राज्यसभा नेता पद छिनने के बाद अब शरद यादव को जेडीयू से निकालने की तैयारी!

ETV Bihar/Jharkhand
Updated: August 12, 2017, 11:39 PM IST
ETV Bihar/Jharkhand
Updated: August 12, 2017, 11:39 PM IST
जेडीयू के खिलाफ बगावत का झंडा बुलंद करने वाले शरद यादव की राजनीति को लेकर सवाल खड़े होने लगे हैं. तकनीकी रूप से अभी भी शरद यादव जेडीयू में ही हैं. लेकिन राजद के लालटेन को थामे शरद नीतीश कुमार और जेडीयू को लगातार चुनौती दे रहे है. लेकिन अब जेडीयू ने भी शरद के पर कतरने शुरू कर दिए हैं.

सूत्रों के मुताबिक, राज्य सभा से नेता पद से हटाने के बाद अब शरद यादव से राज्यसभा की सदस्यता लेने के साथ-साथ पार्टी से निकालने की तैयारी भी हो रही है. खाटी समाजवादी नेता शरद यादव की परेशानी लगातार बढ़ती ही जा रही है.

नीतीश के महागठबंधन से अलग होने और बीजेपी से मिलकर सरकार बनाने से एनडीए के लम्बे समय तक संयोजक रहे शरद इतने नाराज हो गए कि अब नीतीश का फैसला उन्हें बिहार की जनता से धोखा लग रहा है. पार्टी के खिलाफ बगावत का बिगुल फूंकने वाले शरद बिहार में दौरा कर नीतीश के फैसले के खिलाफ जनमत ले रहे हैं.

शरद को उम्मीद थी कि जेडीयू उनके साथ है. लेकिन इक्का दुक्का जेडीयू नेता छोड़कर अधिकांश जगहों पर राजद के नेता और कार्यकर्ता ही उनकी अगवानी कर रहे हैं. यानी शरद की राजनीति अब बिहार में राजद की राजनीति हो गई है.

शरद के इस कदम से उनके बेहद करीबी नेता भी हैरानी में है. इस मामले पर जेडीयू विधायक नरेंद्र नारायण यादव का कहना है कि पार्टी से बड़ा कुछ भी नहीं होता है, हम लोग विचार और नीति की वजह से पार्टी के साथ हैं. कई बार पार्टी में विभाजन हुआ है. ये एक प्रक्रिया है.

सूत्रों के मुताबिक, दरअसल शरद के तेवर पर जेडीयू की पैनी निगाह टिकी हुई है. शरद की राजनीति बिहार में एनडीए को झटका ना दे, इसे लेकर शरद के पर कतरने की तैयारी भी जेडीयू की तरफ से शुरू हो गई है.

सबसे पहले जेडीयू के तमाम सांसदों ने राज्यसभा के नेता पद से शरद यादव को हटाने के लिए वेंकैया नायडू को पत्र लिख कर दे दिया. वही आरसीपी सिंह को नए राज्यसभा के नेता बनाने की तैयारी भी हो चुकी है.

वही अगली कड़ी में शरद के राज्य सभा सीट को लेकर भी झटका देने की तैयारी चल रही है. जब शरद यादव से इस सवाल पर पूछा गया तो उन्होंने इस मामले पर चुप्पी साध ली. उन्होंने कहा कि जो भी चल रहा है वो मिथ्या प्रचार है. किसी भी प्रकार की कोई बात नहीं है.

वहीं एक तरफ शरद के पर कतरने की तैयारी अंतिम चरण में है. नीतीश कुमार को बीजेपी एनडीए में शामिल होने का ऑफर देने के साथ साथ एनडीए का कन्वेनर बनाने की तैयारी कर रही है. लेकिन शरद को लेकर कोई भी सवाल पर फिलहाल बीजेपी नेता इसे जेडीयू का मामला कह जवाब देने से कतराते नजर आ रहे है.

ये भी पढ़ें

NDA में शामिल होने पर जदयू को मिलेंगे 2 केंद्रीय मंत्री पद, नीतीश हो सकते हैं संयोजक
शरद यादव का नीतीश पर निशाना- जब इंदिरा गांधी से नहीं डरा तो इनसे कैसा डर?
First published: August 12, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर