लाइव टीवी

...तो तेजस्वी यादव का 'पत्ता साफ'! शरद यादव बनेंगे महागठबंधन के सूत्रधार?

Anand Amrit Raj | News18 Bihar
Updated: February 13, 2020, 9:24 AM IST
...तो तेजस्वी यादव का 'पत्ता साफ'! शरद यादव बनेंगे महागठबंधन के सूत्रधार?
तेजस्वी यादव व शरद यादव (फाइल फोटो)

उपेन्द्र कुशवाहा ने साफ़-साफ़ कहा कि शरद यादव महागठबंधन (Grand Alliance) के चेहरा बनें इसमें कुछ भी बताने की क्‍या जरूरत है? शरद यादव (Sharad Yadav) नेचुरल चेहरा हैं.

  • Share this:
पटना. क्या महागठबंधन (Grand Alliance) के सूत्रधार शरद यादव (Sharad Yadav) बनेंगे? क्या महागठबंधन के नेताओं को तेजस्वी यादव का नेतृत्व कबूल नहीं है? ये सवाल तब से और उभरकर सामने आया है, जबसे बिहार के पूर्व सीएम जीतन राम मांझी ने दिल्ली में RJD की करारी हार के बाद इशारों में तेजस्वी यादव पर हमला बोला था. इसके बाद अचानक से एक बड़ी राजनीतिक घटना हुई जब पटना के एक होटल में शरद यादव, उपेन्द्र कुशवाहा और मुकेश सहनी की महत्वपूर्ण बैठक हुई.

बैठक में कई महत्वपूर्ण मसलों पर हुई थी चर्चा
जब NEWS 18 ने इस बैठक के बीच पहुंचकर तीनों नेताओं से एक साथ कुछ राजनीतिक सवाल किए तो जो जवाब मिला उससे ये संकेत मिले कि महागठबंधन के बड़े नेता शरद यादव की बड़ी भूमिका तैयार करने की कोशिश में लगे हुए हैं. इसी कड़ी में उपेन्द्र कुशवाहा, जीतन राम मांझी और मुकेश सहनी की मुलाकात हुई.

संकेत की भाषा कुछ कहती है!

हालांकि, इस मसले पर शरद यादव ने खुलकर तो कुछ नहीं कहा, लेकिन सांकेतिक भाषा में बड़ा इशारा करते दिखे. शरद यादव ने महागठबंधन को लीड करने के सवाल पर कहा कि दिल्ली ने नई राह दिखाई है, बिहार में भी इसका असर पड़ेगा. फ़िलहाल महागठबंधन का चेहरा कौन होगा, यह आम सहमति से तय किया जाएगा. राजनीति में ये सब बातें होती रहती हैं.

साफ-साफ बोले कुशवाहा
इसी बीच उपेन्द्र कुशवाहा ने साफ़-साफ़ कहा कि शरद यादव महागठबंधन के चेहरा बनें इसमें कुछ भी बताने की ज़रूरत क्या है? नेचुरल चेहरा हैं शरद जी. आज लालू जी बाहर रहते तो तब तो ठीक था. वह चेहरा रहते, लेकिन जब लालू जी बाहर नहीं हैं तो ऐसा चेहरा तो चाहिए और वो शरद जी हैं. कुशवाहा ने कहा कि रही बात मुख्यमंत्री पद के दावेदार की तो महागठबंधन में बाद में तय होगा.मुकेश सहनी ने बताया अभिभावक
महागठबंधन में शामिल विकासशील इंसान पार्टी के प्रमुख मुकेश सहनी ने भी साफ-साफ कहा कि शरद जी हमारे महागठबंधन के चेहरा बनें ये हम चाहते हैं. हम सब शरद जी से सीखते हैं और शरद जी की बात को भी सब लोग मानेंगे. वे महागठबंधन के अभिभावक जैसे हैं. शरद यादव ने कहा कि लोकतंत्र में छोटे से लेकर बड़े कार्यकर्ता तक कभी-कभी बड़ी सीख दे जाते हैं. गठबंधन में एकता बनी रहे ये हम चाहते हैं. अगर कोई विवाद कभी होता है, तब वे लोगों के साथ बैठेंगे और हर तरह की सेवा के लिए भी तैयार हैं.

उपचुनाव से बढ़ने लगी दूरी
गौरतलब है कि बिहार में कुछ महीने पहले जब उपचुनाव हुए थे तब तेजस्वी यादव ने अपने सहयोगियों के साथ मिल कर चुनाव लड़ने की जगह अकेले उम्मीदवार उतारा था. तभी से महागठबंधन के बड़े नेता नाराज़ बताए जाते हैं और कई बार तेजस्वी के अगुवाई में चुनाव लड़ने के सवाल पर विरोध के स्वर निकाल चुके हैं.

कांग्रेस ने भी दिखाए तेवर
कांग्रेस के बिहार प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल भी तेजस्वी यादव के मुख्यमंत्री उम्मीदवार के सवाल पर जवाब टालकर इसका संकेत दे चुके हैं. यही नहीं कांग्रेस ने सभी 243 सीटों पर चुनाव लड़ने की बात हवा में उछालकर एक नई सियासत भी शुरू कर दी है. बहरहाल, इन सियासी घटनाक्रमों के बीच महागठबंधन के भीतर तीन बड़े नेताओं का एक साथ मिलना और शरद यादव से महागठबंधन को लीड करने का आग्रह करना, तेजस्वी यादव और महागठबंधन के भविष्य के लिए बेहतर संकेत नहीं हैं.

ये भी पढ़ें

दिल्ली में RJD की हार पर मांझी ने उठाया कोआर्डिनेशन कमेटी बनाने का मुद्दा

दिल्ली चुनाव: RJD की 'मिट्टी पलीद', HAM की हेकड़ी गुम तो JDU-LJP ने बचाई इज्जत

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 13, 2020, 9:15 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर