होम /न्यूज /बिहार /Bihar Politics: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बिहार बीजेपी अध्यक्ष सम्राट चौधरी को क्या 'गुरु मंत्र' दिया?

Bihar Politics: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बिहार बीजेपी अध्यक्ष सम्राट चौधरी को क्या 'गुरु मंत्र' दिया?

नई दिल्ली के संसद भवन में पीएम नरेन्द्र मोदी से मिले बिहार भाजपा अध्यक्ष सम्राट चौधरी.

नई दिल्ली के संसद भवन में पीएम नरेन्द्र मोदी से मिले बिहार भाजपा अध्यक्ष सम्राट चौधरी.

Bihar News: बिहार भाजपा के अध्यक्ष सम्राट चौधरी ने अपनी नई दिल्ली यात्रा में पीएम नरेंद्र मोदी से गुरुमंत्र लिया. संसद ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से बिहार भाजपा अध्यक्ष सम्राट चौधरी ने मुलाकात की.
नई दिल्ली के संसद भवन में सोमवार को पीएम मोदी से मिले सम्राट चौधरी.
बिहार में BJP का परचम लहराने को पीएम मोदी से लिए पॉलिटिकल टिप्स.

नई दिल्ली/पटना. बिहार बीजेपी अध्यक्ष की जिम्मेदारी संभालने के बाद सम्राट चौधरी की प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मुलाकात हुई. अध्यक्ष पद पर आसीन होने के बाद प्रधानमंत्री के साथ ये उनकी पहली मुलाकात थी. सोमवार को संसद भवन में हुई मुलाकात के बाद बिहार बीजेपी अध्यक्ष सम्राट चौधरी ने मुलाकात के बाद न्यूज 18 से बातचीत करते हुए पीएम मोदी से मिले ‘गुरु मंत्र’ के बारे में बताया.

सम्राट चौधरी ने कहा कि पार्टी के संगठन को और मजबूत और धारदार बनाने के लिए कहा गया है. पार्टी को कैसे और मजबूत किया जा सकता है इस पर चर्चा हुई. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री जी की तरफ से कहा गया है कि संगठन को मजबूत कीजिए और सभी वर्गों को साथ जोड़ने के लिए फोकस कीजिए. सम्राट चौधरी ने कहा, नरेन्द्र मोदी जी को बिहार की जनता बहुत प्यार करती है.

गौरतलब है कि 2024 के लोकसभा चुनाव को ध्यान में रखकर बीजेपी ने कई राज्यों में अध्यक्ष बदले हैं. इनमें बिहार में सम्राट चौधरी को जिम्मेदारी दी गई है. प्रधानमंत्री से मुलाकात से पहले सम्राट चौधरी ने बिहार बीजेपी प्रभारी विनोद तावड़े से मुलाकात की. ये मुलाकात लगभग आधे घंटे तक चली. सूत्रों के मुताबिक इस बैठक में बिहार के मौजूदा राजनीतिक हालात पर चर्चा हुई. खासतौर से नीतीश कुमार के एनडीए से अलग होने के बाद बदले माहौल में लोकसभा चुनाव से ठीक पहले कैसे दूसरे छोटे दलों को साथ लाया जाए और किन दलों से गठबंधन किया जाए, इस पर विस्तार से चर्चा हुई है.

दरअसल, प्रभारी और अध्यक्ष की सबसे बड़ी चुनौती यही है कि 2019 के प्रदर्शन को कैसे 2024 में दोहराया जाए. इसके लिए बीजेपी चिराग पासवान, पशुपति पारस, उपेन्द्र कुशवाहा और मुकेश सहनी जैसे क्षेत्रीय नेताओं को साधना चाहती है. लेकिन, पार्टी के लिए सबसे बड़ी चुनौती होगी चिराग पासवान की LJPR और पशुपति पारस की RLJP दोनों को एक साथ एक मंच पर लाने की.

फिलहाल बीजेपी ने संगठन में कुशवाहा समाज से आने वाले ओबीसी समुदाय के सम्राट चौधरी को आगे कर पिछड़ा कार्ड खेला है. कोशिश नीतीश कुमार के लव कुश समीकरण को ध्वस्त करने की है. अब प्रधानमंत्री से ‘गुरु मंत्र’ लेकर बिहार लौटे सम्राट चौधरी पार्टी के एजेंडे को आगे कैसे बढ़ाते हैं इस पर सबकी नजरें टिकी रहेंगी.

Tags: Bihar BJP, Bihar News, Bihar politics, Pm narendra modi

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें