प्रशांत किशोर की 'बात बिहार की' जबरदस्त हिट! जानें किन जिलों में मिल रहा बड़ा समर्थन
Patna News in Hindi

प्रशांत किशोर की 'बात बिहार की' जबरदस्त हिट! जानें किन जिलों में मिल रहा बड़ा समर्थन
प्रशांत किशोर का कार्यक्रम 'बात बिहार की' पहले ही दिन हिट

प्रशांत किशोर (Prashant Kishor) का 'बात बिहार की' कार्यक्रम उनलोगों के रजिस्ट्रेशन के साथ शुरू हुआ, जो इससे जुड़कर, समान विचारधारा वाले लोगों के एक समूह का हिस्सा बनना चाहते हैं.

  • Share this:
पटना. चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर (Prashant Kishore) उर्फ पीके के कार्यक्रम 'बात बिहार की' कार्यक्रम को काफी सपोर्ट मिल रहा है. 20 फरवरी को इसकी शुरुआत होने के साथ ही कार्यक्रम से जुड़ने वालों की संख्या तीन लाख 32 हजार को पार कर गई. विभिन्न जिलों में इस कार्यक्रम से जुड़नेवालों की संख्या पहले ही दिन इस तरह से सामने आई.

सबसे अधिक पटना में बने मेंबर
सबसे अधिक पटना में 27710, मुजफ्फरपुर में 14443, पूर्वी चंपारण में 11762, समस्तीपुर में 10931, सारण में 10636, वैशाली में 9405, सीवान में 9401, नालंदा में 9168, बेगूसराय 8575, भागलपुर 7391, भोजपुर 7721, बक्सर 5953, गोपालगंज में 6884 लोग इस कार्यक्रम से जुड़े.

इसी तरह रोहतास में 7573, पूर्णिया में 6310, सीतामढ़ी में 6863, औरंगाबाद में 5481, अररिया में 5129, सहरसा में 4798, सुपौल में 4852, बांका में 3107, जमुई में 3014, जहानाबाद में 3483, कैमूर में 3202, कटिहार में 4668, खगड़िया में 3751 लोग जुड़े.



वहीं, किशनगंज में 2354, लखीसराय में 3142, मधेपुरा में 4160, मधुबनी में 1909, मुंगेर में 3323, नवादा में 4761, पश्चिम चंपारण में 7139 लोग जुड़े. अरवल में 1946, शेखपुरा में 1874, शिवहर में 1511, लोग इस कार्यक्रम से जुड़े.



बिहार और बिहारी के लिए राजनीति
बता दें कि यह कार्यक्रम उनलोगों के रजिस्ट्रेशन के साथ शुरू हुआ, जो कार्यक्रम से जुड़कर, समान विचारधारा वाले लोगों के एक ऐसे समूह का हिस्सा बनना चाहते हैं, जो अगले 10-15 वर्षों में बिहार को देश के टॉप 10 राज्यों श्रेणी में लाकर उसे उसका सही सम्मान दिलाना चाहते हैं.

जेडीयू ने पॉलिटिकल टूरिस्ट कहा
बता दें कि प्रशांत किशोर ने जेडीयू से निकाले जाने के बावजूद पार्टी अध्यक्ष नीतीश कुमार को 'पितातुल्य' बताया है. यह बात दीगर है कि तुरंत बाद ही वे नीतीश सरकार के 15 साल के शासन की कमियां गिनाने लगे. हालांकि जेडीयू ने पलटवार करते हुए उन्हें पॉलिटिकल टूरिस्ट करार दे दिया.

ये भी पढ़ें - 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading