 'पंद्रह साल में पचपन घोटाले' का जवाब दे नीतीश सरकार

केंद्र सरकार को कम से कम अब हमसे बात करनी चाहिए: शाहीन बाग के प्रदर्शनकारी

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 18, 2020, 1:26 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर